Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज'दुनिया को छोड़ने का समय आ गया है'- एंटीलिया केस में फँसे सचिन वाजे...

‘दुनिया को छोड़ने का समय आ गया है’- एंटीलिया केस में फँसे सचिन वाजे ने लगाया WhatsApp स्टेटस: रिपोर्ट्स

सचिन वाजे के इस स्टेटस की बात सामने आने के बाद इसी बीच उन्होंने ने NIA के दफ्तर पहुँचकर अपना बयान भी दर्ज करवाया है। इससे पहले ठाणे के सत्र कोर्ट में उनकी अंतरिम जमानत याचिका को खारिज किया गया था।

एंटीलिया बम केस में मुंबई पुलिस अधिकारी व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट सचिन वाजे का नाम सामने आने के बाद उन्होंने अपने जीवन के खत्म होने की ओर इशारा किया है। अपने व्हॉट्सएप स्टेटस में उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज करते हुए लिखा कि अब समय आ गया है दुनिया को अलविदा कहा जाए।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार इस संदेश में लिखा है, “3 मार्च 2004। सीआईडी ​​के साथी अधिकारियों ने मुझे झूठे मामले में गिरफ्तार किया। वह गिरफ्तारी आज की तारीख तक भी अनिर्णायक है। मुझे लग रहा है कि इतिहास को फिर से दोहराया जाएगा। मेरे साथी अधिकारी मुझे झूठा फँसाना चाहते हैं। इस बार परिदृश्य में थोड़ा अंतर है। तब शायद मेरे पास 17 साल की आशा, धैर्य, जीवन और सेवा भी थी। अब मेरे पास न तो 17 साल का जीवन होगा और न ही सेवा और न ही जीने के लिए धैर्य। मुझे लगता है कि दुनिया को अलविदा कहने का समय नजदीक आ रहा है।”

गौरतलब है कि सचिन वाजे के इस स्टेटस की बात सामने आने के बाद इसी बीच उन्होंने ने NIA के दफ्तर पहुँचकर अपना बयान भी दर्ज करवाया है। इससे पहले ठाणे के सत्र कोर्ट में उनकी अंतरिम जमानत याचिका को खारिज किया गया था।

बता दें कि सचिन वाजे को लेकर केस एंटीलिया के बाहर मिले विस्फोटकों से लदी और उस कार के मालिक मनसुख हिरेन की मृत्यु के ईर्द गिर्द है। बुधवार को उनका नाम इस केस में उछलने के बाद उन्हें मुंबई पुलिस क्राइम ब्रांच से हटाया गया था। पड़ताल में पता चला था कि जून 2020 के बाद से वेज कार के मालिक मनसुख हिरेन के संपर्क में थे।

हिरेन की पत्नी ने इस मामले में सचिन वाजे पर गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारी सचिन वाजे ही उनके पति की उस स्कॉर्पियो कार का प्रयोग कर रहे थे, जो एंटीलिया के बाहर मिली थी। बकौल विमला हिरेन, वाजे ने उनके पति से इस मामले में गिरफ्तार हो जाने को कहा था और जमानत दिलाने का आश्वासन भी दिया था। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe