Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाजकोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की...

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

गुंडों ने घायल मोहन कुमार के गले में फंदा लगाया और उन्हें घसीटते हुए पास के कुँए में फेंक दिया।

झारखंड स्थित राँची की ऋचा भारती का नाम तब प्रकाश में आया था जब उन्होंने कोर्ट द्वारा कुरान बाँटने के दिए गए आदेश को ठुकरा दिया था। अब बिहार के नालंदा में ऋचा भारती के पैतृक गाँव में उनके पिता प्रकाश उर्फ़ मोहन कुमार की गोली मार कर हत्या कर दी गई है। गत 19 फरवरी को उनके पिता को कुछ बदमाशों ने गोली मार दी। ऋचा की माँ द्वारा दर्ज कराई गई FIR के अनुसार, ये घटना उस समय घटी, जब ऋचा के पिता और उनकी माँ रात के 8.30 बजे दालान से अपने घर जा रहे थे।

ऋचा भारती के परिवार द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे। चंद्रमौली प्रसाद और रंजीत कुमार जब मोहन कुमार पर फायरिंग करने लगे तो वो घायल होकर वहीँ गिर गए। इसके बाद गुंडों ने घायल मोहन कुमार के गले में फंदा लगाया और उन्हें घसीटते हुए पास के कुँए में फेंक दिया।

बताया गया है कि जब परिवार के लोग उनके पीछे जाने लगे तो उन पर भी फायरिंग की गई। इसी बीच वहाँ पुलिस भी पहुँच गई। ऋचा की माँ ने FIR में बताया है कि इसका कारण रंजीत कुमार और चंद्रमौली की पुरानी रंजीश है। वो उन्हें मारना चाहते थे। 19 फरवरी को मौका पाते ही उन लोगों ने शिकायतकर्ता के पति मोहन कुमार की हत्या कर दी। व्यक्तिगत दुश्मनी में ये हत्या हुई है। हालाँकि, इस मामले का कुरान वाले केस से कोई लेनादेना नहीं है।

ऋचा ने आरोप लगाया है कि अब तक पुलिस ने इस मामले में किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया है। परिवार ने 8 नामजदों के बारे में अपनी शिकायत में बताया है और पुलिस इस पर जाँच करने की बात कह रही है।

ऋचा भारती की सुरक्षा को लेकर राँची में भी सवाल उठे थे। ऋचा भारती को झारखण्ड पुलिस द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा था, जिसके लिए ऑपइंडिया ने आवाज़ उठाई थी। तब राँची के भाजपा सांसद संजय सेठ ने भी परिवार से बात कर के मदद का आश्वासन दिया था। अपनी शिकायत में ऋचा ने पुलिस को बताया था कि उनके घर के सामने मुस्लिम युवक थूक कर चले जाते हैं और चिल्लाते हुए कहते हैं, “कुरान की बेहूरमती का बदला, ऋचा भारती हम तुमसे लेकर रहेंगे‘।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe