Saturday, July 2, 2022
Homeदेश-समाजNCP के गुंडों ने भाजपा प्रदेश प्रवक्ता को दफ्तर में घुस कर पीटा, कोई...

NCP के गुंडों ने भाजपा प्रदेश प्रवक्ता को दफ्तर में घुस कर पीटा, कोई गिरफ़्तारी नहीं: फेसबुक पर डाली थी कविता

वीडियो में देखा जा सकता है कि विनायक आंबेकर के साथ NCP कार्यकर्ता बहस कर रहे होते हैं, तभी सफ़ेद शर्ट पहने एक NCP कार्यकर्ता उन्हें थप्पड़ मार देता है।

महाराष्ट्र में NCP (राष्ट्रवादी कॉन्ग्रेस पार्टी) के गुंडों ने भाजपा के बुजुर्ग नेता विनायक आंबेकर की पिटाई की है। बताया जा रहा है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार के खिलाफ फेसबुक पोस्ट लिखने के लिए उन्होंने ऐसा किया। शरद पवार NCP के संस्थापक हैं और मौजूदा MVA (महा विकास अघाड़ी) सरकार का उन्हें सर्वेसर्वा माना जाता है। 81 वर्षीय शरद पवार तीन बार राज्य के मुख्यमंत्री रहे हैं। NCP कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी की भाजपा ने आलोचना की है।

इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिस पर टिप्पणी करते हुए केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने लिखा, “अभिव्यक्ति की आज़ादी के तथाकथित रक्षकों ने एक बुजुर्ग नागरिक की पिटाई की, एक महिला को सिर्फ इसीलिए गिरफ्तार कर लिया क्योंकि उसने अपने मन की बात कही थी। उनकी इन करतूतों पर उनके साथी पहले से तय चुप्पी साधे रहते हैं। वो अभिव्यक्ति की आज़ादी को कुचलते हैं।”

वीडियो में देखा जा सकता है कि विनायक आंबेकर के साथ NCP कार्यकर्ता बहस कर रहे होते हैं, तभी सफ़ेद शर्ट पहने एक NCP कार्यकर्ता उन्हें थप्पड़ मार देता है। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने भी इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा कि वो भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता पर NCP के गुंडों द्वारा हमले की निंदा करते हैं और दोषियों को तुरंत सज़ा दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा किविचारों की लड़ाई विचारों से लड़ी जानी चाहिए, लेकिन ये घटना राज्य सरकार में माफिया की शक्ति को बताती है।

हालाँकि, अभी तक महाराष्ट्र पुलिस ने इस घटना को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की है। हालाँकि, पुणे दफ्तर में उनके साथ हुई मारपीट के बाद उन्होंने खड़क पुलिस थाने में मामला दर्ज कराया है। उन्होंने बताया कि वरिष्ठ भाजपा नेताओं के फोन कॉल आने के बाद उन्होंने स्वेच्छा से ही अपनी फेसबुक पोस्ट की दो लाइनें हटा दी थीं, लेकिन एक योजना बना कर हमला हुआ और वीडियो वायरल किया गया। उन्होंने कहा कि वो एक कविता थी, जिसमें किसी का नाम नहीं लिखा गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नूपुर शर्मा पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी गैर-जिम्मेदाराना’: रिटायर्ड जज ने सुनाई खरी-खरी, कहा – यही करना है तो नेता बन जाएँ, जज क्यों...

दिल्ली हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज एसएन ढींगरा ने मीडिया में आकर बताया है कि वो सुप्रीम कोर्ट के जजों की टिप्पणी पर क्या सोचते हैं।

‘क्या किसी हिन्दू ने शिव जी के नाम पर हत्या की?’: उदयपुर घटना की निंदा करने पर अभिनेत्री को गला काटने की धमकी, कहा...

टीवी अभिनेत्री निहारिका तिवारी ने उदयपुर में कन्हैया लाल तेली की जघन्य हत्या की निंदा क्या की, उन्हें इस्लामी कट्टरपंथी गला काटने की धमकी दे रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,399FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe