Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाज'बाबरी टूटने से कहर, राम मंदिर के कारण कोरोना से मर रहे लोग': राजस्थान...

‘बाबरी टूटने से कहर, राम मंदिर के कारण कोरोना से मर रहे लोग’: राजस्थान में कचरे की गाड़ी पर बज रहा था हिंदूफोबिक धुन

ये मामला कोटा दक्षिण नगर निगम क्षेत्र का है। गाड़ी के चालक और भड़काऊ वीडियो भेजने वाले एक अन्य चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है।

राजस्थान के कोटा में कचरे उठाने वाली गाड़ी से एक ऐसा ऐलान सुनाया जा रहा था जिससे सांप्रदायिक तनाव पैदा हो सकता था। आरोप है कि गाड़ी से जो हिन्दू-विरोधी धुन बजाई जा रही थी, वो कॉन्ग्रेस के नगर निगम पार्षद ने डलवाई है। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार से माँग की जा रही है कि वह जाँच कर कार्रवाई करे। इस गाड़ी की माइक से बाबरी मस्जिद और राम मंदिर का नाम लेकर भड़काऊ बातें की जा रही थी।

DD न्यूज़ के पत्रकार अशोक श्रीवास्तव की मानें तो उन्होंने इस वीडियो की पुष्टि की है और इसे सही पाया। उन्होंने कहा कि इसका पूरे 4 मिनट का वीडियो उनके पास है, जिसमें कचरे की गाड़ी से कहा जाता है, “भारत में कोरोना महामारी में लोग इसलिए मर रहे हैं क्योंकि बाबरी मस्ज़िद तोड़ी गई और अदालत ने वहाँ राम मंदिर बनाने की अनुमति दे दी।”

इस गाड़ी पर लिखा था: जोन- विज्ञान नगर, सेक्टर- 14। साथ ही इस पर ‘वॉर्ड नंबर 29 और रूट संख्या 1’ भी लिखा हुआ था। गाड़ी पर ‘जमादार’ का नाम अशोक और साथ ही उसका फोन नंबर भी दर्ज था। गाड़ी चालक से जब पूछा जाता है ये ट्यून किसने लगवा रखी है तो वह किसी रोहित का नाम लेता है। कुछ लोगों ने इस गाड़ी को रुकवा कर पूछताछ की। माइक से आवाज़ आती है, “भाइयो, ध्यान से सोचिए और समझिएगा। बाबरी मस्जिद तोड़े जाने के कारण भारत में कहर बरप रहा है।”

‘दैनिक भास्कर’ के स्थानीय संस्करण में प्रकाशित खबर

कचरे की गाड़ी की माइक से आगे कहा जाता है, “भारत में अचानक इतनी मौतें क्यों हो रही हैं, इसे ध्यान से समझने की कोशिश कीजिए। जब से सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर को लेकर फैसला सुनाया है, तभी से भारत के लोग चैन से नहीं हैं।” स्थानीय DSP अंकित जैन ने बताया कि आपत्तिजनक भाषण चलाने वाले दोनों ठेका कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। मामले की जाँच की जा रही है कि ये वीडियो किसने बनाया और प्रचारित करवाया।

ये मामला कोटा दक्षिण नगर निगम क्षेत्र का है। गाड़ी के चालक दीपक और भड़काऊ वीडियो भेजने वाले जसविंदर को गिरफ्तार कर लिया गया है। ठेकेदार ने इन दोनों को नौकरी से भी निकाल दिया है। इस गाड़ी का नंबर RJ-20 4739 है। ये दादाबाड़ी क्षेत्र में कचरा कलेक्शन कर रहा था। रोहित सुपरवाइजर है, जिसने पूछताछ में बताया कि जसविंदर नामक एक अन्य चालक ने ग्रुप में इस वीडियो को डाला था।

स्थानीय भाजपा विधायक संदीप शर्मा ने भी इस मामले पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि ये एक साजिश के तहत किया गया है और दोषियों को पकड़ कर उनके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। कोटा दक्षिण के महापौर राजीव अग्रवाल ने बताया कि इंस्पेक्टर और जमादार को ‘कारण बताओ नोटिस’ जारी कर दिया गया है। नगर निगम ने निर्णय लिया है कि अब कचरे वाला जिंगल सिर्फ पेनड्राइव से ही बनाई जाएगी, व्हाट्सएप्प या ब्लूटूथ से नहीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe