Saturday, October 23, 2021
Homeदेश-समाजBJP को सपोर्ट किया तो मिल रही गालियाँ और धमकियाँ, NIFT की छात्रा ने...

BJP को सपोर्ट किया तो मिल रही गालियाँ और धमकियाँ, NIFT की छात्रा ने बताया सब कुछ

@/fuckbjp के नाम से एक इंस्टाग्राम हैंडल द्वारा कई लोगों को डराया और धमकाया जा रहा है। यह हैंडल ऐसे लोगों को टारगेट करता है जो अपनी राजनीतिक विचारों में भाजपा का समर्थन करते हैं।

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ फैशन एंड टेक्नोलॉजी में पढ़ने वाली छात्रा अक्षरा ने ट्विटर के जरिए उनके साथ किए जा रहे मानसिक उत्पीड़न, धमकियों और गालियों को शेयर किया है। उन्होंने बताया कि ये सब उन्हें सोशल मीडिया पर बने कुछ अपमानजनक एकाउंट्स द्वारा भेजा जा रहा है।

साथ ही उन्होंने दावा किया कि यह सब उनकी राजनीतिक विचारधारा और बीजेपी को सपोर्ट करने की वजह से हो रहा है।

अपने ट्विटर अकाउंट से एक नोट को शेयर करते हुए, अक्षरा ने कहा कि उन्हें कई महीनों से धमकियों और गालियों से भरे मैसेज मिल रहे हैं। उन्होंने आगे शेयर किया है कि सोशल मीडिया पर उनके पर्सनल इन्फॉर्मेशन और फोन नंबर लीक हो जाने के बाद अलग-अलग नम्बरों से फोन कॉल भी आ रहे हैं।

अक्षरा ने कहा है कि उनके साथ कई महीनों से यह बदतमीजी और उत्पीड़न जारी है। उन्होंने कहा, “मैं पहले से ही मानसिक बीमारियों से पीड़ित थी और अब जिस तरह कुछ महीनों से मुझे टारगेट करके परेशान किया जा रहा है, उसने मेरी दिक्कतों को और बदतर बना दिया है।”

उन्होंने आगे कहा कि उत्पीड़न और धमकी के बारे में कई शिकायतें की हैं लेकिन फिर भी यह बंद नहीं हुआ है। उनका कहना है कि वामपंथियों को अपने विचारों के साथ बोलने की आज़ादी है, लेकिन फिर उन्हीं लोगों द्वारा उन्हें और उनके कुछ दोस्तों को राजनीतिक विचारों की वजह से परेशान किया जाता है।

वहीं अंशुमन नाम के एक दूसरे व्यक्ति ने शेयर किया कि कैसे @/fuckbjp के नाम से एक इंस्टाग्राम हैंडल द्वारा कई लोगों को डराया और धमकाया जा रहा है। यह हैंडल ऐसे लोगों को टारगेट करता है जो अपनी राजनीतिक विचारों में भाजपा का समर्थन करते हैं।

अंशुमान ने यह भी खुलासा किया कि उस हैंडल से जुड़े लोगों ने ही अक्षरा की निजी जानकारी को ट्विटर पर लीक किया था। उस व्यक्ति (@/fuckbjp) ने एक रैंडम ट्वीट्स में जवाब देते हुए कई लोगों को टैग किया था। ताकि अक्षरा को एक साथ कई लोगों द्वारा डराया और धमकाया जा सके।

सोशल मीडिया पर अक्षरा की दुर्दशा देखते हुए, एक लेखक और कॉलमनिस्ट शेफाली वैद्या ने इस मुद्दे पर संज्ञान लेने और लड़की की मदद करने के लिए राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा को टैग किया था।

शेफाली वैद्या के ट्वीट के बाद, एनएसडब्लू की चेयरपर्सन रेखा शर्मा ने जवाब दिया है कि वह इस मामले पर ध्यान दे रही हैं। साथ यह भी कहा है कि एनसीडब्ल्यू इस मुद्दे को आज ही एड्रेस करेगा।

उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ सालों से आम लोगों को सिर्फ उनके राजनीतिक झुकाव और उनके विचारों को लेकर टारगेट कर परेशान किया जा रहा है।

हाल ही में, वामपंथियों, पाकिस्तानियों और इस्लामी कट्टरपंथियों के समूह द्वारा खाड़ी देशों में काम करने वाले भारतीय हिंदुओं को उनकी राजनीतिक या वैचारिक राय के आधार पर लक्षित किया जा रहा था। जहाँ उन्हें उन देशों के सख्त निंदा कानूनों की चपेट में इस्लामोफोबिक’ के रूप में चित्रित किया गया।

इस दौर में जहाँ सोशल और डिजिटल मीडिया कई लोगों के प्रोफ़ेशनल जिंदगी का महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है। उस समय में डॉक्सिंग और ऑनलाइन उत्पीड़न कर लोगों को टारगेट करना अक्सर पीड़ितों के लिए काफ़ी तकलीफदेह साबित होता है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ दकियानूसी ईसाई चला रहे टीके के खिलाफ अभियान, उन्हीं की मीडिया को करारा जवाब है भारत का 100+ करोड़

100 करोड़ का ये आँकड़ा भारत/भारतीयों के बारे में सदियों से फैलाए झूठ (अनपढ़, अनुशासनहीन, अराजक, स्वास्थ्य सुविधाहीन आदि) की बखियाँ उधेड़ रहा है।

करवा चौथ के विज्ञापन में पति-पत्नी दोनों लड़की, नाराज़ हिन्दुओं ने Dabur से पूछा – ‘समलैंगिक’ ज्ञान देने के लिए हमारे ही त्योहार क्यों?

ये विज्ञापन डाबर के प्रोडक्ट 'फेम' को लेकर है, जिसमें एक समलैंगिक जोड़े को 'करवा चौथ' का त्योहार मनाते हुए देखा गया है। लोग हुए नाराज़।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
131,033FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe