Wednesday, September 28, 2022
Homeदेश-समाजरायबरेली के 33 नए कोरोना पॉजिटिव मामलों में 31 तबलीगी जमात से जुड़े, कई...

रायबरेली के 33 नए कोरोना पॉजिटिव मामलों में 31 तबलीगी जमात से जुड़े, कई गलियों में जाकर बेचते थे फल सब्जी

रायबरेली में संक्रमित मिले लोगों को लेकर जिला प्रशासन इसलिए ज्यादा चिंतित है, क्योंकि इनमें से अधिकांश फल-सब्जी का ठेला लगाते थे। ये लोग गलियों में जाकर फल सब्जी बेचते थे। अब जिला प्रशासन के लिए टेढ़ी खीर है कि वह पता लगाए कि इन लोगों ने कहाँ-कहाँ और किसे-किसे फल सब्जियाँ बेचीं।

उत्तर प्रदेश का रायबरेली कोरोना वायरस का नया केंद्र बन गया है। मंगलवार (अप्रैल 21,2020) को यहाँ एक साथ 33 नए कोरोना के मरीज सामने आए हैं। नए मरीजों के मिलने के बाद जिले में अब कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 35 हो गई है। एक साथ 33 मरीज पॉजिटिव मिलने से जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है, क्योंकि अभी तक जिले में मात्र 2 मरीज थे, जिससे सभी अधिकारी राहत की साँस ले रहे थे।

मगर एक साथ 33 कोरोना पाॅजिटिव मरीज मिलने से अफरा तफरी का माहौल पैदा हो गया है। आनन-फानन में प्रशासनिक और स्वास्थ्य टीम की ओर से सभी मरीजों को क्वारंटाइन कराया गया है। फिलहाल एहतियात के तौर पर शहर के फातिमा मस्जिद क्षेत्र को और बछरावा क्षेत्र को हॉटस्पॉट घोषित कर सील कर दिया गया है। जानकारी के मुताबिक 31 मरीज तबलीगी जमात से जुड़े हैं।

33 कोरोना मरीजों में 16 सहारनपुर जिले के हैं। जिन्हें कृपालु इंस्टिट्यूट में पूर्व में क्वारंनटाइन किया गया था। इनका ब्लड सैंपल एसजीपीजीआई लखनऊ भेजा गया था जिसकी रिपोर्ट पाजिटिव आई है। इसके अलावा रायबरेली निवासी 17 लोगों की रिपोर्ट कोरोना पाजिटिव आई है।

रायबरेली के पाजिटिव लोगों में 7 कोतवाली रायबरेली के निवासी हैं तो बछरावाँ के 5, नसीराबाद कोतवाली क्षेत्र का 1, रोहनिया थाना क्षेत्र के 2, व दो अन्य थाना क्षेत्रो के हैं। अधिकारियों के मुताबिक इनमें से कुछ को पूर्व में शहर की फातिमा मस्जिद से पकड़कर कृपालु इंस्टिट्यूट में क्वारंटाइन किया गया था और कुछ को बछरावाँ कोतवाली क्षेत्र के कस्बे में एक घर से। इनमें से कई दिल्ली के निजामुद्दीन से जमात कर बस्ती जिले से होकर यहाँ आए थे।

2 कोरोना पॉजिटिव जमाती ने किया 33 को संक्रमित

इससे पहले उस समय हड़कंप मच गया था, जब क्वारंटाइन किए गए दो जमाती मोहम्मद नाजिम और अलीम की कोरोना रिपोर्ट पाजिटिव आई थी। आनन-फानन मे प्रशासनिक अधिकारी, स्वास्थ्य महकमे के अधिकारी और पुलिस बल मस्जिद पहुँचे। दोनों जमाती को टीम ने जिले के रोहनिया मे बने क्वारंटाइन रूम मे शिफ्ट कराया। बताया जा रहा है कि जो कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, ये मरीज उन्ही दो संक्रमित जमाती के संपर्क में आए थे। 

सब्जी बेचते थे संक्रमित, इसलिए बढ़ी मुसीबत

रायबरेली में संक्रमित मिले लोगों को लेकर जिला प्रशासन इसलिए ज्यादा चिंतित है, क्योंकि इनमें से अधिकांश फल-सब्जी का ठेला लगाते थे। ये लोग गलियों में जाकर फल सब्जी बेचते थे। अब जिला प्रशासन के लिए टेढ़ी खीर है कि वह पता लगाए कि इन लोगों ने कहाँ-कहाँ और किसे-किसे फल सब्जियाँ बेचीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सारे मुस्लिम युवकों को जेल में डाल दिया जाएगा, UAPA है काला कानून’: PFI बैन पर भड़के ओवैसी, लालू यादव और कॉन्ग्रेस MP

असदुद्दीन ओवैसी के लिए UAPA 'काला कानून' है। लालू यादव ने RSS को 'PFI सभी बदतर' कह दिया। कॉन्ग्रेसी कोडिकुन्नील सुरेश ने RSS को बैन करने की माँग की।

2047 तक भारत को बनाना था इस्लामी राज्य, गृहयुद्ध के प्लान पर चल रहा था काम: राजस्थान में जातीय संघर्ष भड़का PFI का सरगना...

PFI 'मिशन 2047' की तैयारी में था, अर्थात स्वतंत्रता के 100 वर्ष पूरे होने तक भारत को एक इस्लामी मुल्क में तब्दील कर देना, जहाँ शरिया चले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe