Friday, July 1, 2022
Homeदेश-समाजपाकिस्तान से जान बचाकर भागी हिंदू लड़की को राजस्थान में परीक्षा देने की इजाजत...

पाकिस्तान से जान बचाकर भागी हिंदू लड़की को राजस्थान में परीक्षा देने की इजाजत नहीं

"2018 में एडमिशन लिया। साल भर पढ़ाई की। 11वीं की परीक्षा पास की। मेरे पास मार्क्स शीट भी है। बोर्ड परीक्षा में महज एक महीने बचे हैं। मुझे नोटिस देकर बताया गया है कि परीक्षा में शामिल होने की इजाजत नहीं मिलेगी।"

बीते दिनों पाकिस्तान से भागकर आए तीन हिंदू बच्चों को दिल्ली के स्कूल में दाखिला पाने के लिए कई दिनों तक संघर्ष करना पड़ा था। उन्हें तो न्यायालय का दरवाजा खटखटाने के बाद इंसाफ मिल गया था। लेकिन, अब एक ऐसा ही मामला राजस्थान से आया है। दमी कोहली नामक एक पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थी को राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कथित तौर पर परीक्षा फॉर्म भरने की इजाजत नहीं दे रहा है। सभी प्रूफ जमा किए जाने के बाद भी उससे योग्यता प्रमाण पत्र माँगा जा रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दमी कोहली कुछ साल पहले अपने परिवार के साथ पाकिस्तान के सिंध प्रांत से भारत आई थी। उसे और उसके परिवार को धार्मिक प्रताड़ना के कारण पाकिस्तान छोड़ना पड़ा था। उसने 10वीं तक की पढ़ाई पाकिस्तान में की है और अब जोधपुर से सटे आंगनवा रिफ्यूजी कैंप में रहती है। इसी जगह उसने साल 2018 में एक स्कूल में 11वीं में एडमिशन लिया था। उसने ग्याहरवीं की परीक्षा पास की और अब उसे 12वीं की परीक्षा देने की दरकार है। लेकिन शिक्षा बोर्ड उससे योग्यता प्रमाण-पत्र माँग रहा है।

समाचार एजेंसी एएनआई को दिए साक्षात्कार के अनुसार दमी कोहली बताती हैं, “2018 में मैंने स्कूल में एडमिशन लिया। मैंने साल भर पढ़ाई की और 11वीं की परीक्षा पास की। मेरे पास मार्क्स शीट भी है। अगली बोर्ड परीक्षा में महज एक महीने बचे हैं और मुझे नोटिस देकर बताया गया है कि परीक्षा में शामिल होने की इजाजत नहीं मिलेगी।” बता दें, अपनी बच्ची के साथ हुई नाइंसाफी पर लड़की के पिता ने बताया कि उनकी बेटी को बोर्ड परीक्षा में इजाजत नहीं दिए जाने का नोटिस थमाया गया है। वहीं हिंदू बच्ची का कहना है कि उसने स्कूल को सभी प्रूफ दिए हैं और उसे शिक्षा का अधिकार मिलना चाहिए।

गौरतलब है दमी कोहली के इस मामले ने राजस्थान में तूल पकड़ लिया है। जिसके बाद शिक्षा मंत्री गोविंद डोतासरा ने इस पर संज्ञान लिया और बताया कि पाकिस्तानी दूतावास को पत्र भेजकर लड़की के सिलेबस की पूरी जानकारी माँगी गई है।

शिक्षा मंत्री ने कहा, “उसने (दमी कोहली) पाकिस्तान बोर्ड से 10वीं की पढ़ाई पूरी की और अब राजस्थान में 12वीं की परीक्षा देना चाहती है। हमने पाकिस्तानी दूतावास को एक पत्र भेजकर उसके सिलेबस की जानकारी माँगी है। हमलोग राजस्थान और वहाँ के सिलेबस को मिला रहे हैं।”

शिक्षा मंत्री डोतासरा ने कहा है कि अगर उन्हें पाकिस्तान से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलती है तो लड़की को परीक्षा की इजाजत दी जाएगी। इसके अलावा अगर पाकिस्तान ने कुछ नहीं भी बताया तो भी वह नियमों में बदलाव कर उसे परीक्षा देने की अनुमति देंगे। बता दें, राजस्थान बोर्ड ने पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थी लड़की दमी कोहली का 12वीं का परीक्षा फॉर्म खारिज कर दिया है, क्योंकि उसने पाकिस्तान बोर्ड से 10वीं की पढ़ाई की है।

HC की फटकार के बाद लाइन में आई केजरीवाल सरकार, देना पड़ा हिन्दू बच्चों को स्कूल में दाखिला

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,269FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe