Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजआपत्तिजनक अवस्था में प्रेमिका संग पादरी: जिस महिला ने देख लिया, उन पर दोनों...

आपत्तिजनक अवस्था में प्रेमिका संग पादरी: जिस महिला ने देख लिया, उन पर दोनों ने मिल कर किया हमला

पादरी जब अपनी प्रेमिका के साथ आपत्तिजनक अवस्था में थे तो पीड़ित महिला की नजर उनके कमरे में पड़ी और उन्होंने दोनों को देख लिया। पादरी ने इसके बाद हमला कर...

तमिलनाडु में एक महिला के ऊपर बर्बरता से हमले का मामला उजागर हुआ है। द कम्यून मैग के अनुसार, पीड़िता की गलती बस ये थी कि उसने एक पादरी और एक अन्य महिला को आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया था।

रिपोर्ट के मुताबिक, कन्याकुमारी जिले के पादरी जोसेफ इसिदोर (Joseph Isidore), तिरुनेलवेली जिले के पनकुडी के पास रोसमियापुरम में हरमाइन्स होम फॉर द डेस्टीट्यूट नाम के एक अनाथालय और वृद्धाश्रम का संचालन करते हैं। इसमें 30 से अधिक बेसहारा बच्चे और बुजुर्ग रहते हैं।

पादरी जोसेफ इसिदोर को किसी महिला के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देखने वाली और हमले का शिकार हुई पीड़िता की पहचान बतौर राजाम्मल (Rajammal) हुई है। वो थुथ्यनवलाई के पास मुदुमोटनमोझी कोविल स्ट्रीट की रहने वाली है। वो कई साल अनाथालय में बतौर बावर्ची काम कर चुकी है।

अफवाह पहले से थी कि ईसाई पादरी जोसेफ का एक महिला जयलक्ष्मी के साथ अफेयर है, जो वहीं कार्यरत है। लेकिन 25 जनवरी को जब दोनों एक-दूसरे के साथ थे, तभी राजाम्मल की नजर उनके कमरे में पड़ी और उन्होंने दोनों को देख लिया। पादरी और जयलक्ष्मी इसके बाद हक्का-बक्का रह गए। उन्होंने राजाम्मल से बहस शुरू कर दी और उस पर बुरी तरह हमला कर दिया।

राजाम्मल पर हुए इस अचानक हमले के कारण उसे गंभीर चोट आए। उन्हें राधापुर के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा। कथित तौर पर राधापुर के सब इंस्पेक्टर शिव पेरुमल को महिला और पादरी के रिश्ते के बारे में पहले से पता था।

जब सब इंस्पेक्टर राजाम्मल के पास पूछताछ के लिए पहुँचे तो पीड़िता ने उन्हें बताया कि उन पर हमला किन हालातों में हुआ। उनका कहना था कि उन्होंने गरीबी और किसी का साथ न होने के कारण पूरी घटना का खुलासा नहीं किया। मगर अब उनकी शिकायत पर दोनों आरोपितों के ख़िलाफ़ मुकदमा चलाया जा रहा है।

गौरतलब है कि तमिलनाडु की यह घटना बिलकुल सिस्टर अभया के केस जैसी है। इसमें अभया ने दो पादरियों और एक नन- थॉमस कुट्टूर, जोस पूथरुकायिल, और सिस्टर सेफी को ‘आपत्तिजनक स्थिति’ में पाया था। सिस्टर अभया को देख कर तीनों ने उन पर हमला कर दिया, जिससे सिस्टर अभया बेहोश हो गईं। इसके बाद तीनों ने मिलकर उन्हें कुऍं में डाल दिया। इस केस में भी तीनों को डर था कि कहीं सिस्टर अभया किसी को बता न दें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राहुल गाँधी ने POCSO एक्ट का किया उल्लंघन, NCPCR ने ट्वीट हटाने के दिए निर्देश: दिल्ली की पीड़िता के माता-पिता की फोटो शेयर की...

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (NCPCR) ने राहुल गाँधी के ट्वीट पर संज्ञान लिया है और ट्विटर से इसके खिलाफ कार्रवाई करने की माँग की है।

‘धर्म में मेरा भरोसा, कर्म के अनुसार चाहता हूँ परिणाम’: कोरोना से लेकर जनसंख्या नियंत्रण तक, सब पर बोले CM योगी

सपा-बसपा को समाजिक सौहार्द्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उनका इतिहास ही सामाजिक द्वेष फैलाने का रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,975FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe