Monday, June 24, 2024
Homeदेश-समाज'सेंट मेरी' स्कूल में रामलीला का आपत्तिजनक मंचन: प्रिंसिपल ने 'हिन्दू आईटी सेल' को...

‘सेंट मेरी’ स्कूल में रामलीला का आपत्तिजनक मंचन: प्रिंसिपल ने ‘हिन्दू आईटी सेल’ को पत्र लिख माँगी माफ़ी, कहा – आगे से ऐसा नहीं होगा

"विद्यालय परिसर में बच्चों द्वारा जो रामलीला का मंचन किया गया, उसके किसी दृश्य में अगर किसी भी माननीय व्यक्ति को कोई आपत्ति हो या किसी की भावनाओं को किसी प्रकार की ठेस पहुँची हो विद्यालय प्रबंधन कमिटी इसके लिए क्षमाप्रार्थी है।"

हरियाणा के फतेहाबाद स्थित सेंट मेरी स्कूल में रामलीला के साथ छेड़छाड़ कर के इसे आपत्तिजनक ढंग से प्रस्तुत किए जाने का मामला सामने आया था। अब स्कूल के प्रधानाध्यापक ने इस घटना के लिए लिखित में माफ़ी माँगी है ‘हिन्दू आईटी सेल’ ने जानकारी दी है कि संगठन की टीम ने ‘सेंट मेरीज पब्लिक स्कूल’ के प्रिंसिपल राजीव शर्मा से बात की उन्होंने न सिर्फ अपनी गलती स्वीकार की है, बल्कि स्कूल की तरफ से आधिकारिक रूप से माफीनामा भी जारी किया है।

राजीव शर्मा ने इस पत्र में लिखा है, “विद्यालय परिसर में बच्चों द्वारा जो रामलीला का मंचन किया गया, उसके किसी दृश्य में अगर किसी भी माननीय व्यक्ति को कोई आपत्ति हो या किसी की भावनाओं को किसी प्रकार की ठेस पहुँची हो विद्यालय प्रबंधन कमिटी इसके लिए क्षमाप्रार्थी है। विद्यालय प्रबंधन समिति द्वारा यह विश्वास भी दिलाया जाता है कि भविष्य में ऐसी कोई घटना नहीं होगी।” प्रिंसिपल राजीव शर्मा ने हिन्दू आईटी सेल को लिखे गए पत्र में ये जानकारी दी। ये स्कूल फतेहाबाद के टोहाना के पटेल नगर में स्थित है।

इससे पहले ‘हिन्दू आईटी सेल’ के प्रवक्ता साहिल ने जानकारी दी थी कि संगठन ने रामलीला के आपत्तिजनक मंचन के इस वीडियो को संज्ञान में लेते हुए उचित कार्रवाई के लिए कानूनी सलाहकार से बात की है। साथ ही उन्होंने लोगों से इस स्कूल का सटीक पता माँगा था। ‘हिन्दू आईटी सेल’ के संस्थापक सदस्य शांतनु और संगठन के एक अन्य सदस्य व पत्रकार हिमांशु तिवारी ने इसमें बड़ी भूमिका निभाई। संगठन ने कहा कि इस घटना को लेकर काफी शंका व संदेह का माहौल है, जिस पर वो शनिवार (6 नवंबर, 2021) को रात 10 बजे स्पष्टीकरण देंगे।

‘हिन्दू आईटी सेल’ के संस्थापक सदस्य अक्षित सिंह ने सेंट मेरी स्कूल के प्रधानाध्यापक को इस अपमानजनक कृत्य के लिए माफ़ी माँगने के लिए अल्टीमेटम दिया था। इसके 20 मिनट के भीतर स्कूल प्रशासन को झुकना पड़ा और उन्होंने हिन्दुओं की भावनाओं को आहत करने के लिए हिन्दू समाज से माफ़ी माँगी।

सेंट मेरी स्कूल में रामलीला का आपत्तिजनक मंचन: जानिए क्या है पूरा मामला

हरियाणा के फतेहाबाद के 2 अलग अलग स्कूलों पर हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगा था। इसमें पहले का नाम डी ए वी पब्लिक स्कूल और दूसरा सेंट मेरी पब्लिक स्कूल है। बजरंग दल ने दोनों स्कूलों के खिलाफ स्थानीय थाने में शिकायत दर्ज करवाई थी। सोशल मीडिया पर भी इन घटनाओं से जुड़ा वीडियो वायरल हो रहा है। वायरल हो रहे वीडियो में भगवान् राम और लक्ष्मण का आपत्तिजनक चित्रण किया गया है। साथ ही अन्य दृश्य में अश्लीलता दिखाई गई है। वीडियो में मंचन के दौरान बाकी स्कूल स्टाफ द्वारा कोई आपत्ति नहीं जताया जा रहा। वीडियो के दौरान दर्शक दीर्घा से ठहाकों की आवाजें सुनाई दे रही हैं।

अपने शिकायती पत्र में बजरंग दल ने कहा था कि डी ए वी स्कूल और सेंट मेरी स्कूल में रामलीला का मंचन किया गया। इस मंचन के दौरान देवताओं का भद्दे तरीके से मज़ाक उड़ाया गया। बजरंग दल ने दोनों स्कूल संचालक, प्रिंसिपल, शामिल सभी अध्यापक और अध्यापिकाओं के साथ आपत्तिजनक मंचन करने वालों पर कार्रवाई की माँग की है। इस मामले में ऑपइंडिया ने शिकायतकर्ता से बात की। बजरंग दल पदाधिकारी दीपक सैनी ने बताया कि आए दिन हिन्दू भावनाओं का अपमान करना इस स्कूलों की आदत बन चुकी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों के आंदोलन से तंग आ गए स्थानीय लोग: शंभू बॉर्डर खुलवाने पहुँची भीड़, अब गीदड़-भभकी दे रहे प्रदर्शनकारी

किसान नेताओं ने अंबाला शहर अनाज मंडी में मीडिया बुलाई, जिसमें साफ शब्दों में कहा कि आंदोलन खराब नहीं होना चाहिए। आंदोलन खराब करने वाला खुद भुगतेगा।

‘PM मोदी ने किया जी अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, गिर गई उसकी दीवार’: News24 ने फेक न्यूज़ परोस कर डिलीट की ट्वीट,...

अयोध्या धाम रेलवे स्टेशन से जुड़े जिस दीवार के दिसंबर 2023 में बने होने का दावा किया जा रहा है, वो दावा पूरी तरह से गलत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -