Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजबीजेपी MLA को उड़ाने की घटना में 33 माओवादी थे शामिल, NIA ने दाखिल...

बीजेपी MLA को उड़ाने की घटना में 33 माओवादी थे शामिल, NIA ने दाखिल की चार्जशीट; 6 गिरफ्तार-22 फरार

पिछले साल अप्रैल 2019 में छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल (सीएएफ) के चार सुरक्षाकर्मियों के साथ भाजपा विधायक मांडवी की आईईडी विस्फोट में हत्या कर दी थी। इसके अलावा हमलावरों ने बलिदानी सीएएफ कर्मियों के हथियार और गोला-बारूद भी लूट लिए थे।

छत्तीसगढ़ में पिछले साल नक्सली हमले में मारे गए बीजेपी विधायक भीमा मंडावी की हत्या के मामले में नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) ने कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (माओवादी) के 33 कैडरों के खिलाफ चार्जशीट दायर कर दी है। आईपीसी, यूएपीए, आर्म्स एक्ट और विस्फोटक पदार्थ अधिनियम की कई धाराओं के तहत जगदलपुर की एक विशेष एनआईए अदालत में आरोप-पत्र दायर किया गया।

एनआईए के प्रवक्ता के अनुसार, 33 में से छह आरोपित- मडका राम ताती, भीम राम ताती, लिंगे ताती, लक्ष्मण जायसवाल, रमेश कुमार कश्यप और हरिपाल सिंह चौहान छत्तीसगढ़ दंतेवाड़ा के रहने वाले हैं, जिन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है। 5 आरोपितों की मौत हो चुकी है। शेष 22 फरार हैं। गिरफ्तार किए गए छह आरोपितों ने कथित रूप से नक्सलियों को आश्रय, भोजन, लॉजिस्टिक सहायता, बिजली के तार और स्टील के कंटेनर प्रदान किए थे।

पिछले साल अप्रैल 2019 में छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल (सीएएफ) के चार सुरक्षाकर्मियों के साथ भाजपा विधायक मांडवी की आईईडी विस्फोट में हत्या कर दी थी। इसके अलावा हमलावरों ने बलिदानी सीएएफ कर्मियों के हथियार और गोला-बारूद भी लूट लिए थे। इस घटना को लेकर एनआईए द्वारा 17 मई 2019 को मामला दर्ज किया गया था। लेकिन छत्तीसगढ़ की कॉन्ग्रेस सरकार द्वारा उठाए गए कुछ कानूनी मुद्दों के कारण 17 मार्च 2020 से पहले इसकी जाँच शुरू नहीं हो पाई थी।

एनआईए के एक अधिकारी के मुताबिक, मंडावी की हत्या का फैसला दिसंबर 2018 में पश्चिम बस्तर में दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी (डीकेएसजेडसी) की स्तर की बैठक में लिया गया था। दूसरी बार DKSZC के सदस्य और दर्भा डिवीजन के प्रभारी गिरी रेड्डी की अध्यक्षता में दक्षिण बस्तर के गोदरदास वन क्षेत्र में फरवरी 2019 के अंत में आयोजित एक अन्य बैठक में मांडवी के साथ-साथ अन्य राजनीतिक नेताओं और पुलिसकर्मियों की हत्या का निर्णय लिया गया। यह साजिश चुनावों को बाधित करने के उद्देश्य से टैक्टिकल काउंटर ऑफेंसिव कैंपेन (TCOC) के तहत रचा गया था।

दर्भा डिवीजन समिति के सचिव बड़ा देव को TCOC के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए प्रभारी नियुक्त किया गया था। श्यामगिरि गाँव में वार्षिक मेले के अवसर को हमले के लिए चुना गया था, क्योंकि माओवादी नेताओं को पता था कि कि प्रमुख राजनीतिक नेता इसमें भाग लेंगे।

सीपीआई (माओवादी) के कैडर ने श्यामगिरी गाँव के पास नकुलनार-बचेली मार्ग पर आईईडी लगाया। एनआईए अधिकारी के अनुसार, इस साजिश में उनके महासचिव नामबाला केशव राव सहित सीपीआई (माओवादी) के शीर्ष नेतृत्व की सक्रिय भागीदारी थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साँवरें के रंग में रंगी हरियाणा की तेजतर्रार महिला IPS भारती अरोड़ा, श्रीकृष्‍ण भक्ति के लिए माँगी 10 साल पहले स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने इस खबर की पुष्टि की है। उन्होंने बताया है कि अंबाला रेंज की आइजी भारती अरोड़ा ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है।

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe