Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाजहमला कर भाग रहा था रहमान, पुलिस ने गोली मारी: रेप के बाद आदिवासी...

हमला कर भाग रहा था रहमान, पुलिस ने गोली मारी: रेप के बाद आदिवासी बहनों को पेड़ से लटकाने का मामला

बलात्कार के बाद नाबालिग बहनों की हत्या कर उनकी लाश को पेड़ से लटका दिया गया था। मामले के मुख्य आरोपितों मुजम्मिल शेख, नजीबुल शेख और फारूक रहमान सहित सभी 7 को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है।

असम के कोकराझार में आदिवासी नाबालिग बहनों से रेप और हत्या के मामले के मुख्य आरोपितों में से एक फारूक रहमान ने भागने की कोशिश की। इस दौरान पुलिस कार्रवाई में गोली लगने से वह घायल हो गया। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

कोकराझार के एसपी थुबे प्रतीक विजय कुमार ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि रहमान ने पुलिस को कहा कि वह एक मोबाइल फोन की बरामदगी में मदद करेगा। जब गुरुवार (17 जून 2021) को उसे मौके पर ले जाया गया तो उसने पुलिस पर हमला कर दिया। उन्होंने बताया कि रहमान ने जहाँ मोबाइल फोन होने की बात कही थी, असल में वहाँ एक धारदार हथियार छिपाया गया था। इसकी सहायता से उसने पुलिस पर हमला किया और भागने की कोशिश की। मजबूरी में पुलिस को रहमान पर गोली चलनी पड़ी।

ज्ञात हो कि असम के कोकराझार जिले में दो आदिवासी नाबालिग बहनों की पेड़ से टँगी लाश हुई लाश मिली थी। बलात्कार के बाद इनकी हत्या की गई थी और फिर उनकी लाश को पेड़ से लटका दिया गया था। मामले के मुख्य आरोपितों मुजम्मिल शेख, नजीबुल शेख और फारूक रहमान सहित सभी 7 को पुलिस ने गिरफ्तार कर चुकी है।

पिछले सप्ताह अभ्याकुती गाँव के पास जंगल में नाबालिग बहनों की लाश मिलने के बाद उनके परिवार ने रेप के बाद हत्या किए जाने की आशंका जताई थी। हालाँकि पुलिस शुरुआत में इसे सुसाइड का मामला मान रही थी। आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद एसपी थुबे प्रतीक विजय कुमार ने बताया था कि दोनों लड़कियों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आनी अभी बाकी है। लेकिन मामले में गिरफ्तार किए गए सात लोगों ने लड़कियों के साथ दुष्कर्म और उन्हें जान से मारने की बात कबूल कर ली थी।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा नए खुद ट्वीट करके इस घटना की जानकारी दी थी और इस बलात्कार और हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए असम पुलिस की सराहना भी की थी।

इस वीभत्स अपराध में गिरफ्तार सभी आरोपित 19 से 27 साल के हैं। इनकी पहचान मुजम्मिल शेख, नजीबुल शेख, फारुक रहमान, हनीफ़ शेख, जहानुर इस्लाम, मो. अतब अली और संकार्डे बर्मन के रूप में हुई है। एसपी ने बताया था कि आरोपितों ने अपने कबूलनामे में कहा है कि वे दोनों लड़कियों को जानते थे। जहाँ लड़कियों का परिवार रहता है, उससे सटे इलाकों के ही आरोपित भी रहने वाले हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? मौलाना के दावे का विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

राणा अयूब बनीं ट्रोलिंग टूल, कश्मीर पर प्रोपेगेंडा चलाने के लिए आ रहीं पाकिस्तान के काम: जानें क्या है मामला

पाकिस्तान के सूचना मंत्रालय से जुड़े लोग ऑन टीवी राणा अयूब की तारीफ करते हैं। वह उन्हें मोदी सरकार का पर्दाफाश करने वाली ;मुस्लिम पत्रकार' के तौर पर जानते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,975FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe