Wednesday, June 19, 2024
Homeदेश-समाजहमला कर भाग रहा था रहमान, पुलिस ने गोली मारी: रेप के बाद आदिवासी...

हमला कर भाग रहा था रहमान, पुलिस ने गोली मारी: रेप के बाद आदिवासी बहनों को पेड़ से लटकाने का मामला

बलात्कार के बाद नाबालिग बहनों की हत्या कर उनकी लाश को पेड़ से लटका दिया गया था। मामले के मुख्य आरोपितों मुजम्मिल शेख, नजीबुल शेख और फारूक रहमान सहित सभी 7 को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है।

असम के कोकराझार में आदिवासी नाबालिग बहनों से रेप और हत्या के मामले के मुख्य आरोपितों में से एक फारूक रहमान ने भागने की कोशिश की। इस दौरान पुलिस कार्रवाई में गोली लगने से वह घायल हो गया। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

कोकराझार के एसपी थुबे प्रतीक विजय कुमार ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि रहमान ने पुलिस को कहा कि वह एक मोबाइल फोन की बरामदगी में मदद करेगा। जब गुरुवार (17 जून 2021) को उसे मौके पर ले जाया गया तो उसने पुलिस पर हमला कर दिया। उन्होंने बताया कि रहमान ने जहाँ मोबाइल फोन होने की बात कही थी, असल में वहाँ एक धारदार हथियार छिपाया गया था। इसकी सहायता से उसने पुलिस पर हमला किया और भागने की कोशिश की। मजबूरी में पुलिस को रहमान पर गोली चलनी पड़ी।

ज्ञात हो कि असम के कोकराझार जिले में दो आदिवासी नाबालिग बहनों की पेड़ से टँगी लाश हुई लाश मिली थी। बलात्कार के बाद इनकी हत्या की गई थी और फिर उनकी लाश को पेड़ से लटका दिया गया था। मामले के मुख्य आरोपितों मुजम्मिल शेख, नजीबुल शेख और फारूक रहमान सहित सभी 7 को पुलिस ने गिरफ्तार कर चुकी है।

पिछले सप्ताह अभ्याकुती गाँव के पास जंगल में नाबालिग बहनों की लाश मिलने के बाद उनके परिवार ने रेप के बाद हत्या किए जाने की आशंका जताई थी। हालाँकि पुलिस शुरुआत में इसे सुसाइड का मामला मान रही थी। आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद एसपी थुबे प्रतीक विजय कुमार ने बताया था कि दोनों लड़कियों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आनी अभी बाकी है। लेकिन मामले में गिरफ्तार किए गए सात लोगों ने लड़कियों के साथ दुष्कर्म और उन्हें जान से मारने की बात कबूल कर ली थी।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा नए खुद ट्वीट करके इस घटना की जानकारी दी थी और इस बलात्कार और हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए असम पुलिस की सराहना भी की थी।

इस वीभत्स अपराध में गिरफ्तार सभी आरोपित 19 से 27 साल के हैं। इनकी पहचान मुजम्मिल शेख, नजीबुल शेख, फारुक रहमान, हनीफ़ शेख, जहानुर इस्लाम, मो. अतब अली और संकार्डे बर्मन के रूप में हुई है। एसपी ने बताया था कि आरोपितों ने अपने कबूलनामे में कहा है कि वे दोनों लड़कियों को जानते थे। जहाँ लड़कियों का परिवार रहता है, उससे सटे इलाकों के ही आरोपित भी रहने वाले हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पूरी हुई 832 साल की प्रतीक्षा, राष्ट्र को PM मोदी ने समर्पित की नालंदा की विरासत: कहा- आग की लपटें ज्ञान को नहीं मिटा...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बिहार के राजगीर में नालंदा विश्वविद्यालय के नए परिसर का उद्धघाटन किया। नया परिसर नालंदा विश्वविद्यालय के प्राचीन खंडहरों के पास है

फिर सामने आई कनाडा की दोगलई: जी-7 में शांति पाठ, संसद में आतंकी निज्जर को श्रद्धांजलि; खालिस्तानियों ने कंगारू कोर्ट में PM मोदी को...

खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर को कनाडा की संसद में न सिर्फ श्रद्धांजलि दी गई, बल्कि उसके सम्मान में 2 मिनट का मौन रखकर उसे इज्जत भी दी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -