NIA ने दर्ज किया मानव तस्करी का पहला मामला, बांग्लादेशी महिलाओं के यौन शोषण में 3 गिरफ़्तार

गिरफ्तार किए गए तीनों आरोपित पश्चिम बंगाल के रहने वाले हैं और अभी हैदराबाद में रह रहे थे। इनके कब्जे से पॉंच महिलाएँ मुक्त भी कराई गई हैं। तीनों पर सेक्स रैकेट चलाने का भी आरोप है।

राष्ट्रीय जॉंच एजेंसी (एनआईए) ने बांग्लादेशी महिलाओं की तस्करी और उनके यौन शोषण के मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। मोहम्मद यूसुफ खान, उसकी पत्नी बिठी बेगम और सोजिब के खिलाफ 17 सितंबर को एनआईए ने मामला दर्ज किया। ह्यूमन ट्रैफिकिंग अधिनियम के तहत एनआईए की यह पहली कार्रवाई है।

गिरफ्तार किए गए तीनों आरोपित पश्चिम बंगाल के रहने वाले हैं और अभी हैदराबाद में रह रहे थे। इनके कब्जे से पॉंच महिलाएँ मुक्त भी कराई गई हैं। तीनों पर सेक्स रैकेट चलाने का भी आरोप है। NIA द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, तीनों आरोपित हैदराबाद में वेश्यावृत्ति का रैकेट चला रहे थे।

गौरतलब है कि सीमा से सटे बांग्लादेशी जिलों की गरीब महिलाओं को दलाल लालच देकर अपने जाल में फॉंसते हैं। उन्हें गैर कानूनी तरीके से सीमा पार कराकर लाया जाता है। फिर भी इन महिलाओं को कोलकाता, मुंबई, गोवा सहित देश के अन्य हिस्सों में कोठों पर बेच दिया जाता है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बीते दशक में करीब 12-30 साल की 500,000 बांग्लादेशी महिलाएँ गैर कानूनी तरीके से भारत लाई गई हैं। बता दें कि मोदी सरकार यौनकर्मियों और मानव तस्करी से बचे लोगों को बैंकिंग सुविधाएँ प्रदान करने की योजना बना रही है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: