Monday, January 25, 2021
Home देश-समाज सद्गुरु के ईशा फाउंडेशन ने प्रोपेगेंडा वेबसाइट के फर्जी आरोपों का दिया करारा जवाब

सद्गुरु के ईशा फाउंडेशन ने प्रोपेगेंडा वेबसाइट के फर्जी आरोपों का दिया करारा जवाब

ईशा फाउंडेशन ने सद्गुरु के कथन "Ecology और economics को साथ लेकर चलना होगा, एक-दूसरे की कीमत पर नहीं" को दोहराते हुए इस बात पर बल दिया कि Cauvery Calling आर्थिक प्रोजेक्ट है, जो पर्यावरणीय परिणाम को ध्यान में रखकर चलाया जा रहा है।

सद्गुरु जग्गी वासुदेव और उनकी आध्यात्मिक-सामाजिक संस्था ईशा फाउंडेशन ने Coalition for Environmental Justice in India के आरोपों पर करारा जवाब दिया है। Environment Support Group नामक वेबसाइट पर प्रकाशित एक खुले पत्र में ‘populism’ से लेकर ‘हाथियों की जमीन चुराई, आदिवासियों की ज़मीन चुराई’ जैसे वाहियात, पुराने, घिसे-पिटे आरोपों को ही दोहराया गया, जिनके जवाब सद्गुरु और ईशा फाउंडेशन से लेकर तमिलनाडु सरकार तक कई बार, कई मौकों और मंचों पर दे चुके हैं। The Wire की एक हिट जॉब रिपोर्ट भी इस ‘खुले पत्र’ में चस्पा थी। यह पत्र सद्गुरु के ‘Cauvery Calling’ (‘कावेरी की पुकार’) अभियान से जुड़े हॉलीवुड अभिनेता लियोनार्डो डि कैप्रियो को लिखा गया था, जिसमें उनसे इस अभियान से अलग हो जाने की अपील की गई थी। ईशा फाउंडेशन ने उन्हीं आरोपों पर अपना जवाब अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित किया है।

क्यों पुकार रही है कावेरी?

उत्तर भारत में जैसे गंगा-यमुना बदहाल हैं, वैसा ही हाल दक्षिण भारत में कावेरी का है। कभी कर्नाटक-तमिलनाडु दोनों प्रदेशों के बड़े हिस्से को आवश्यकता से अधिक जल देने वाली यह नदी आज जनसंख्या दबाव और बेतहाशा दोहन से लगभग 40% पानी खो चुकी है और यह दोनों राज्य पानी की कमी से जूझ रहे हैं। चेन्नै और बंगलुरु में हाल में दिखे जल-संकट महज़ बानगी भर हैं पूरी समस्या की गंभीरता के। सद्गुरु इसी नदी में पानी वापिस लाने के लिए ‘कावेरी की पुकार’ (Cauvery Calling) अभियान चला रहे हैं, जिसके अंतर्गत कावेरी के आस-पास की कृषि-भूमि पर अनाज और नकदी फसलों के अलावा पेड़-पौधे भी लगाने पर ज़ोर दिया जा रहा है, बाकायदा कृषि के एक प्रकार, वन्य-कृषि (Agroforestry), के रूप में।

इसके लिए न केवल किसानों के बीच जागरुकता का अभियान चलाया जा रहा है, बल्कि उन्हें ईशा फाउंडेशन अन्न- और फसल-कृषि से वन्य-कृषि पर जाने के लिए एक सहायता का ढाँचा खड़ा कर रहा है, जिसमें 242 करोड़ पेड़ निजी कृषि भूमि पर लगाने के लिए देना शामिल है। इसी अभियान के लिए 62-वर्षीय सद्गुरु ने 2-3 सितंबर से शुरू कर 17 सितंबर तक 3,500 किलोमीटर की सड़क यात्रा भी की थी, जिसके एक बड़े हिस्से में उन्होंने खुद बाइक रैली की थी।

सरकारी भूमि की बात कहाँ से आई?

अपने ‘खुले पत्र’ में Coalition for Environmental Justice in India ने सबसे पहले सरकारी भूमि के इस्तेमाल का आरोप लगाया है। इसके जवाब में ईशा फाउंडेशन ने पूछा है कि सरकारी भूमि के इस्तेमाल की बात कहाँ से आ गई? यह अभियान तो, ईशा के मुताबिक, निजी किसानों को अपनी कृषि भूमि पर पेड़ लगाने के लिए प्रोत्साहित करने का है। फाउंडेशन का कहना है कि उनकी वेबसाइट, उनके कार्यक्रमों, सरकार को दिए गए दस्तावेज़ों (अभियान का एक हिस्सा अपनी भूमि पर पेड़ लगाने वाले किसानों को अपनी ज़रूरत के मुताबिक लालफ़ीताशाही के हस्तक्षेप के बिना पेड़ काट सकने की इजाज़त दिलाने का भी है, जिसके लिए जरूरी क़ानूनी बदलाव के लिए फाउंडेशन प्रयासरत है) आदि में कहीं भी सरकारी भूमि का तो नाम भी नहीं है।

इसे निजी भूमि पर कराने के पीछे फाउंडेशन का तर्क है कि इस अभियान को अंततः जिन किसानों को सफ़ल बनाना है, निजी भूमि पर होने वाली पैदावार का आर्थिक लाभ उन्हें प्रोत्साहित और प्रेरित करेगा। इसके अलावा आरोप का एक हिस्सा एक ही तरह के पेड़ों को लगाकर एकल कृषि के प्रोत्साहन का है। इसे भी काटते हुए ईशा फाउंडेशन ने लिखा है कि इसमें पहली बात तो केवल वृक्षारोपण ही नहीं, झाड़ियाँ, पौधे और हरियाली के अन्य प्रकार शामिल हैं, और पेड़ों का चयन भी स्थानीय पर्यावरण और जलवायु परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए और वन्य विभाग से सलाह लेने के पश्चात् ही किया गया है।

दर्जन-भर सरकारी-गैर सरकारी संस्थाएँ शामिल, सभी अनभिज्ञ हैं?

अगला आरोप लगाया गया है कि ईशा फाउंडेशन को नदी और उसके आसपास की भूमि, जलवायु आदि का कोई ज्ञान ही नहीं है; और वे वृक्षारोपण के अति-सरलीकृत (over-simplified) समाधान को थोपना चाहते हैं। इसके जवाब में ईशा ने पीएमओ, कर्नाटक-तमिलनाडु राज्य सरकारों, जल शक्ति मंत्रालय, पर्यावरण, वन और जलवायु-परिवर्तन मंत्रालय, सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस अरिजित पसायत, बायोकॉन की किरण मजूमदार शॉ, उद्योग चैंबर Confederation of Indian Industries (CII) के महानिदेशक चन्द्रजित बनर्जी, इसरो के पूर्व प्रमुख डॉ. एएस किरण कुमार आदि का नाम गिनाते हुए पूछा कि क्या यह सभी ऐसे लोग और संस्थान हैं जो बिना जाने-समझे किसी भी मसले पर किसी व्यक्ति या मुद्दे के पीछे खड़े हो जाएँगे?

ईशा फाउंडेशन ने यह भी बताया कि सद्गुरु को United Nations Convention to Combat Desertification (UNCCD) के COP14 शिखर सम्मेलन में Cauvery Calling अभियान के बारे में बोलने के लिए निमंत्रित किया गया था। वे भारत में इस अभियान की सफलता से प्रभावित हो इसे दुनिया-भर में करने के बारे में जानना चाहते थे।

इसके अलावा ईशा फाउंडेशन और Cauvery Calling अभियान लगातार देश के चोटी के आर्थिक थिंक टैंक नीति आयोग से भी लगातार सलाह ले रहा है।

नौसिखिये नहीं हैं हम, 18 साल का अनुभव है वन्य-कृषि का

अगला आरोप था कि ईशा फाउंडेशन अंधाधुंध, बिना सोचे-समझे पेड़ लगाना चाहता है- उसे न तो इसके पर्यावरणीय असर के बारे में समझ है, न ही इसके सामाजिक पहलुओं के बारे में पता है। इसके जवाब में ईशा फाउंडेशन ने लिखा है कि उनकी वेबसाइट पर कावेरी के आस-पास की भूमि को उचित खंडों (सेग्मेंट्स) में बाँटते हुए उस खंड में लगने लायक पेड़ों की सूची अपनी वेबसाइट पर डाली है। यह सूची कर्नाटक वन विभाग, तमिलनाडु कृषि विश्वविद्यालय, भारत सरकार के पर्यावरण मंत्रालय समेत आधा दर्जन संस्थाओं और दशकों तक वन्य-कृषि और पेड़ों के साथ काम कर चुके विशेषज्ञों के साथ सलाह-मशविरे के बाद तैयार की गई है।

यही नहीं, ईशा फाउंडेशन ने यह भी दावा किया है कि उनके प्रोजेक्ट ग्रीनहैंड्स को 18 वर्ष वन्य-कृषि के क्षेत्र में तमिलनाडु में काम करने का अनुभव है। गौरतलब है कि प्रोजेक्ट ग्रीनहैंड्स देश के सर्वोच्च पर्यावरण पुरस्कार ‘इंदिरा गाँधी पर्यावरण पुरस्कार’ से सम्मानित हो चुका है। इसके अलावा ईशा ने दावा किया है कि तमिलनाडु में कई जिलों में, जिनमें कावेरी के आसपास के जिले भी शामिल हैं, वन्य-कृषि को सफलतापूर्वक आज़माया जा चुका है।

इसके सामाजिक पहलू को लेकर भी ईशा फाउंडेशन ने लिखा है कि ‘कावेरी की पुकार’ अभियान में यह भी अछूता नहीं है। अभियान के लिए ईशा फाउंडेशन के स्वयंसेवक 7,000 से अधिक गाँवों में जाकर करीब 2,70,000 लोगों से अभियान की आधिकारिक शुरूआत के पहले ही मिले थे। लाखों किसानों के जल-संकट से जूझ रहे होने के चलते पंचायतों के नेतृत्व ने इसमें बेहद रुचि दिखाई है।

पंचायत स्तर पर होगा काम

इस मुद्दे पर आगे ईशा फाउंडेशन ने अपने उत्तर में लिखा है कि इस अभियान का क्रियान्वन ग्राम पंचायतों के स्तर पर पर ही होना है। जहाँ जैवविविधता प्रबंधन समितियाँ (Biodiversity Management Committees) पहले से सक्रिय हैं, वहाँ फाउंडेशन उनकी सहायता बेशक लेगा क्योंकि वन्य-कृषि से जैवविविधता में वृद्धि होती है।

पर्यावरण और विकास/अर्थव्यवस्था को दुश्मन बनाने से काम नहीं चलेगा

ईशा फाउंडेशन ने सद्गुरु के कथन “Ecology और economics को साथ लेकर चलना होगा, एक-दूसरे की कीमत पर नहीं” को दोहराते हुए इस बात पर बल दिया कि Cauvery Calling आर्थिक प्रोजेक्ट है, जो पर्यावरणीय परिणाम को ध्यान में रखकर चलाया जा रहा है। संस्था ने दावा किया है कि यह वन्य-कृषि मॉडल तमिलनाडु के 69,760 किसानों के साथ आज़माया गया है। इसे अपनाने वालों की आय में 300%-800% बढ़ोतरी देखी गई है।

इसके अलावा फाउंडेशन का कहना है कि उसने यह कभी दावा नहीं किया कि पेड़ लगाना ही नदी-संकट के निदान का इकलौता उपाय है। उसने वृक्षारोपण इसलिए चुना क्योंकि वृक्ष नदियों की समस्या के सबसे सस्ता और प्रकृति पर आधारित समाधान हैं।

‘हाथियों की ज़मीन’, ‘आदिवासियों की ज़मीन’ का प्रोपेगंडा

अगला आरोप ईशा फाउंडेशन पर वही घिस-घिस कर बदरंग हो चुका “हाथियों की जमीन चुराई”, “आदिवासियों की ज़मीन चुराई” का प्रोपेगंडा है। इसके जवाब में ईशा फाउंडेशन ने एक बार फिर दोहराया कि पर्यावरण मंत्रालय और तमिलनाडु के राज्य वन विभाग ने यह बहुत पहले साफ़ कर दिया है कि ईशा फाउंडेशन का आश्रम जिस ज़मीन पर है, उस पर हाथियों का कोई कॉरिडोर कभी नहीं रहा। इसके अलावा ईशा फाउंडेशन ने फिर दोहराया कि उस पर आदिवासियों को आवंटित की गई जो 44 एकड़ ज़मीन हथियाने का आरोप है, उस ज़मीन से ईशा फाउंडेशन का कभी कोई नाता नहीं रहा

सरल भाषा में समझना ‘पॉपुलिस्ट’ होना होता है तो हो

‘Populism’ के आरोप के जवाब में ईशा फाउंडेशन ने लिखा कि इसके पहले ऐसे जटिल विषय को जनता की समझ में आने लायक सरल भाषा में समझाने वाला जनांदोलन कभी नहीं हुआ है। अगर ऐसा करना ‘पॉपुलिस्ट’ होना होता है तो हो। पूरे देश के नदियों के विषय पर उठ खड़े होने का तो स्वागत किया जाना चाहिए।

PIL अगंभीर, सद्गुरु को पैसा कमाने के लिए ऐसे तरीकों की ज़रूरत नहीं

‘कावेरी की पुकार’ आंदोलन के लिए पैसे जुटाने के खिलाफ कर्नाटक उच्च न्यायालय में दायर जनहित याचिका को ईशा फाउंडेशन ने अगंभीर करार देते हुए इस बात का खंडन किया कि यह पैसा कर्नाटक की राज्य सरकार से विमर्श किए बगैर इकट्ठा किया जा रहा है। ‘जलपुरुष’ माने जाने वाले राजेंद्र सिंह के “पैसे और शोहरत के लिए” काम करने के आरोप पर ईशा फाउंडेशन ने कहा कि यह उनकी अपनी राय है, लेकिन साथ में जोड़ा कि पद्मविभूषण से सम्मानित जग्गी वासुदेव को पैसा कमाने के लिए ऐसे हथकण्डे अख्तियार करने पड़ें, ऐसा आरोप हास्यास्पद है।

अपने बयान के अंत में ईशा फाउंडेशन ने सभी विरोधियों को एक निष्पक्ष वार्तालाप के लिए निमंत्रित किया, ताकि फाउंडेशन को ‘Cauvery Calling’ के असली स्वरूप को प्रस्तुत करने का अवसर मिले।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आर्थिक सुधारों के पूरक हैं नए कृषि कानून: राष्ट्रपति के संदेश में किसान, जवान और आत्मनिर्भर भारत पर फोकस

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार (जनवरी 25, 2021) को 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर शाम 7 बजे राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं।

ऐसे लोगों को छोड़ा नहीं जाना चाहिए: मुनव्वर फारूकी पर जस्टिस रोहित आर्य, कुंडली निकालने में जुटा लिब्रांडु गिरोह

हिन्दू देवी-देवताओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले मुनव्वर फारूकी की याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति रोहित आर्य ने कहा कि ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाना चाहिए।

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

इंडियन आर्मी ने कश्मीर ही नहीं बचाया, खुद भी बची: सेना को खत्म करना चाहते थे नेहरू

आज शायद यकीन नहीं हो, लेकिन मेजर जनरल डीके पालित ने अपनी किताब में बताया है कि नेहरू सेना को भंग करने के पक्ष में थे।

राम मंदिर के लिए ₹20 का दान (मृत बेटे के नाम से भी) – गरीब महिला की भावना अमीरों से ज्यादा – वायरल हुआ...

दान की मात्रा अहम नहीं बल्कि दान की भावना देखी जाती है। इस वीडियो से एक बात साफ है कि 80 वर्षीय वृद्ध महिला की भगवान राम के प्रति आस्था...

राम मंदिर के लिए दे रहे हैं दान तो इन 13 फ्रॉड UPI IDs को ध्यान से देख लीजिए, कहीं और न चला जाए...

राम मंदिर के आधिकारिक विवरण से मिलती-जुलती कई फ्रॉड UPI IDs बना ली गई हैं, जिसके माध्यम से श्रद्धालुओं को ठगने की कोशिश हो रही है।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

मदरसा सील करने पहुँची महिला तहसीलदार, काजी ने कहा- शहर का माहौल बिगड़ने में देर नहीं लगेगी, देखें वीडियो

महिला तहसीलदार बार-बार वहाँ मौजूद मुस्लिम लोगों को मामले में कलेक्टर से बात करने के लिए कह रही है। इसके बावजूद लोग उसकी बात को दरकिनार करते हुए उसे धमकाते हुए नजर आ रहे हैं।

निकिता तोमर को गोली मारते कैमरे में कैद हुआ था तौसीफ, HC से कहा- मैं निर्दोष, यह ऑनर किलिंग

निकिता तोमर हत्याकांड के मुख्य आरोपित तौसीफ ने हाई कोर्ट से घटना की दोबारा जाँच की माँग की है। उसने कहा कि यह मामला ऑनर किलिंग का है।

‘जिस लिफ्ट में ऑस्ट्रेलियन, उसमें हमें घुसने भी नहीं देते थे’ – IND Vs AUS सीरीज की सबसे ‘गंदी’ कहानी, वीडियो वायरल

भारतीय क्रिकेटरों को सिडनी में लिफ्ट में प्रवेश करने की अनुमति सिर्फ तब थी, अगर उसके अंदर पहले से कोई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी न हो। एक भी...

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।
- विज्ञापन -

 

बॉम्बे HC के ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट के खिलाफ अपील करें: महाराष्ट्र सरकार से NCPCR

NCPCR ने महाराष्ट्र सरकार से कहा है कि वह यौन शोषण के मामले से जुड़े बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ तत्काल अपील दायर करे।

आर्थिक सुधारों के पूरक हैं नए कृषि कानून: राष्ट्रपति के संदेश में किसान, जवान और आत्मनिर्भर भारत पर फोकस

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार (जनवरी 25, 2021) को 72वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर शाम 7 बजे राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं।

20 साल पहले पति के सपने में आया नंबर, दाँव लगाती रही पत्नी; 60 मिलियन डॉलर की लॉटरी जीती

कनाडा में एक महिला ने 60 मिलियन डॉलर की लॉटरी जीती है। वह भी उस संख्या (नंबर) की मदद से जो उसके पति के सपने में आए थे।

‘मुझे बंदूक दिखाओगे तो मैं बंदूक का संदूक दिखाऊँगी’: BJP पर बरसीं ‘जय श्री राम’ से भड़कीं ममता

जय श्री राम के नारों को अपनी बेइज्जती करार देने वाली ममता बनर्जी ने बीजेपी पर निशाना साधा है।

गलवान घाटी में बलिदान हुए कर्नल संतोष बाबू को महावीर चक्र, कई अन्य जवान भी होंगे सम्मानित

गलवान घाटी में वीरगति को प्राप्त हुए कर्नल संतोष बाबू को इस साल महावीर चक्र (मरणोपरांत) से नवाजा जाएगा।

26 जनवरी पर क्यों दो बार सैल्यूट करता है सिख रेजिमेंट? गणतंत्र दिवस पर 42 साल पहले शुरू हुई परंपरा के बार में सब...

गणतंत्र दिवस परेड में भारतीय सशस्त्र बल का हर सैन्य दल एक बार सैल्यूट करता है, वहीं सिख रेजिमेंट दो बार सैल्यूट करता है।

नेताजी के बदले एक्टर प्रसनजीत चटर्जी की तस्वीर का राष्ट्रपति कोविंद ने कर दिया अनावरण? फैक्टचेक

लिबरल गिरोह नेताजी की उस तस्वीर पर सवाल उठा रहे हैं जिसका अनावरण राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनकी 125वीं जयन्ती के मौके पर 23 जनवरी को किया था।

ऐसे लोगों को छोड़ा नहीं जाना चाहिए: मुनव्वर फारूकी पर जस्टिस रोहित आर्य, कुंडली निकालने में जुटा लिब्रांडु गिरोह

हिन्दू देवी-देवताओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने वाले मुनव्वर फारूकी की याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति रोहित आर्य ने कहा कि ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाना चाहिए।

TikTok स्टार रफी शेख ने की आत्महत्या: दोस्त मुस्तफा पर मारपीट और आपत्तिजनक वीडियो का आरोप

आंध्र प्रदेश के टिक टॉकर रफी शेख ने नेल्लोर जिले में अपने निवास पर आत्महत्या कर ली। पुलिस आत्महत्या के पीछे के कारणों का पता लगाने के लिए...

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
385,000SubscribersSubscribe