Monday, June 24, 2024
Homeदेश-समाज'मेरा सिर कलम कर दो...इस दर्द से निजात मिले': कुंडली बॉर्डर पर युवक माँगता...

‘मेरा सिर कलम कर दो…इस दर्द से निजात मिले’: कुंडली बॉर्डर पर युवक माँगता रहा भीख, जवाब मिला- तू तड़प-तड़प कर मर

किसान आंदोलन की आड़ में किए जा रहे अपराधों की सूची बढ़ती जा रही है। ताजा मामला एक 35 साल के युवक की बर्बर हत्या का है। जिसे गुरु ग्रंथ साहिब का अपमान करने के आरोप में जान से मारकर बैरिकेड पर लटका दिया गया। सामने आई वीडियो में उसकी हथेली अलग कटी है और उसका शव अलग लटका है। निहंग सिखों ने कहा है जो गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी करेगा उसे रोना ही पड़ेगा।

हरियाणा के सोनीपत के कुंडली बॉर्डर पर एक 35 साल के युवक की बर्बरता से की गई हत्या ने सबको झकझोर दिया है। घटना इस तरह अंजाम दी गई है कि शव को देख किसी की भी रूह कांप जाए। अब तक आई जानकारी के मुताबिक इसके पीछे निहंग सिखों का हाथ है, जिन्होंने गुरु ग्रंथ साहिब का अपमान होने पर इस वारदात को अंजाम दिया और बाद में शव को प्रदर्शनी की तरह बैरिकेड पर लटका दिया। संयुक्त किसान मोर्चा ने जहाँ शव को लटका पाया वो जगह आंदोलन के मुख्य मंच से मात्र 100 मीटर दूरी पर है।

मृतक की पहचान पंजाब के तरनतारन के चीमा खुर्द गाँव के निवासी लखबीर सिंह उर्फ टीटू के तौर पर हुई है। अब पुलिस बल उसके पिछले रिकॉर्ड खंगाल रही है। अब तक की जाँच में सामने आया है कि लखबीर नशे का आदी था। उसके पिता दर्शन सिंह की कई साल पहले मौत हो गई थी। वह अपनी बुआ राजबीर कौर राज के पास रहता था। उसकी पत्नी भी थी जो चार साल पहले उसे छोड़ मायके चली गई थी और तीन बेटियाँ व एक बहन राज कौर भी थी।

निहंग सिखों का उसके ऊपर आरोप था कि उसने गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की थी। इसी के बाद उन्होंने उसके साथ मारपीट की और लखबीर के हाथ-पैर काट दिए गए। सामने आई वीडियो में वह ‘जो बोले सो निहाल सत श्री अकाल’ के नारे बुलंद कर रहे हैं। एक निहंग को अपनी तलवार साफ करते हुए भी देखा जा सकता है। वहीं बैकग्राउंड में आवाज आ रही है। “जाओ इसे बाहर टांगो। लोगों को पता होना चाहिए कि हुआ क्या था।” जत्थेदार बाबा नरायण सिंह द्वारा शेयर की गई पोस्ट में बताया गया है, “आज सुबह 3:30 बजे सिंघू बॉर्डर के पास एक आदमी गुरु ग्रंथ साहिब का अपमान कर भागता दिखा। जत्थेदार बाबा अमनदीप सिंह ने उसके हाथ काट दिए। जत्थेदार बाबा नरायण सिंह ने उसके पैर काटे।”

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, “एक निहंग बता रहा है कि जिस युवक को मारा गया है वह रात के समय निहंगों के तंबू में आया था। जहाँ श्री गुरु ग्रंथ साहिब का प्रकाश किया गया था। युवक गुरु ग्रंथ साहिब को उठाकर भागने लगा तो सेवादारों ने उसे पकड़ लिया। युवक निहंग के बाने में था, लेकिन जब उसके कपड़े उतरवाए गए तो उसके सिर पर केश नहीं थे और उसने कछहरा पहना हुआ था। निहंगों ने उससे पूछताछ की। जब वह कुछ भी बताने को तैयार नहीं हुआ तो पहले उसकी बाजू और फिर टांग काट दी गई। इसके बाद उसकी मौत हो गई।”

वीडियो में युवक को खून से लथपथ पड़े देखा जा सकता है। निहंग उसका हाथ काटने के बाद पूछ रहे हैं वो कौन है, कहाँ से आया है, उसे किसने भेजा है? उसे ये कबूल करने के लिए कहा जाता है कि उसने गुरु ग्रंथ साहब का अपमान किया। हालाँकि वह कहता है, “सच्चे पातशाह गुरु तेग बहादुर निहंगों को मेरा वध करने की आज्ञा बख्शें और मुझे अपने चरणों में स्थान दो। मैं कबूल करता हूँ। निहंगों ने मेरा हाथ काटा है।”

कथिततौर पर युवक वीडियो में बार-बार बोलता है, उसका सिर कलम किया जाए ताकि उसे दर्द से निजात मिले, लेकिन वहाँ मौजूद निहंग जोर देते हैं कि उसे तड़पा-तड़पा कर मारा जाए। कुछ अन्य लोग वीडियो में कहते हैं कि पंजाब में ऐसी घटनाओं पर लोग नहीं पकड़े जाते लेकिन यहाँ निहंगों ने मौके पर कार्रवाई कर दी।

घटनास्थल से सामने आई वीडियो में देख सकते हैं कि कैसे व्यक्ति को मारने से पहले उनके दाहिने हाथ और गर्दन को काटा गया है और उसके कटे हुए हाथ के साथ उसे लटका दिया गया है। उसकी हथेली भी उसी जगह पर काट कर टांगी गई है। पीठ पर नजर आने वाले घसीट के निशान इस ओर इशारा कर रहे हैं कि हत्या से पहले उसे कितनी बुरी तरह सड़क पर घसीटा गया होगा।

ये वारदात सुबह 5 बजे की बताई जा रही है। एक वीडियो भी सामने आई है जिसमें उस व्यक्ति की हथेली काटकर उसे जमीन पर लिटाया गया है और वो हल्की मूवमेंट कर रहा है। उसके चारों ओर निहंग सिख हैं और उसकी हथेली अलग से उसके सिर के पास पड़ी है। वहाँ खड़े निहंग धीरे-धीरे हँस रहे हैं। वहीं जो सादे कपड़ों में हैं वो उसकी वीडियो बनाने में लगे हैं।

दैनिक भास्कर के पत्रकार सचिन गुप्ता ने निहंगों का बयान अपने ट्वीट में शेयर किया। जहाँ निहंगों ने बताया कि युवक को 30,000 रुपए देकर एक साजिश के अंतर्गत युवक को यहाँ भेजा गया था। वहाँ पहुँचने के बाद युवक ने गुरुग्रंथ साहिब का अंग-भंग कर दिया। जिसके बाद गुस्साए निहंगों ने उसे पकड़ लिया और जमकर पीटा। 

इस संबंध में एक एफआईआर हुई है। मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ धारा 302 और धारा 304 के तहत FIR दर्ज की गई है। प्राथमिकी में उल्लेख किया है कि उनकी टीम को स्थानीय लोगों ने बताया था कि निहंगों ने एक युवक का हाथ काट कर उसे पुलिस बैरिकेट से लटका दिया। इसके बाद वो लोग मौके पर पहुँचे। लेकिन वहाँ किसी ने जाँच में पुलिस की मदद नहीं की और पुलिस बैरिकेड्स से मृतक के शव को हटाने के लिए पुलिस का विरोध किया।

याद दिला दें कि ये पहली बर्बर घटना नहीं है जो किसान प्रदर्शनस्थल से सामने आई हो। इससे पहले इसी वर्ष जून में टीकरी बॉर्डर पर किसानों के विरोध स्थल पर एक व्यक्ति को शहीद बताकर जिंदा जला दिया गया था। कसार गाँव का रहने वाला मुकेश नाम का युवक घूमते हुए किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए चला गया था। वहाँ उसे पहले जमकर शराब पिलाई गई। उसके बाद जिंदा जला दिया गया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चोर औरंगजेब की पिटाई पर चीत्कार, दलित नकुल को चाकू घोंपने की चर्चा तक नहीं: अलीगढ़ में एक ही दिन हुई दोनों घटना, पर...

जिस अलीगढ़ में चोर औरंगज़ेब के लिए नौकरी व मुआवजे की माँग हो रही है। वहीं शहज़ाद की चाकूबाजी में घायल दलित नकुल का परिवार कर्ज लेकर अपना इलाज करवा रहा है।

‘काश निर्भया की जगह तुम होती, एहसान मानो अभी तक जिंदा हो…’: स्वर्ण मंदिर में योग करने वाली लड़की को मिल रही रेप-हत्या की...

स्वर्ण मंदिर के सामने शीर्षासन करने वाली इन्फ्लुएंसर को सोशल मीडिया पर धमकियाँ मिल रही थीं। अब वडोदरा पुलिस ने उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -