Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजपुलिस वालों को जिंदा जलाने आई थी मुस्लिम भीड़, थाने को घेर चिल्ला रहे...

पुलिस वालों को जिंदा जलाने आई थी मुस्लिम भीड़, थाने को घेर चिल्ला रहे थे – ‘उन्हें जिंदा जला दो’: नूहं मंदिर पुलिस उप-निरीक्षक की FIR में हर डिटेल

हजारों दंगाइयों की भीड़ ने अचानक पुलिस स्टेशन का घेराव किया और पथराव शुरू कर दिया। भीड़ 'उन्हें जिंदा जला दो' के नारे लगा रही थी। जब अतिरिक्त पुलिस बल थाने पहुँचा तो दंगाई पुलिसकर्मियों को जान से मारने की धमकी देकर भाग गए।

हरियाणा के मेवात के नूहं में 31 जुलाई को मुस्लिम भीड़ ने श्रावण सोमवार पर जलाभिषेक यात्रा में भाग लेने गए हजारों हिंदू भक्तों पर हमला किया। ऑपइंडिया को इस मामले में दर्ज कई एफआईआर मिली हैं। पुलिस उप-निरीक्षक (PSI) सूरज की शिकायत पर दर्ज FIR में इस्लामिक दंगाइयों द्वारा साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन नूहं पर हमले और पुलिस कर्मियों को जलाने की कोशिश के बारे में बताया गया है।

एफआईआर में बताया पूरा घटनाक्रम

पुलिस उप-निरीक्षक (PSI) की शिकायत पर भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 148, 149, 332, 353, 186, 427, 435, 436, 395 और 397 और शस्त्र अधिनियम की धारा 25 के तहत FIR दर्ज की गई है। अपनी शिकायत में PSI सूरज ने बताया है कि वह साइबर क्राइम सेल नूहं में PSI सुधीर, हेड कॉन्स्टेबल गुलशन, कॉन्स्टेबल रघुबीर सिंह, कॉन्स्टेबल रविकांत और कॉन्स्टेबल शुभम के साथ थे।

पुलिस उप-निरीक्षक (PSI) सूरज के अनुसार हजारों दंगाइयों की भीड़ ने अचानक पुलिस स्टेशन का घेराव किया और पथराव शुरू कर दिया। भीड़ ‘उन्हें जिंदा जला दो’ के नारे लगा रही थी। हमले के समय एसआई दिग्विजय सिंह सदर तावडू और उनके साथी बोलेरो में बैठे थे। वे किसी तरह भागने में कामयाब रहे और पुलिस स्टेशन के अंदर आकर छिप गए। इस दौरान दंगाई पत्थरबाजी करते रहे।

नूहं दंगे की एफआईआर का एक हिस्सा

दंगाइयों ने पुलिस स्टेशन की दीवारों और मुख्य द्वार को तोड़ने के लिए पीले रंग की एक बस (कथित तौर पर अपहृत बस) का इस्तेमाल किया। फिर वे पुलिस स्टेशन की दीवारों और छत पर चढ़ गए और अवैध हथियारों का उपयोग कर पुलिसकर्मियों को मारने के उद्देश्य से उन पर गोलियाँ बरसानी शुरू कर दीं।

नूहं दंगे में दर्ज एक एफआईआर

पीएसआई सूरज और उनके साथी खुद को बचाने के लिए दीवार के पीछे छिप गए। कॉन्स्टेबल प्रदीप ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आँसू गैस के गोले का इस्तेमाल किया, लेकिन इस्लामिक भीड़ हमला करती जा रही थी। पुलिसकर्मियों को आत्मरक्षा में सरकार द्वारा अनुमति प्राप्त हथियारों का उपयोग करके हवाई फायर करना पड़ा। पुलिस ने कुल 105 राउंड फायरिंग की।

पीएसआई सूरज ने 20 राउंड फायर किए, जिसमें से दस राउंड अपनी बंदूक से और दस राउंड एएसआई संजय की बंदूक से दागे गए। पीएसआई सुधीर ने भी 20 गोलियाँ चलाईं। इसमें से दस गोलियाँ उनकी बंदूक से व 10 पीएसआई भजनलाल की सरकारी बंदूक से थीं। एएसआई सुरेश ने दस राउंड फायरिंग की। हेड कॉन्स्टेबल ने एसएलआर से 25 राउंड फायरिंग की। कॉन्स्टेबल रघुवीर ने एसएलआर का इस्तेमाल कर 25 राउंड फायरिंग की। कॉन्स्टेबल शुभम ने कार्बाइन से 15 राउंड फायरिंग की।

फायरिंग के बाद भी दंगाई पुलिस स्टेशन पर लगातार हमले कर रहे थे। कुछ देर बाद भीड़ ने वाहनों को जलाना शुरू कर दिया। पेट्रोल का उपयोग करके सरकारी और निजी दोनों वाहनों को जला दिया गया। दंगाइयों ने पुलिस स्टेशन परिसर के अंदर खड़े वाहनों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया।

इस दौरान एक बाइक सहित पाँच वाहन जल गए। वहीं दस वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया। दंगाई एक प्लास्टिक कूलर, एक इन्वर्टर, एक बैटरी, एक लैपटॉप और एएसआई सुरेश का वॉलेट भी लूट कर ले गए। वॉलेट में 5,000 रुपए नकद और कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज थे। दंगाइयों ने मेस की दीवारों, पुलिस स्टेशन और वॉशरूम की छतों पर पानी की टंकियों को भी नुकसान पहुँचाया।

जैसा ही अतिरिक्त पुलिस बल थाने पहुँचा वैसे ही दंगाई पुलिसकर्मियों को जान से मारने की धमकी देकर भाग गए। इस हमले में हेड कॉन्स्टेबल सुरेंद्र और कॉन्स्टेबल शुभम घायल हुए हैं।

मेवात के नूहं में शोभा यात्रा पर हुए हमले को ऑपइंडिया बड़े पैमाने पर कवरेज कर रहा है। पूरा कवरेज देखने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

डोनाल्ड ट्रंप को मारी गई गोली, अमेरिकी मीडिया बता रहा ‘भीड़ की आवाज’ और ‘पॉपिंग साउंड’: फेसबुक पर भी वामपंथी षड्यंत्र हावी

डोनाल्ड ट्रंप की हत्या के प्रयास की पूरी दुनिया के नेताओं ने निंदा की, तो अमेरिकी मीडिया ने इस घटना को कमतर आँकने की कोशिश की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -