Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाज'जो गिर गए उन्हें उठाओ मत, सब बाबा की कृपा से ठीक हो जाएँगे':...

‘जो गिर गए उन्हें उठाओ मत, सब बाबा की कृपा से ठीक हो जाएँगे’: हाथरस में भगदड़ के बाद घायलों की भी मदद नहीं करने दे रहे थे सेवादार, मीडिया को भी रोका था

बताया जा रहा है कि सेवादार और बाबा के निजी सुरक्षाकर्मियों की धक्का-मुक्की के कारण भगदड़ शुरू हुई और लोग एक दूसरे के ऊपर गिरना शुरू हुए। हालाँकि जब ग्रामीण और पुलिस प्रशासनिक अधिकारी उनकी मदद को आगे आने लगे तो सेवादारों ने उन्हें उठाने नहीं दिया और कहा कि ये लोग बाबा की कृपा से ठीक हो जाएँगे।

हाथरस भगदड़ मामले में नया खुलासा हुआ है। सामने आया है कि जब घटना वाले दिन (2 जुलाई 2024) भगदड़ में लोग गिरना शुरू हुए थे उस समय कुछ ग्रामीण और प्रशासन के लोग उनकी मदद को आगे आ रहे थे। हालाँकि वो सेवादार थे जिन्होंने उन जमीन पर गिरे लोगों की मदद करने से सबको इनकार कर दिया था और कह रहे थे कि ये लोग बाबा के आशीर्वाद से ठीक हो जाएँगे। इसके बाद वो लोग मौका देखकर भाग गए।

वहीं इस नए खुलासे के बाद अब पूरे मामले में साजिश होने की आशंका जताई जा रही है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी मामले में जाँच के आदेश दिए हैं। पुलिस सेवादारों की पहचान करने में जुटी है।मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि सेवादार और बाबा के निजी सुरक्षाकर्मियों की धक्का-मुक्की के कारण भगदड़ शुरू हुई और लोग एक दूसरे के ऊपर गिरना शुरू हुए। हालाँकि जब ग्रामीण और पुलिस प्रशासनिक अधिकारी उनकी मदद को आगे आने लगे तो सेवादारों ने उन्हें उठाने नहीं दिया और कहा कि ये लोग बाबा की कृपा से ठीक हो जाएँगे।

मामले में एसडीएम और पुलिस रिपोर्ट से पता चला है कि 2 जुलाई को हुए 1 घंटे के कार्यक्रम में 2 लाख से ज्यादा लोगों की भीड़ थी। जब साकार विश्व हरि उस भीड़ से निकला तो लोग उसके पीछे उसे पाँव की मिट्टी माथे पर लगाने के लिए दौड़े। कुछ सेवादारों ने इन्हें रोका तो कई लोग नीचे गिर गए। इसके बाद जो माहौल हुआ उसमें जमीन पर गिरे लोगों का उठ पाना मुश्किल हो गया। स्थिति को दूर से देख रहे ग्रामीणों ने घायलों की मदद करनी चाही लेकिन सेवादारों ने उन्हें रोक दिया और मीडिया को वीडियो बनाने से मना कर दिया। बाद में इन्हीं लोगों के छूटे सामान, कपड़े, जूते-चप्पल को उठाकर निकटवर्ती खेल में फसलों में फेंककर सबूतों को छिपाने का प्रयास हुआ।

राहुल गाँधी हाथरस पीड़ितों से मिलने पहुँचे

अब पुलिस इस मामले में फोटो और वीडियोज देख बाकी साक्ष्य जुटा रही है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने मामले में सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। कल 6 सेवादारों को इस मामले में गिरफ्तार किया गया था। वहीं मुख्य आरोपित की तलाश के लिए 1 लाख रुपए का इनाम घोषित हुआ था।

बता दें कि इस मामले को विपक्ष पूरी तरह से भुनाने के प्रयास कर रहा है। इसी क्रम में राहुल गाँधी हाथरस घटना में जान गँवाने वाले पीड़ितों के परिजनों से मिलने गए सामने आई तस्वीरों में उन्हें अलीगढ़ में पीड़ितों के परिवारों से दिखते-बात करते देखा जा सकता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -