Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजअब्दुल के घर में ब्लास्ट, टूटे खिड़कियों के शीशे: पूछताछ में बोला- वाशिंग मशीन...

अब्दुल के घर में ब्लास्ट, टूटे खिड़कियों के शीशे: पूछताछ में बोला- वाशिंग मशीन में गैस भर रहा था, पुलिस ने जब्त किए 4 सिम और पासपोर्ट

अब्दुल का पूरा नाम रशीद मोहम्मद अली शेख है। वो अपार्टमेंट की तीसरी मंजिल पर रहता था। विस्फोट के बाद पूरे अपार्टमेंट में अफरातफरी मच गई थी। लोगों द्वारा पूछने पर उसने गैस फिलिंग के दौरान ब्लास्ट होना बताया।

महाराष्ट्र में पुणे के एक अपार्टमेंट में ब्लास्ट की खबर है। ब्लास्ट में किसी के मारे जाने की सूचना नहीं हैं। विस्फोट के बाद पुलिस ने अब्दुल रशीद नाम के व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। अब्दुल उसी आपर्टमेंट में वाशिंग मशीन बनाने का काम करता है। घटना रविवार (12 जून 2022) की है।

ANI के मुताबिक घटनास्थल पुणे स्थित भवानी पेठ में मौजूद विशाल सोसाईटी नाम की जगह है। ये जगह समर्थ नगर थानाक्षेत्र में आती है। थाने के सीनियर इंस्पेक्टर विष्णु तम्हाने ने इस विस्फोट की पुष्टि करते हुए बताया, “ये कम तीव्रता का विस्फोट था जो वाशिंग मशीन बनाने के दौरान हुआ।” वहीं एक अन्य सीनियर पुलिस अधिकारी ने कहा, “पूछताछ में रशीद शेख इसे वाशिंग मशीन रिपेयरिंग के दौरान हुआ ब्लास्ट बता रहा है लेकिन हम इसके पीछ असल कारणों की बारीकी से जाँच कर रहे हैं।”

एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक हिरासत में लिए गए रशीद शेख की उम्र लगभग 45 साल है। वह विशाल सोसाइटी के एक आपर्टमेंट में किराए पर रहता था। इसी अपार्टमेंट से वह वाशिंग मशीन बनाने का व्यवसाय करता था। पुणे में उसके कई रिश्तेदार रहते हैं। ब्लास्ट की आवाज काफी दूर तक सुनाई दी और उस के बाद कई लोगों की खिड़कियों के शीशे टूट गए। मौके पर बम निरोधक दस्ते को बुलाया गया।

आरोपित का पूरा नाम रशीद मोहम्मद अली शेख है। वो अपार्टमेंट की तीसरी मंजिल पर रहता था। विस्फोट के बाद पूरे अपार्टमेंट में अफरातफरी मच गई थी। लोगों द्वारा पूछने पर उसने गैस फिलिंग के दौरान ब्लास्ट होना बताया। जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुणे में दौरा है। इसलिए पुलिस इस पूरे मामले की बेहद बारीकी से जाँच कर रही। रशीद शेख के पास 3 से 4 सिम कार्ड बरामद हुए हैं। शेख का पासपोर्ट भी पुलिस ने जब्त कर लिया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -