Monday, July 26, 2021
Homeदेश-समाज'सचिन वाजे के 6 से ज्यादा बिजनेस, शिवसेना नेता पार्टनर': 25 मार्च तक NIA...

‘सचिन वाजे के 6 से ज्यादा बिजनेस, शिवसेना नेता पार्टनर’: 25 मार्च तक NIA की कस्टडी में रहेगा, संजय राउत ने किया बचाव

"मुंबई के पुलिस अधिकारी सचिन वाजे के 6 से अधिक बिजनेस हैं- मल्टीबिल्ड इंफ्राप्रोजेक्ट्स लिमिटेड, टेकलीगल सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड, डीजीनेक्स्ट मल्टीमीडिया लिमिटेड और भी कई हैं। इसमें बिजनेस पार्टनर कौन है? शिवसेना के नेता संजय माशेलकर और विजय गवई। सचिन वाजे चीज क्या है?"

25 फरवरी 2021 को मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर ‘एंटीलिया’ के बाहर विस्फोटक लदी एक स्कॉर्पियो खड़ी मिली थी। इस मामले में राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने शनिवार (13 मार्च 2021) की रात मुंबई क्राइम ब्रांच में रहे ​सचिन वाजे को गिरफ्तार किया था। बीजेपी नेता और पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने बताया है कि वाजे के आधा दर्जन से ज्यादा बिजनेस हैं। उनका दावा है कि वाजे के पाटर्नर शिवसेना के नेता हैं।

सोमैया ने कहा, “मुंबई के पुलिस अधिकारी सचिन वाजे के 6 से अधिक बिजनेस हैं- मल्टीबिल्ड इंफ्राप्रोजेक्ट्स लिमिटेड, टेकलीगल सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड, डीजीनेक्स्ट मल्टीमीडिया लिमिटेड और भी कई हैं। इसमें बिजनेस पार्टनर कौन है? शिवसेना के नेता संजय माशेलकर और विजय गवई। सचिन वाजे चीज क्या है?”

वहीं संजय राउत ने इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, “मेरा मानना है कि सचिन वाजे एक बहुत ही ईमानदार और सक्षम अधिकारी हैं। उसे जिलेटिन की छड़ें पाए जाने के मामले में गिरफ्तार किया गया है। एक संदिग्ध मौत भी हुई। मामले की जाँच करना मुंबई पुलिस की जिम्मेदारी है। किसी केंद्रीय टीम की जरूरत नहीं थी।”

पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा, “सचिन वाजे की गिरफ्तारी के बाद महाराष्ट्र के सीएम और गृह मंत्री उनके बचाव में इस तरह आ रहे हैं, जैसे वे उनके वकील हों। मुझे लगता है कि अभी तो केवल एक एंगल सामने आया है, लेकिन मनसुख हिरेन की मौत का मामला अभी तक हल नहीं हुआ है। जाँच से पता चलेगा कि कौन शामिल था और उसका क्या इरादा था।”

सचिन वाजे को आज (14 मार्च) को वाजे को कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने 25 मार्च तक उसे NIA की कस्टडी में भेज दिया। इससे पहले सचिन वाजे ने ठाणे की एक अदातल में अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की थी, जो खारिज कर दी गई थी। कोर्ट से NIA ने सचिन वाजे की 14 दिन की कस्टडी माँगी थी। NIA ने कहा है कि यह एक बड़ी साजिश है। इसमें कई लोगों के शामिल होने का संदेह है।

इससे पहले मीडिया रिपोर्टों में बताया गया था कि सचिन वाजे ने कबूल कर लिया है कि वो षड्यंत्र का हिस्सा थे। सूत्रों के हवाले से बताया गया था कि वह इस पूरे षड्यंत्र का एक बहुत छोटा सा हिस्सा है। बड़े खिलाड़ी शिवसेना के वे नेता हैं, जिनका उसने नाम लिया है।

सचिन वाजे के बारे में बता दें कि उन्हें एनकाउंटर स्पेशलिस्ट कहा जाता रहा है। कोल्हापुर के रहने वाले वाजे 1990 बैच के अधिकारी हैं, जिन्होंने 1992-2004 के बीच 63 अपराधियों का एनकाउंटर किया। घाटकोपर ब्लास्ट से जुड़े मामले में ख्वाजा यूनुस की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी, जिसके बाद CID जाँच हुई और वाजे गिरफ्तार हुए। निलंबन के बाद वो शिवसेना में चले गए, लेकिन 2020 में उन्हें शिवसेना की सरकार में फिर वर्दी मिल गई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe