Monday, August 15, 2022
Homeदेश-समाजराजस्थान के कॉलेज में नमाज के विरोध में ABVP ने किया हनुमान चालीसा का...

राजस्थान के कॉलेज में नमाज के विरोध में ABVP ने किया हनुमान चालीसा का पाठ, NSUI ने की रोकने की कोशिश, परिसर में धार्मिक गतिविधियों पर लगी रोक

कैम्पस में शुक्रवार (12 नवम्बर 2021) को नमाज पढ़ने वाले कुछ मुस्लिम छात्रों को टोकने के बाद विवाद बढ़ गया। यह रोक-टोक कॉलेज के सुरक्षा गार्डों और शिक्षक ने की थी। नमाज़ का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।

राजस्थान के एक कॉलेज में नमाज पढ़ने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, जयपुर के राजस्थान कॉलेज में शुक्रवार (12 नवंबर 2021) को नमाज पढ़ने का मामला सामने आने के बाद सियासत गरमा गई है। इसको लेकर सोमवार (15 नवंबर 2021) को कॉलेज परिसर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) से जुड़े छात्रों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया और हनुमान चालीसा का पाठ किया। इसके बाद कॉलेज के प्रिंसिपल ने परिसर में धार्मिक गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

सूचना मिलते ही पुलिस कॉलेज पहुँची, जहाँ एबीवीपी के छात्रों के बीच नोकझोंक भी हुई। इस सबके बीच कॉन्ग्रेस की छात्र इकाई नेशनल स्टूडेंट यूनियन ऑफ इंडिया (NSUI) ने नमाज का फिर समर्थन किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, एनएसयूआई से जुड़े इसको लेकर पुलिस से भी भिड़ गए। उन्होंने कहा कि छात्रों को या तो अलग से जगह आवंटित की जाए या फिर खुले में नमाज पढ़ने की इजाजत दी जाए। दूसरी ओर ABVP का कहना है कि इस तरह की अनुमति कॉलेज परिसर में नहीं दी जानी चाहिए।

क्या है पूरा मामला

राजस्थान की राजधानी जयपुर स्थित राजस्थान कॉलेज के कैम्पस में शुक्रवार (12 नवम्बर 2021) को नमाज पढ़ने वाले कुछ मुस्लिम छात्रों को टोकने के बाद विवाद बढ़ गया। यह रोक-टोक कॉलेज के सुरक्षा गार्डों और शिक्षक ने की थी। नमाज़ का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। एनएसयूआई ने विरोध करते हुए आरोप लगाया था कि नमाज पढ़ने से रोकने वाले शिक्षक आरएसएस से जुड़े हैं।

राजस्थान भाजपा नेता लक्ष्मीकांत भारद्वाज ने आरोप लगाया था कि नमाज पढ़ने के लिए मौलवी भी बुलाया गया था। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर घटना का वीडियो भी शेयर किया था। उन्होंने लिखा था, “जयपुर के सरकारी कॉलेज (राजस्थान कॉलेज) परिसर में ही इब्राहिम नमाज़ पढ़ रहा है, एक मौलवी भी दिख रहा है। धमकी और साथ में, फ़ीस देते हैं पढ़ेंगे नमाज़।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

विकसित भारत के लिए पंच प्रण: लाल किले की प्राचीर से PM मोदी ने दिया मंत्र, बोले – हम वो, जो कंकड़-कंकड़ में देखते...

पीएम मोदी ने बताया कि साल 2014 में वह ऐसे पहले प्रधानमंत्री बने थे जिन्होंने आजाद भारत में जन्म लेकर लाल किले की प्राचीर से झंडे को फहराया।

स्वतंत्रता के हुए 75 साल, फिर भी बाँटी जा रही मुफ्त की रेवड़ी: स्वावलंबन और स्वदेशी से ही आएगी आर्थिक आत्मनिर्भरता

जब हम यह मानते हैं कि सत्य की ही जय होती है तब ईमानदार सत्यवादी देशभक्त नेताओं और उनके समर्थकों को ईडी आदि से भयभीत नहीं होना चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,900FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe