Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजगाजीपुर बॉर्डर जाने वालों की कुंडली जुटा रही यूपी पुलिस, एक्शन के डर से...

गाजीपुर बॉर्डर जाने वालों की कुंडली जुटा रही यूपी पुलिस, एक्शन के डर से टेंशन में ‘किसानों’ के चौधरी

पुलिस अधिकारी का कहना है कि यदि दिल्ली पुलिस हिंसा में शामिल किसी भी प्रदर्शनकारी को ढूँढती है और उसे खोजने में मदद की जरूरत पड़ती है, तो उत्तर प्रदेश पुलिस आवश्यक सहायता प्रदान करेगी।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गाँवों से गाजीपुर विरोध स्थल पर जाने वाले सभी ‘किसान प्रदर्शनकारियों’ का एक डेटाबेस तैयार किया जा रहा है। जिसके चलते किसान संगठन के नेताओं को अब कानूनी कार्रवाई होने का भय सताने लगा है। बताया जा रहा है कि जल्द ही इन सभी किसानों को नोटिस दिए जा सकते हैं। किसान नेताओं का दावा है कि पुलिस द्वारा प्रदर्शनकारी किसानों के परिवारों पर उनसे विरोध स्थल से घर लौट आने को कहने का दबाव बनाया जा रहा है।

समाचार पत्र ‘द टाइम्स ऑफ इंडिया’ की रिपोर्ट के अनुसार, पंजाब और हरियाणा के बाद, पश्चिमी उत्तर प्रदेश से ही किसानों की सबसे अधिक संख्या को दिल्ली के बाहरी इलाकों में विरोध प्रदर्शन के लिए भेजा गया है, जिसमें विशेष रूप से गाजियाबाद जिले के अंतर्गत आने वाले गाजीपुर के लोग शामिल हैं। इसी बीच, गाजीपुर में धारा 144 के जरिए निषेधात्मक आदेश लागू किए गए हैं।

किसान संगठन के नेताओं का दावा है कि पुलिस, प्रदर्शनकारियों के परिवारों से अपने परिजनों को घर लौटने को कहने का भी दबाव बना रही है। उल्लेखनीय है कि गाजीपुर के विरोध स्थल पर अधिकांश प्रदर्शनकारी उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले से हैं।

आगरा रेंज के पुलिस महानिरीक्षक, ए सतीश गणेश ने कहा, “पिछले दो महीनों से हम किसानों को दिल्ली की ओर बढ़ने से रोकने की अपील कर रहे हैं। दिल्ली सीमा से लगे हिस्सों पर बड़े पैमाने पर आवाजाही को रोकने के लिए निवारक कार्रवाई की जा रही है। दिल्ली की सीमाओं पर डेरा जमाए लोगों का डेटाबेस तैयार करने के लिए पुलिस की टीमें गाँवों में जा रही हैं। गाजियाबाद प्रशासन द्वारा धारा 144 लगाई गई है। गाजीपुर बॉर्डर पर डेरा डालने वाले लोगों को विरोध स्थल छोड़कर वापस घर जाना चाहिए।”

हालाँकि, शाहजहाँपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) एस आनंद ने कहा कि उन्होंने सिर्फ डेटा बनाए रखने के लिए उन प्रदर्शनकारियों के बारे में जानकारी दर्ज की है, जो 26 जनवरी की ट्रैक्टर रैली में भाग लेने गए थे।

उन्होंने कहा कि यदि दिल्ली पुलिस हिंसा में शामिल किसी भी प्रदर्शनकारी को ढूँढती है और उसे खोजने में मदद की जरूरत पड़ती है, तो उत्तर प्रदेश पुलिस आवश्यक सहायता प्रदान करेगी। उन्होंने आगे कहा कि वे किसी भी प्रदर्शनकारी के परिवार के सदस्यों पर उन्हें घर लौटने को मजबूर करने का दबाव नहीं डाल रहे हैं।

6 फरवरी को देशव्यापी आंदोलन की घोषणा की

प्रदर्शनकारी किसान संगठनों ने 06 फरवरी को तीन घंटे के राष्ट्रव्यापी चक्का जाम का ऐलान किया है। भारतीय किसान यूनियन (आर) के नेता बलबीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि वो 06 फरवरी को दोपहर 12 बजे से 03 बजे तक रोड ब्लॉक करेंगे। उन्होंने कहा कि यह चक्का जाम प्रदर्शन स्थलों पर इंटरनेट बैन, बजट में किसानों को नजरअंदाज किए जाने और अन्य मुद्दों को लेकर किया जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आजादी के वक्त थे 3 मुस्लिम बहुल जिले, अब 9 हैं: बंगाल BJP प्रमुख ने कहा- असम और बंगाल में डेमोग्राफी बदलाव सोची-समझी रणनीति,...

बंगाल भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने असम के सीएम हिमंता के उस बयान का समर्थन किया है, जिसमें उन्होंने डोमोग्राफी बदलाव की बात कही थी।

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -