Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाज'दिल्ली की लड़की से फिजिकल अफेयर... मेरे ऊपर कई बार हाथ उठाया': करण मेहरा...

‘दिल्ली की लड़की से फिजिकल अफेयर… मेरे ऊपर कई बार हाथ उठाया’: करण मेहरा का दावा- निशा ने खुद दीवार पर सिर मारा

"मैंने पूछा कि कोई शारीरिक संबंध, गंभीर या भावनात्मक रिश्ता है। उन्होंने कहा कि वह उसे प्यार करते हैं और उनका उसके साथ फिजिकल अफेयर है।”

स्टार प्लस के सीरियल ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ में नैतिक का किरदार निभाकर मशहूर हुए करण मेहरा अब अपनी पत्नी निशा रावल के आरोपों के कारण चर्चा में हैं। गोरेगाँव पुलिस थाने में निशा ने उनके विरुद्ध शिकायत दर्ज कराने के बाद मीडिया में कई खुलासे किए हैं। 

निशा ने अपनी कुछ तस्वीरें दिखाते हुए करण पर दूसरी लड़की से संबंध होने के आरोप लगाए। साथ ही उन्हें घरेलू हिंसा करने वाला करार दिया। इस बीच करण ने पूरी उलटी कहानी बताई। उनका कहना है कि जो कुछ भी दिख रहा है वो निशा ने खुद किया है। रिश्ते में दिक्कतें थी, लेकिन उन्हें नहीं लगा था कि ये सब थाने पहुँचेगा।

बता दें कि करण-निशा से जुड़ा पूरा विवाद सोमवार (31 मई 2021) रात से मीडिया में आया। पहले निशा ने पति करण पर मारपीट के आरोप में एफआईआर करवाई। करण की गिरफ्तारी हुई। कुछ देर बाद जमानत मिलते ही करण बाहर निकले और उन्होंने अपना पक्ष रखते हुए निशा रावल पर गंभीर आरोप मढ़े।

निशा के आरोप

निशा रावल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपने 14 साल के रिश्ते को इस तरह मीडिया में आने को बेहद शर्मिंदा करने वाला बताया। उन्होंने कहा कि वह मीडिया के सामने सिर्फ अपने बच्चे (काविश) के कारण आई हैं। ये सब उनके साथ बहुत समय से हो रहा था। मगर किसी को कुछ पता नहीं चला। वह करण से प्यार करती थीं, इसलिए अब तक चुप थीं।

निशा रावल के आरोपों का पूरा वीडियो

दूसरी लड़की से रिश्ते के आरोप लगाते हुए निशा ने कहा, “करण का दूसरी लड़की से रिश्ता है, पहले मुझे इसके बारे में नहीं पता था। लेकिन जब मालूम हुआ तो उन्होंने स्वीकारा कि उनकी जिंदगी में कोई और है। मैंने पूछा कि कोई शारीरिक संबंध, गंभीर या भावनात्मक रिश्ता है। उन्होंने कहा कि वह उसे प्यार करते हैं और उनका उसके साथ फिजिकल अफेयर है।” 

निशा के अनुसार वह लड़की दिल्ली की है और घर से दूर जाने का मौका मिलने का बाद ये सब शुरू हुआ। हालाँकि उन्हें जब पता चला तो उन्होंने अपने पति की इमेज के लिए चुपचाप उनसे बात करना सही समझा। निशा ने बैठाकर करण से बात की और करण ने उन्हें सब बताया। इसके बाद वह करण के माता-पिता के पास गईं जहाँ उन्हें समझाया गया कि वह रिश्ते पर काम करें। निशा ने कहा कि अगर करण चाहेंगे तो वह लौट जाएँगी। इसके बाद करण मिले और वह वापस आ गईं। लेकिन करण का बर्ताव नहीं बदला। उन्होंने बहुत कोशिश की।

वह कहती है कि करण की तस्वीर पिछले 14 सालों में और अब कोई नई नहीं है। लेकिन हर बार वह माफी माँग लेता था और निशा को भी लगता था कि वे एक्टर हैं, इससे इमेज खराब होगी। घटना वाले दिन की बात करते हुए उन्होंने बताया कि करण के चंडीगढ़ से लौटने के बाद उनकी बहुत बहस हुई। वो उन पर गुस्सा थीं और उन्हें बुरा-भला भी कहा। तभी करण उठे और उनका बाल पकड़कर दीवार में मार दिया जिससे खून निकलने लगा। जब तक वह कुछ समझ पाती तब तक करण ने उनका गला पकड़कर सिर भी दीवार में लगा दिया था।

निशा के मुताबिक करण ने ये सब करने के दौरान घर के हर सीसीटीवी को बंद कर दिया था। मगर उनके घर में बाकी लोग मौजूद थे। इसी घटना के बाद निशा ने अपनी पुलिस में शिकायत की। वह कहती है कि उन्होंने रिश्ते को बचाने के लिए बहुत कोशिशें की। मगर करण किसी हाल में उनके साथ रहने को तैयार नहीं थे। करण ने निशा के भाई से भी ढंग से बात नहीं की, जिसे उन्होंने लखनऊ से बुलवाया था।

इसके अलावा निशा ने करण पर उनकी सारी ज्वेलरी लेने के आरोप लगाए। साथ ही मीडिया में करण के हवाले से चल रही इन बातों को खारिज किया कि उन्होंने कोई फ्रॉड किया है या वे ये सब पैसों के लिए कर रही हैं। वह कहती हैं, “करण ने मेरे ऊपर कई बार हाथ उठाया है। लेकिन वो एक्टर है। स्मार्ट है। उसे मालूम है कैमरा का हर कुछ। कई बार ऐसा हुआ मेरे चेहरे पर काला-नीला हुआ। कई बार पंच करते थे, कभी बैट से भी… लेकिन पिछली रात (घटना वाली रात) के बाद मुझे खड़ा होना पड़ा।”

अपने बायपोलर होने के आरोपों पर उन्होंने कहा कि उन्हें इसका सबूत देने की जरूरत नहीं है। ये एक मूड डिसॉर्डर है जो ट्रॉमा बढ़ने पर होता है। हाँ, वह डिप्रेस थीं, 2014 में अपने बच्चे को खोने के कारण। मगर, इस बीच भी करण उनके साथ अच्छा बर्ताव नहीं करते थे। उनके पास कोई सपोर्ट सिस्टम नहीं था। वह डॉक्टर के पास गईं और उन्हें ये बीमारी डायगनॉस हुई। उन्होंने इसके लिए दवाई भी ली। मगर उनका आखिरी इलाज सिर्फ एंजायटी को लेकर हुआ, इससे बायपोलैरिटी का कोई लेना-देना नहीं है।

करण का क्या कहना है

घरेलू हिंसा का केस दर्ज होने के बाद करण मेहरा ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को झूठा बताया। साथ ही स्वीकार किया कि दोनों के रिश्ते में पिछले कुछ समय से सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। दोनों पिछले काफी समय से अलग होने की सोच रहे थे लेकिन बात पुलिस तक पहुँच जाएगी, इसका अंदाजा भी नहीं था।

करण ने कहा, “हमारे बीच चीजों को सुलझाने के लिए निशा के भाई रोहित सेठिया भी आए हुए थे। निशा और उनके भाई ने एक एलिमनी अमाउंट माँगा लेकिन वो इतना ज्यादा था कि मैं उसे नहीं दे सकता था। रात 10 बजे फिर हमारे बीच इसी को लेकर बात हुई। तब भी मैंने साफ कहा कि ये मैं नहीं कर सकता। उसके बाद जब मैं कमरे में गया तो निशा पीछे से आ गईं। मैं माँ से बात कर रहा था और उन्होंने गाली देना शुरू कर दिया। जोर-जोर से चिल्लाई और मेरे ऊपर थूका, उसके बाद मैंने उनसे कमरे से बाहर जाने को कहा।”

करण के अनुसार, “इसके बाद निशा ने मुझे धमकी देते हुए कहती हैं, देखो अब मैं क्या करती हूँ और फिर वो बाहर चली गईं। दीवार पर अपना सिर मारा और सबको बताया कि करण ने मेरे साथ ऐसा किया है। इसके बाद निशा के भाई ने मुझपर असॉल्ट किया। मैंने उनके भाई को कहा मैंने निशा को नहीं मारा है और आप ये घर के कैमरे में चेक कर सकते हो, लेकिन कैमरे पहले से ही बंद कर रखे थे।”

निशा पर आरोप लगाते हुए वह कहते हैं, “जब कैमरे बंद मिले तो मैंने रिकॉडिंग शुरू की और पुलिस को बुलाया। पुलिस ने भी कुछ नहीं किया, क्योंकि वह सच्चाई को समझ रहे थे। उन्होंने कहा अब केस किया है तो जाँच होगी और सच जल्द सबके सामने आएगा।” उन्होंने कहा कि निशा उन्हें उनके बच्चे से दूर करने की कोशिश कर रही हैं। अपनी गिरफ्तारी पर उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि वह पुलिस स्टेशन में कुछ देर थे। पुलिस वालों ने बातचीत की और उनका पक्ष समझा फिर वहाँ से वह अपने दोस्त के घर चले गए।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डीजल डाल कर जला दिया दलित लखबीर का शव, चेहरा तक नहीं देखने दिया परिजनों को: ग्रामीणों ने किया बहिष्कार

डीजल डाल कर मोबाइल की रोशनी में दलित लखबीर सिंह के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। शव से पॉलीथिन नहीं हटाया गया। परिजन चेहरा तक न देख पाए।

पश्चिम बंगाल में दुर्गा विसर्जन से लौट रहे श्रद्धालुओं पर बम से हमला, कई घायल, पुलिस ने कहा – ‘हमलावरों की अभी तक पहचान...

हमलावर मौके से फरार हो गए। सूचना पाकर पहुँची पुलिस ने लोगों की भीड़ को हटाकर मामला शांत किया और घायलों को अस्पताल भेजा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,199FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe