मुस्लिम लड़की, हिन्दू बॉयफ्रेंड की प्रेम कहानी: प्रेमी को घर-गाँव वालों से पिटता देख प्रेमिका ने काट ली नस

जेबा परवीन और शिवराम एक दूसरे से प्यार करते थे और दोनों में लगभग एक साल से प्रेम सम्बन्ध था। कुछ दिनों पहले इन्होंने एक मंदिर में शादी भी रचाई थी। लेकिन लड़की के मौसा मोहम्मद ज़ुबैर ने...

बिहार के पूर्णिया में अपने बॉयफ्रेंड को पिटते देख कर प्रेमिका ने नस काट ली। केनगर थाना क्षेत्र के बेगमपुर गाँव में आक्रोशित प्रेमिका ने ख़ुद की ही जान लेने की कोशिश की क्योंकि लोग उसके प्रेमी की पिटाई कर रहे थे। सूचना पर पहुँची पुलिस ने युवक शिवराम कुमार को हिरासत में ले लिया है। जबकि जेबा परवीन को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। युवक मधेपुरा के मुरलीगंज का निवासी है।

ख़बर के अनुसार, जेबा परवीन और शिवराम एक दूसरे से प्यार करते थे और दोनों में लगभग एक साल से प्रेम सम्बन्ध था। कुछ दिनों पहले इन्होंने एक मंदिर में शादी भी रचाई थी। जेबा अपने नाना मोहम्मद अब्दुल समद के यहाँ रहती थी और पूर्णिया पढ़ने के लिए जाया करती थी। वह गाँव से शहर साइकल से जाती थी। वहीं कोचिंग सेंटर में उसकी जान-पहचान शिवराम से हुई थी। उक्त घटना बुधवार (सितम्बर 11, 2019) की है, जब शिवराम अपनी प्रेमिका के गाँव पहुँचा था और जेबा भी घर से निकल चुकी थी।

लेकिन, भागने के क्रम में ग्रामीणों ने युवक शिवराम को धर दबोचा और उसकी पिटाई करने लगे। प्रेमिका जेबा ने इसका विरोध किया। पिटाई नहीं रोके जाने से क्षुब्ध होकर अंततः उसने अपनी नस काट ली। घटना के बाद स्थानीय लोगों व जन प्रतिनिधियों ने सुलह का भी प्रयास किया लेकिन लड़की के मौसा मोहम्मद ज़ुबैर ने किसी की भी बात मानने से साफ़ इनकार कर दिया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जेबा 10वीं की छात्रा है जबकि शिवराम 12वीं में पढ़ता है। फिलहाल जेबा पूर्णिया महिला हेल्प लाइन में है जबकि उसके प्रेमी शिवराम केनगर थाना में बंद है। दोनों घर से भाग कर कहीं और जाने की तैयारी में थे। इसी क्रम में उन्होंने भागने की योजना बनाई थी और शिवराम जेबा को लेने के लिए उसके गाँव आया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शरजील इमाम
“अब वक्त आ गया है कि हम गैर मुस्लिमों से बोलें कि अगर हमारे हमदर्द हो तो हमारी शर्तों पर आकर खड़े हो। अगर वो हमारी शर्तों पर खड़े नहीं होते तो वो हमारे हमदर्द नहीं हैं। असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है। असम और इंडिया कटकर अलग हो जाए, तभी ये हमारी बात सुनेंगे।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,993फैंसलाइक करें
36,108फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: