Sunday, July 3, 2022
Homeदेश-समाजजोधपुर में फिर चले पत्थर, 2 मई को भी हुई थी CM गहलोत के...

जोधपुर में फिर चले पत्थर, 2 मई को भी हुई थी CM गहलोत के गृह जिले में अल्लाह-हू-अकबर के नारों के साथ हिंसा: भारी पुलिस बल तैनात

दो मई को हुई हिंसा के बाद सीसीटीवी फुटेज की पड़तान से पता चला था कि यह पूरी प्लानिंग के साथ किया गया था। हिंसा से पहले दंगाइयों ने मोहल्ले में की रेकी की थी। उसके बाद तलवार, सरिया, लाठी और तेजाब की बोतलें लेकर आए और हमला किया।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह जिले जोधपुर (Jodhpur) में फिर से सांप्रदायिक हिंसा की घटना हुई है। तनाव को देखते हुए भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। साथ ही दो मई से लागू धारा 144 को जारी रखने का फैसला किया गया है। हालाँकि पुलिस का कहना है कि यह सांप्रदायिक घटना नहीं।

रिपोर्ट के अनुसार झगड़ा झुड़ाने आए दो युवकों की पिटाई के बाद मंगलवार (7 जून 2022) शाम को तनाव पैदा हो गया है। इस दौरान जमकर पथराव हुआ। यह घटना अतिसंवेदनशील माने जाने वाली सूरसागर के रॉयल्टी के पास हुई। तनाव इतना बढ़ा गया कि पाँच थानों की पुलिस को मोर्चा सँभालना पड़ा। इस मामले में अभी तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। दो युवकों के घायल होने की खबर है। फिलहाल स्थिति को नियंत्रित करने के लिए मौके पर 300 से अधिक पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। इलाके में धारा 144 लगा दी गई है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, दो युवकों के बीच विवाद बाइक पार्किंग को लेकर शुरू हुआ था। मामला धीरे-धीरे इतना बढ़ गया कि वहाँ पर ईंट-पत्थर चलने लगे। इस घटना का सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया है। इसमें मौके पर पहुँचे एक पुलिस वाले को आपस में झगड़ते युवकों को छुड़ाते हुए देखा जा सकता है, जिसके बाद दोनों ही समुदाय के लोग बाहर आए। पुलिस ने दोनों पक्षों के लोगों से शांति कायम करने की अपील की है।

गौरतलब है कि इससे पहले 2 मई को (ईद के मौके पर) भी जोधपुर में अल्लाह-हू-अकबर के नारों के साथ हिंसा हुई थी। स्वतंत्रता सेनानी बिस्सा जी की प्रतिमा पर कट्टरपंथी मुस्लिम इस्लामी झंडे लगा रहे थे। इसका विरोध किए जाने के बाद हिंसा भड़क उठी थी। जोधपुर के जिन पाँच इलाकों में दंगाइयों ने उत्पात मचाया था, जब वहाँ लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला गया तो पता चला कि ये सब पहले से योजनाबद्ध था। सोनारो का बास मोहल्ले में एक घर के बाहर लगे सीसीटीवी से पता चला था कि पहले दंगाइयों ने मोहल्ले में आकर वहाँ के हालात की रेकी की थी। उसके बाद दंगाइयों की भीड़ तलवार, सरिया, लाठी और तेजाब की बोतलें लेकर वहाँ आए और हमला किया। इस दौरान लोगों के घरों पर तेजाब भी फेंका गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिर कलम करने में जिस डॉ युसूफ का हाथ, वो 16 साल से था दोस्त: अमरावती हत्याकांड में कश्मीर नरसंहार वाला पैटर्न, उदयपुर में...

अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या में उनका 16 साल पुराना वेटेनरी डॉक्टर दोस्त यूसुफ खान भी शामिल था। उसी ने कोल्हे की पोस्ट को वायरल किया था।

‘1 बार दलित को और 1 बार महिला आदिवासी को चुना राष्ट्रपति’: BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भारत को पुनः विश्वगुरु बनाने की बात

"सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक, अनुच्छेद 370 खत्म करने, GST, आयुष्मान भारत, कोरोना टीकाकरण, CAA, राम मंदिर - कॉन्ग्रेस ने सबका विरोध किया।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,752FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe