Sunday, June 26, 2022
Homeदेश-समाजडॉ जावेद के जहरीले इंजेक्शन से खाँसी के मरीज की मौत, मृतक को लौटने...

डॉ जावेद के जहरीले इंजेक्शन से खाँसी के मरीज की मौत, मृतक को लौटने थे ₹1 लाख

"मेरे भाई को खाँसी थी। वो दवाई लेने के लिए डॉ जावेद के पास गया था। जावेद को उनके एक लाख रुपए लौटाने थे। उसने मेरे भाई को जहरीला इंजेक्शन लगाया जिसके बाद उसकी मौत हो गई।"

उत्तर प्रदेश के रामपुर स्थित टांडा इलाके के मंजारा गाँव में जावेद नाम के एक डॉक्टर ने खाँसी वाले मरीज की जान ले ली। परिजनों का आरोप है कि मरीज जब डॉक्टर जावेद के पास गया तो उसने उसको गलत इंजेक्शन दिया जिससे मरीज की मौत हो गई। घटना के बाद परिजनों ने कार्रवाई की माँग करते हुए थाने के बाहर जमकर प्रदर्शन किया।

मृतक के भाई अनिल कुमार ने समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए कहा, “मेरे भाई को खाँसी थी। वो दवाई लेने के लिए डॉ जावेद के पास गया था। जावेद को उनके एक लाख रुपए लौटाने थे। उसने मेरे भाई को जहरीला इंजेक्शन लगाया जिसके बाद उसकी मौत हो गई। जब हम न्याय की माँग करने थाने पहुँचे तो थाना प्रभारी ने हमारे साथ मारपीट की।”

इस पूरे मामले को लेकर रामपुर जिलाधिकारी अंजनेय कुमार सिंह का कहना है कि उन्होंने शिकायत ले ली है और जाँच होने के बाद सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अपनी ओर से पूरे मामले में सख्त कार्रवाई के निर्देश दे दिए हैं।

उल्लेखनीय है कि यूपी के रामपुर से यह मामला सामने आने के बाद लोग इस पर हैरानी व्यक्त कर रहे हैं। लोगों का पूछना है कि आखिर कोई डॉक्टर अपने मरीज के साथ ऐसा कैसे कर सकता है। वहीं एक रविशंकर नाम के यूजर का लिखना है कि भारतीय पुलिस के पास हिंदुओं के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की पूरी आजादी है, लेकिन समुदाय विशेष के अपराध खिलाफ़ एफआईआर भी दर्ज नहीं कर सकते।

समाचार एजेंसी एएनआई के ट्वीट पर रामपुर पुलिस से जुड़े पुलिसकर्मी रोहित यादव का ट्वीट भी आया है। इस ट्वीट में उन्होंने बताया है कि इस घटना की बाबत पुलिस ने झोलाछाप को हिरासत में ले लिया है और आवश्यक विधिक कार्रवाई की जा रही है। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने जानकारी दी है कि मृतक के पंचायत नामा की कार्रवाई की जा चुकी है तथा अन्य विधिक कार्रवाई की जा रही हैं।

रामपुर पुलिस ने भी अपने ट्विटर अकॉउंट से बताया है कि मृतक का पंचायतनामा भरकर पोस्टमार्टम के जिला अस्पताल भिजवा दिया गया है। कानून व्यवस्था की स्थिति सामान्य है। अग्रिम विधिक कार्यवाही की जा रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भारत जल्द बनेगा $30 ट्रिलियन की इकोनॉमी’ : देश का मजाक उड़वाने के लिए NDTV ने पीयूष गोयल के बयान से की छेड़छाड़, पोल...

एनडीटीवी ने झूठ बोलकर पाठकों को भ्रमित करने का काम अभी बंद नहीं किया है। हाल में इस चैनल ने भाजपा नेता पीयूष गोयल के बयान को तोड़-मरोड़ के पेश किया।

’47 साल पहले हुआ था लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास’: जर्मनी में PM मोदी ने याद दिलाया आपातकाल, कहा – ये इतिहास पर काला...

"आज भारत हर महीनें औसतन 500 से अधिक आधुनिक रेलवे कोच बना रहा है। आज भारत हर महीने औसतन 18 लाख घरों को पाइप वॉटर सप्लाई से जोड़ रहा है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,523FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe