Tuesday, August 16, 2022
Homeदेश-समाजराजस्थान के एक गाँव में 51 हिंदुओं ने ली भू समाधि, गहलोत सरकार के...

राजस्थान के एक गाँव में 51 हिंदुओं ने ली भू समाधि, गहलोत सरकार के ‘मुस्लिम तुष्टिकरण’ के खिलाफ 16 दिन से चल रहा आंदोलन

किसान मोर्चा के प्रदेश प्रवक्ता नेम सिंह ने आरोप लगाया कि ऐसा करके राजस्थान सरकार मुस्लिमों को फायदा पहुँचाना चाहती है। अगर परिसीमन हुआ तो थाना और सरकारी दफ्तर सबकुछ ग्रामीणों की पहुँच से दूर निकल जाएँगें।

राजस्थान में भरतपुर की डीग तहसील में गहलोत सरकार द्वारा कराए जा रहे परिसीमन के विरोध में 51 हिन्दू ग्रामीणों ने भूमि समाधि ले ली है। हिन्दू ग्रामीणों का आरोप है कि ऐसा करके गहलोत सरकार मुस्लिमों को फायदा पहुँचाना चाहती है। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि अगर जल्द ही उनकी माँगों को सरकार ने नहीं माना तो वे रेलवे ट्रैक को जाम करेंगे।

रिपोर्ट के मुताबिक, आंदोलनरत किसानों ने जहाँ पर भू समाधि ली है, वो जगह भरतपुर-अलवर राजमार्ग के पास स्थित है। बीते 16 दिनों से ग्रामीण सरकार के फैसले के खिलाफ विरोध कर रहे हैं, लेकिन अब तक सरकार या उसके किसी अधिकारी के कानों में जूँ तक नहीं रेंगी है। इससे पहले 29 जून को ये ग्रामीण अलवर-भरतपुर स्टेट हाईवे को भी जाम कर चुके हैं, लेकिन कोई निष्कर्ष नहीं निकल सका। गहलोत सरकार है कि ग्रामीणों की सुनने का नाम ही नहीं ले रही।

क्या है पूरा मामला

गौरतलब है कि गहलोत सरकार डीग पंचायत समिति की 9 पंचायतों का परिसीमन करके उसे सीकरी पंचायत समिति और नगर पंचायत से जोड़ रही है। ग्रामीण इसी का विरोध कर रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि जिन 9 पंचायतों का परिसीमन किया जा रहा है, वो पहले से ही डीग से जुड़ी हुई हैं। लेकिन अगर परिसीमन हुआ तो सीकरी काफी दूर हो जाएगा। ऐसे में उन्हें सरकारी कामकाज के लिए परेशान होना पड़ेगा। जबकि अभी तक डीग पंचायत समिति पास में होने के कारण वो आसानी से अपना काम करवा पाते थे।

इस बीच इस आंदोलन का नेतृत्व कर रहे भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश प्रवक्ता नेम सिंह ने आरोप लगाया कि ऐसा करके राजस्थान सरकार मुस्लिमों को फायदा पहुँचाना चाहती है। अगर परिसीमन हुआ तो थाना और सरकारी दफ्तर सबकुछ ग्रामीणों की पहुँच से दूर निकल जाएँगें।

आंदोलनकारियों का कहना है कि वो अभी गाँधीवादी तरीके से अपनी माँगें मनवाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन अगर माँगें नहीं मानी तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के शिवमोगा में लगे वीर सावरकर के पोस्टर तो काटा बवाल, प्रेम सिंह को चाकू घोंपा: धारा 144 लागू, अब्दुल, नदीम और जबीउल्लाह...

कर्नाटक में वीर सावरकर के पोस्टर पर हुए बवाल के बाद एक व्यक्ति को चाकू मारने की खबर आई है। पुलिस ने अब्दुल, नदीम, जबीउल्लाह को गिरफ्तार किया है।

‘पता नहीं 9 सितंबर को क्या होगा’: ‘लाल सिंह चड्ढा’ का हाल देख कर सहमे करण जौहर, ‘ब्रह्मास्त्र’ के डायरेक्टर को अभी से दे...

क्या करण जौहर को रिलीज से पहले ही 'ब्रह्मास्त्र' के फ्लॉप होने का डर सता रहा है? निर्देशक अयान मुखर्जी के नाम उनके सन्देश से तो यही झलकता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
214,182FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe