PMC Bank घोटाला: राकेश और सारंग वाधवन से संबंधित 70 करोड़ के ‘दीवान बंगले’ को ED ने किया जब्त

ईडी को मालदीव में वधावन से संबंधित एक शानदार नौका का भी पता लगा है और वित्तीय जाँच एजेंसी द्वारा नौका को जब्त करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। ईओडब्ल्यू ने मामले में लगभग 4,000 करोड़ रुपए की संपत्ति भी जब्त की है।

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक में 4355 करोड़ रुपए का घोटाला करने वाले एचडीआईएल के निदेशक राकेश वधावन और सारंग वधावन से संबंधित एक आलीशान बंगले को जब्त कर लिया है। यह संपत्ति मुंबई के बाहरी इलाके में वसई के देव तलाओ क्षेत्र में 5 एकड़ में फैली हुई है। इसे दीवान बंगले के रूप में जाना जाता है। इस जमीन की कीमत तकरीबन 70 करोड़ रुपए बताई जा रही है।

बता दें कि वधावन फिलहाल मुंबई की एस्प्लेनेड कोर्ट के आदेश के बाद 14 अक्टूबर तक पुलिस हिरासत में हैं। इस दौरान, वे पंजाब और महाराष्ट्र सहकारी (पीएमसी) बैंक में 4,355 करोड़ रुपए के घोटाले में पूछताछ का सामना कर रहे हैं। पूर्व पीएमसी बैंक के चेयरमैन वरियाम सिंह और पीएमसी बैंक के पूर्व एमडी जॉय थॉमस भी पुलिस हिरासत में हैं।

अब तक, ईडी ने राकेश वधावन और सारंग वधावन और उनके परिवार के सदस्यों से संबंधित कई संपत्तियों की जाँच की है। इस सिलसिले में जाँच एजेंसी ने नौ सीटर डसॉल्ट फाल्कन 200 और एक बॉम्बार्डियर चैलेंजर 300 सहित दो निजी व्यापार जेट्स जब्त किए हैं। इसके साथ ही अलीबाग के अवास बीच पर ढाई एकड़ में फैले उनके घर पर छापे के दौरान तीन एसयूवी बरामद की गई थी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जाँच के दौरान ईडी को वधावन की बॉलीवुड की कई मशहूर हस्तियों और राजनेताओं के साथ की वो तस्वीरें हासिल हुई हैं, जिसमें वो लोग छुट्टियों के दौरान वधावन के घर पर पार्टी करते नजर आए। अब ईडी यह जाँच कर रही है कि क्या वधावन ने उन्हें संपत्ति भेंट की है। एजेंसी ने वधावन के स्वामित्व वाली 15 कारों को भी जब्त किया है, जिसमें दो रोल्स-रॉयस, दो रेंज रोवर्स और एक बेंटले शामिल हैं।

ईडी को मालदीव में वधावन से संबंधित एक शानदार नौका का भी पता लगा है और वित्तीय जाँच एजेंसी द्वारा नौका को जब्त करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। ईओडब्ल्यू ने मामले में लगभग 4,000 करोड़ रुपए की संपत्ति भी जब्त की है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: