Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजओडिशा: भगवान जगन्नाथ की 'मौसी माँ' मंदिर में चोरी, स्थानीय नाराज

ओडिशा: भगवान जगन्नाथ की ‘मौसी माँ’ मंदिर में चोरी, स्थानीय नाराज

‘मौसी माँ’ मंदिर भगवान जगन्नाथ की मौसी को समर्पित है। प्रत्येक वर्ष होने वाली रथ यात्रा में इस मंदिर का विशेष स्थान है। ‘बहुड़ा यात्रा’ के दौरान भगवान जगन्नाथ का रथ ‘मौसी माँ’ मंदिर के सामने रुकता है और भगवान वहाँ से ‘पोड पिठा’ ग्रहण करते हैं।

अराजक तत्वों ने पुरी के ‘मौसी माँ’ मंदिर में बुधवार (31 मार्च 2021) की रात चोरी कर चार हजार रुपए नगद और अन्य बहुमूल्य वस्तुएँ ले गए। रिपोर्ट्स के अनुसार चोरों ने दान पात्र का ताला तोड़कर चोरी की। ‘मौसी माँ’ मंदिर पुरी के जगन्नाथ मंदिर से मात्र 500 मीटर की दूरी पर स्थित है। रथ यात्रा की परंपराओं में इस मंदिर का बहुत महत्व है।

स्थानीय निवासियों ने मंदिर में हुई चोरी के प्रति आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि क्षेत्र में अपराध और अवैध नशे का व्यापार बढ़ता जा रहा है। ‘मौसी माँ’ मंदिर के भीतर चोरी होना एक गंभीर बात है। निवासियों ने शहर के सीसीटीवी कैमरों की खराबी पर भी आक्रोश व्यक्त किया।

हालाँकि पुरी एसपी विशाल सिंह ने कहा कि चोरों ने दान पात्र से चार हजार रुपए नगद चुराए हैं। इसके अतिरिक्त अन्य बहुमूल्य वस्तुओं की चोरी की खबर सही नहीं है। सिंह के अनुसार कुछ संदिग्धों की पहचान की गई है और उनसे पूछताछ जारी है। मंदिर के मुख्य पुजारी के अनुसार चोरों ने दानपात्र में कुछ भी नहीं छोड़ा। मूर्ति के आभूषण चोरी होने से बच गए हैं, क्योंकि रात्रि में मंदिर के कपाट बंद होने से पहले मूर्ति से आभूषण उतार लिए जाते हैं।

इस साल जनवरी में लुटेरों ने पुरी जिले के पिपिली क्षेत्र के काकुड़िया स्थित 13वीं शताब्दी के श्री गोपीनाथदेव मंदिर का ताला तोड़कर पुरानी धातु की मूर्तियों को चुरा लिया था। पिछले महीने उन लुटेरों को गिरफ्तार किया गया था।

‘मौसी माँ’ मंदिर भगवान जगन्नाथ की मौसी को समर्पित है। प्रत्येक वर्ष होने वाली रथ यात्रा में इस मंदिर का विशेष स्थान है। ‘बहुड़ा यात्रा’ के दौरान भगवान जगन्नाथ का रथ ‘मौसी माँ’ मंदिर के सामने रुकता है और भगवान वहाँ से ‘पोड पिठा’ ग्रहण करते हैं।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe