Friday, October 22, 2021
Homeराजनीतिकेजरीवाल सरकार द्वारा मौत के आँकड़ों में बड़ा हेर-फेर, पिछले 24 दिनों में 4500...

केजरीवाल सरकार द्वारा मौत के आँकड़ों में बड़ा हेर-फेर, पिछले 24 दिनों में 4500 से अधिक Covid मौतें रिकॉर्ड से गायब: रिपोर्ट

18 अप्रैल से 11 मई के बीच अंतिम संस्कार और सरकारी मौत के आँकड़ों की तुलना करने पर 4,783 मौतों का अंतर पाया गया। बता दें कि नगरपालिका के रिकॉर्ड में जहाँ कहा गया कि बीते 24 दिनों की अवधि के दौरान 12,833 COVID मरीजों ने दम तोड़ दिया, वहीं दिल्ली सरकार ने उसी अंतराल के दौरान केवल 8,050 COVID मौतें दर्ज कीं।

देश में कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के बीच, द हिंदू की एक एक्सक्लूसिव रिपोर्ट बताती है कि पिछले 24 दिनों में दिल्ली की केजरीवाल सरकार द्वारा 4500 कोविड -19 मौत के मामले दर्ज नहीं किए गए हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, 18 अप्रैल से 11 मई के बीच अंतिम संस्कार और सरकारी मौत के आँकड़ों की तुलना करने पर 4,783 मौतों का अंतर पाया गया। बता दें कि नगरपालिका के रिकॉर्ड में जहाँ कहा गया कि बीते 24 दिनों की अवधि के दौरान 12,833 COVID मरीजों ने दम तोड़ दिया, वहीं दिल्ली सरकार ने उसी अंतराल के दौरान केवल 8,050 COVID मौतें दर्ज कीं।

भाजपा के नेतृत्व वाले निकाय ने आरोप लगाया है कि AAP के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार मौत के आँकड़ों को दबाकर और संदिग्ध कोरोना वायरस रोगियों को टैली से बाहर करके वास्तविक कोविड ​​मौत को छिपाने का जानबूझ कर प्रयास कर रही है।

नॉर्थ एमसीडी के मेयर जय प्रकाश ने आरोप लगाया, “महामारी शुरू होने के बाद से दिल्ली सरकार (मृत्यु के) आँकड़े छिपा रही है। उन्होंने दाह संस्कार के लिए जलाऊ लकड़ी की खरीद में मदद के हमारे अनुरोध की अनदेखी की, ताकि नागरिकों को असुविधा का सामना करना पड़े, वे हमारे COVID अस्पतालों से लेकर अंतिम संस्कार स्थलों तक हर जगह लगे डॉक्टरों और सफाई कर्मचारियों के वेतन का भुगतान करने के लिए भी धनराशि दबाए बैठे हैं।”

‘संख्या में अंतर ‘अन्य तकनीकी’ कारणों से हो सकती है’

एमसीडी के एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने मरने वालों की संख्या में बेमेल होने के लिए अन्य ‘तकनीकी कारणों’ को जिम्मेदार ठहराया। अधिकारी ने कहा, “दो मुख्य कारण हैं: सरकार संदिग्ध कोविड ​​मामलों को छोड़कर, जानलेवा बीमारियों वाले मरीजों और गैर-दिल्ली निवासियों को मृत्यु दर से बाहर रख रही है। इन कारणों के बावजूद हमारे लिए सभी नामित COVID निकायों का अंतिम संस्कार प्रोटोकॉल के अनुसार किया जाता है।”

आगे कारण बताते हुए अधिकारी ने कहा, “दूसरा कारण COVID रोगियों के शवों को उनकी मृत्यु के दिन के लिए नहीं रखा जा रहा है। कई बार परिवार किसी न किसी कारण से ऐसे शवों पर दावा करने से मना कर देते हैं; फिर इन्हें पुलिस, एनजीओ और गुड सेमेरिटन द्वारा कई निकायों के जत्थों में अंतिम संस्कार के लिए अंतिम संस्कार स्थलों पर लाया जाता है।”

दिल्ली सरकार ने उन आरोपों का भी खंडन किया है जिसमें कहा गया है कि अस्पताल में भर्ती होने के दौरान या अस्पताल के बाहर समय पर भर्ती नहीं होने पर कई मरीजों की मौत हो जाती है।

दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने टिप्पणी की, “हम सभी मामलों में पूरी तरह से पारदर्शी हैं और विशेष रूप से महामारी में, सभी मौतों का हिसाब है। कई उदाहरणों में, अस्पताल या घर पर नकारात्मक परीक्षण के बाद COVID द्वारा बढ़े हुए कॉमरेडिडिटी के कारण मरीजों की मृत्यु भी हो जाती है।”

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि सरकार ने सब कुछ ‘पारदर्शी’ रखा है

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने 29 अप्रैल को मीडिया को बताया कि सरकार ने सब कुछ ‘पारदर्शी’ रखा है। आरोपों के जवाब में जैन ने कहा, “यह चीजों का राजनीतिकरण करने का समय नहीं है। 6 महीने पहले भी यही मामला देखा गया था लेकिन फिर बाद में यह साबित हो गया कि आँकड़े सही थे। सबसे पहली और सबसे महत्वपूर्ण बात, यहाँ कोई नहीं चाहता कि एक भी जान चली जाए। दूसरी बात, हमें संख्या छिपाने का कोई अधिकार नहीं है। मृत्यु प्रमाण पत्रों का लगातार ड्राफ्ट तैयार किया जा रहा है और यदि मृत्यु COVID-19 के कारण हुई है, तो उनमें इसका उल्लेख किया जा रहा है।”

दिल्ली में कोविड मामले

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार (मई 16, 2021) को कहा कि दिल्ली में काफी अच्छे स्तर पर रिकवरी हो रही है। कोरोना भी तेजी से कम हो रहा है। उन्होंने कहा कि हमने अब तक कोरोना से बिगड़े हालातों पर जो काबू पाया वह एक दम से बिगड़ न जाए इसलिए दिल्ली में लॉकडाउन को एक और हफ्ते के लिए बढ़ाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार (मई 15, 2021) को बताया था कि दिल्ली में धीरे-धीरे कोरोना कम हो रहा है। पिछले 24 घंटे में कोरोना केस और कम होकर 6500 पर आ गए हैं। संक्रमण दर भी घटकर 11% हो गई है। कल संक्रमण दर 12% थी। भगवान से ये ही प्रार्थना है कि जल्द से जल्द कोरोना खत्म हो जाए।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बधाई देना भी हराम’: सारा ने अमित शाह को किया बर्थडे विश, आरफा सहित लिबरलों को लगी आग, पटौदी की पोती को बताया ‘डरपोक’

सारा ने गृहमंत्री को बधाई दी लेकिन नाराज हो गईं आरफा खानुम शेरवानी। उन्होंने सारा को डरपोक कहा और पारिवारिक बैकग्राउंड पर कमेंट किया।

‘जमानत के लिए भगवान भरोसे हैं आर्यन खान’: जेल में रोज हो रहे आरती में शामिल, कैदियों से मिलती है दिलासा

आर्यन खान ड्रग केस में इस समय जेल में हैं। वो रोज आरती में शामिल होते हैं और अपनी रिहाई के इंतजार में चुप बैठे रहते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
130,824FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe