Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाजभारत ने कतर से छीना विश्व रिकॉर्ड: 5 दिन से भी कम समय में...

भारत ने कतर से छीना विश्व रिकॉर्ड: 5 दिन से भी कम समय में 75km लंबा एक लेन का रोड बना NHAI ने बनाया कीर्तिमान, मंत्री गडकरी ने दी बधाई

इससे पहले यह रिकॉर्ड कतर के नाम था। कतर के लोक निर्माण प्राधिकरण ASHGHAL (कतर) ने पहले 27 फरवरी 2019 को ने 10 दिनों में यह रिकॉर्ड बनाया था। कतर के अल-खोर एक्सप्रेसवे पर इतने ही लंबे कार्य को 10 दिनों में पूरा किया गया था।

केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की सरकार में सड़क परिवहन एवं उच्च राजपथ मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने नेतृत्व में भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने एक नया कीर्तिमान बनाया है। NHAI ने मंगलवार (7 जून 2022) को पाँच दिन से भी कम समय में NH-53 राजमार्ग पर एक लेन की 75 किलोमीटर सड़क बिटुमिनस कंक्रीट से बनाया है। जिसके लिए इसका नाम ‘गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में दर्ज किया गया है।

केंद्रीय मंत्री ने इसको लेकर एक ट्वीट किया है। इस ट्वीट में उन्होंने एक वीडियो शेयर किया है। वीडियो में सड़कों के निर्माण के दौरान की गतिविधियों और उसके बाद कर्मचारियों की खुशियों एवं गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड की उपलब्धियों को दर्शाया गया है।

इसके साथ ही उन्होंने एक ट्वीट भी किया है, जिसमें सड़कों की तस्वीरें और सर्टिफिकेट की कॉपी है। उन्होंने ट्वीट में लिखा, “भारत को समृद्धि से जोड़ना! प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में #AzadiKaAmrutMahotsav के साथ अपने देश की समृद्ध विरासत का जश्न मनाते हुए।”

NH-53 राजमार्ग कोलकाता, रायपुर, नागपुर, अकोला, धुले और सुरत को आपस में जोड़ता है। इस राजपथ के अमरावती और अकोला सेक्शन के बीच इंजीनियरों ने पाँच दिन से भी कम समय में एक लेन का 75 किलोमीटर लंबा बिटुमिन कंक्रीट का सड़क बिछाकर यह कीर्तिमान स्थापित किया है।

इस रोड सेक्शन का निर्माण निजी ठेकेदार ‘राजपूत इंफ्राकॉन’ द्वारा किया गया है। इस खंड के निर्माण कार्य में लगभग 800 कर्मचारी और 700 मजदूर लगे हुए थे। अमरावती-अकोला राजमार्ग सेक्शन का निर्माण शनिवार (4 जून 2022) को सुबह छह बजे शुरू हुआ और मंगलवार (7 जून 2022) को पूरा हो गया।

NH-53 राजमार्ग भारत के खनिज संपदा से समृद्ध कई क्षेत्रों से होकर गुजरता है। बता दें कि ‘राजपूत इंफ्राकॉन’ ने पहली बार रिकॉर्ड नहीं बनाया है। इससे पहले इस निजी कंपनी ने 24 घंटे में सांगली और सतारा के बीच सड़क बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया था।

बता दें कि इससे पहले यह रिकॉर्ड कतर के नाम था। कतर के लोक निर्माण प्राधिकरण ASHGHAL (कतर) ने पहले 27 फरवरी 2019 को ने 10 दिनों में यह रिकॉर्ड बनाया था। कतर के अल-खोर एक्सप्रेसवे पर इतने ही लंबे कार्य को 10 दिनों में पूरा किया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -