Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाज'खेत में चली गई गाय तो घोंप दिया भाला, आँत बाहर निकल लटक गई':...

‘खेत में चली गई गाय तो घोंप दिया भाला, आँत बाहर निकल लटक गई’: पीलीभीत की घटना, मनप्रीत सिंह गिरफ्तार

"काले रंग की एक गाय घास चरते हुए धर्मपाल के खेत में चली गई। तभी जोगिंदर सिंह के बेटे मनप्रीत सिंह ने गाय के पेट में भाला घोंप दिया। गाय की आँत बाहर निकल कर लटक गई। बाद में गाय गाँव के पश्चिम बाग में मरी मिली।"

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से खेत में घुसने पर गाय की हत्या का मामला सामने आया है। पुलिस ने बुधवार (22 जून 2022) को आरोपित युवक को गिरफ्तार कर लिया। उसकी पहचान मनप्रीत सिंह उर्फ मन्ना के तौर पर हुई है। उस पर भाला घोंप गाय को मार डालने का आरोप है।

घटना पीलीभीत के गांव चकशिवपुरी की है। शिकायतकर्ता बाबूराम नीय दियोरिया कला पुलिस थाने में चौकीदार हैं। उन्होंने अपनी शिकायत में कहा है, “हमारे गाँव के धर्मपाल का खेत गाँव के ही सरदार जोगिंदर सिंह उर्फ बिट्टू ने बँटाई पर लिया है। इस खेत में गन्ना बोया गया है। 20 जून को काले रंग की एक गाय घास चरते हुए धर्मपाल के खेत में चली गई। तभी जोगिंदर सिंह के बेटे मनप्रीत सिंह ने गाय के पेट में भाला घोंप दिया।”

शिकायत के मुताबिक भाले से गाय की आँत बाहर निकल कर लटक गई। बाद में गाय गाँव के पश्चिम बाग में मरी मिली। चौकीदार बाबूराम की शिकायत पर पुलिस ने मनप्रीत के खिलाफ गौ हत्या निवारण अधिनियम उत्तर प्रदेश की धारा 3/8 के साथ पशु क्रूरता निवारण अधिनियम की धारा 11 के तहत FIR दर्ज की है। उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

पिछले दिनों इस तरह की पशु क्रूरता राजस्थान से भी सामने आई थी। जयपुर में एक किसान ने कुत्ते पर एयर गन से 22 गोलियाँ दाग दी थी, जिससे उसकी मौत हो गई। वह कुत्ते के बार-बार खेत घुसने से गुस्साया था। किसान के खिलाफ तूंगा थाने में FIR दर्ज कराई गई थी।

रिपोर्ट के मुताबिक किसान ने बेजुबान जानवर पर अपनी एयर गन से ताबड़तोड़ फायरिंग की थी। इससे कुत्ते की बॉडी में 22 छर्रे घुस गए थे। कुत्ता खेत में करीब 2 घंटे तक दर्द से कराहता रहा। लेकिन किसान को दया नहीं आई। तभी वहाँ से जाते हुए एक शख्स की नजर कुत्ते पर पड़ी। वह तपड़ते कुत्ते को हिंगोनिया गौशाला ले गया, जहाँ उसकी गंभीर स्थिति देखते हुए डॉक्टरों ने उसे पाँच बत्ती स्थित एनिमल हॉस्पिटल रेफर कर दिया। इलाज के दौरान करीब 2 घंटे बाद कुत्ते की मौत हो गई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -