मुहर्रम के जुलूस में गूँजा ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ और ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’, मचाया उपद्रव

मुहर्रम का जुलूस जैसे-जैसे आगे बढ़ता गया, उसमें शामिल मुस्लिम उपद्रव करते गए। मुस्लिम युवकों ने दुकानों को नुक़सान पहुँचाया, सड़क किनारे खड़े वाहनों में तोड़फोड़ की और लगातार पत्थरबाजी करते रहे।

बिहार के पश्चिम चम्पारण जिले में ताजिया जुलूस के दौरान मुस्लिमों की जलूस में कई शरारती तत्वों ने भारत को अपशब्द कहे और पाकिस्तान समर्थक में नारे लगाए। मामला नरकटियागंज शहर का है। ताजिया जुलूस को लेकर प्रशासन पहले से ही सतर्क था। पुलिस को भी अलर्ट रखा गया था, क्योंकि इलाक़ा पहले से ही संवेदनशील रहा है। मुहर्रम का जुलूस जैसे ही शहर के आर्य समाज चौक पर पहुँचा, बवाल मच गया।

‘हिंदुस्तान’ के स्थानीय संस्करण में छपी ख़बर

आर्यसमाज चौक पर हमेशा की तरह कुछ लोग बातचीत कर रहे थे। जैसे ही मुस्लिमों ने उन्हें देखा, वे ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’ का नारा लगाने लगे। मुहर्रम के जुलूस में लोगों ने ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे भी लगाए। इससे हिन्दू आक्रोशित हो गए। आक्रोशित हिन्दुओं ने इसका विरोध किया। विरोध करने पर उग्र मुस्लिमों ने पत्थरबाजी की, जिसके बाद दोनों समुदायों के बीच संघर्ष का माहौल पैदा हो गया।

स्थानीय युवक ने मुहर्रम के दौरान हुए संघर्ष का वीडियो पोस्ट किया

मुहर्रम के जुलूस में ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ और ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’ नारा लगाए जाने की ख़बर सुनते ही हिन्दू पक्ष के अन्य गुट भी वहाँ पर आए और उन्होंने कड़ा विरोध दर्ज कराया। विरोध के बावजूद मुस्लिम पक्ष के शरारती तत्व नारा लगाते रहे। पत्थरबाजी के बीच पुलिस ने मोर्चा संभाला, लेकिन उससे पहले दुकानों से लेकर सड़क तक तोड़फोड़ की जा चुकी थी। झड़प के दौरान सड़क पर पड़े साइकिलों तक को नहीं बख्शा गया और जम कर तोड़फोड़ मचाई गई।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

मुहर्रम का जुलूस जैसे-जैसे आगे बढ़ता गया, उसमें शामिल मुस्लिम उपद्रव करते गए। मुस्लिम युवकों ने दुकानों को नुक़सान पहुँचाया, सड़क किनारे खड़े वाहनों में तोड़फोड़ की और लगातार पत्थरबाजी करते रहे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: