Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाज'श्री राम' लिखे भगवा ध्वज को भीड़ के सामने राजस्थान के विधायक रामकेश मीणा...

‘श्री राम’ लिखे भगवा ध्वज को भीड़ के सामने राजस्थान के विधायक रामकेश मीणा ने फाड़ डाला: वीडियो वायरल

राजस्थान में जिस आमागढ़ किले में 'श्री राम' लिखे भगवा ध्वज को विधायक ने फाड़ डाला, इसी किले में कुछ दिन पहले ही भगवान शिव की मूर्तियों को भी तोड़ दिया गया था।

राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कॉन्ग्रेस सरकार में हिंदू भावनाओं को कुचलने की कोशिश करने का एक औऱ मामला सामने आया है। रिपोर्ट के मुताबिक प्रदेश के आमागढ़ किले में निर्दलीय विधायक रामकेश मीणा ने ‘श्री राम’ लिखे हुए भगवा ध्वज को फाड़ कर फेंक दिया।

इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में स्पष्ट तौर पर देखा जा सकता है कि लोगों की भारी भीड़ आमागढ़ किले पर लहरा रहे भगवा ध्वज को पहले उतारती है और उसके बाद उसे फाड़ दिया जाता है। इसको लेकर हिंदू संगठनों में आक्रोश है।

यह कोई पहली बार नहीं है जब कॉन्ग्रेस शासित राजस्थान में हिंदुओं की भावनाओं को पैरों तले रौंदने की कोशिश की गई। इससे पहले आमागढ़ के किले में ही कुछ दिन पहले भगवान शिव की मूर्तियों को भी तोड़ दिया गया था। हालाँकि, उस मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद आरोपितों को गिरफ्तार भी किया गया था।

इस घटना को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार के सूचना सलाहकार शलभमणि त्रिपाठी ने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि राहुल और प्रियंका गाँधी की अगुवाई में उनके पार्टी के गुंडे पूरे राजस्थान में हिंदुओं को अपमानित कर रहे हैं। त्रिपाठी ने ट्वीट किया, “राहुल और प्रियंका जी आपके गुंडों की अगुवाई में समूचे राजस्थान में हो रहा हिंदुओं का ये महाअपमान ही कॉन्ग्रेस के ताबूत में आखिरी कील बनेगा, तुष्टीकरण में अंधी कॉन्ग्रेस की तरफ से भगवा ध्वज पर चली हर ईंट का जवाब पत्थर से मिलेगा इंतजार करिए, जय जय श्रीराम !!”

वहीं यूट्यूब चैनल ‘द अर्बन हिंदू’ ने भी इस वीडियो को अपलोड किया है।

वीडियो के बैकग्राउंड में लोगों को यह कहते देखा जा सकता है किभाई साहब ये तो गलत है, ये हिन्दुत्व के खिलाफ है। भीड़ में से एक कहता सुनाई दे रहा कि वो कितनी मेहनत करके इस भगवा ध्वज को यहाँ पर लगाया था और लोग इसे उखाड़ रहे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -