Sunday, July 3, 2022
Homeदेश-समाजकॉन्वेंट में नन का यौन शोषण, घसीटते हुए ले गए, हाथ-पाँव बाँध लगाया इंजेक्शन:...

कॉन्वेंट में नन का यौन शोषण, घसीटते हुए ले गए, हाथ-पाँव बाँध लगाया इंजेक्शन: चर्च बोला – उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं

एक अन्य व्यक्ति ने भी मुझे पीटा। उन्होंने मुझे कुछ दवा का इंजेक्शन लगाया। अगले दिन मैंने वहाँ एक नर्स से पूछा कि मुझे वहाँ क्यों भर्ती कराया गया तो उसने मुझे बताया कि ऐसा इसलिए है क्योंकि मैं मानसिक रूप से अस्वस्थ हूँ।"

कर्नाटक के मैसूर के श्री रामपुरा में मर्सी कॉन्वेंट में काम करने वाली एक नन ने दावा किया कि उसका यौन उत्पीड़न किया गया है। उसने मदद की अपील करते हुए कहा कि उसे अपनी आवाज उठाने के लिए जान से मारने की धमकी मिल रही है। सिस्टर एल्सीना ‘Daughters of our Lady of Mercy’ चर्च के कॉन्वेंट में काम करती थी।

नन ने आरोप लगाया कि उसे जबरन कॉन्वेंट के एक मनोरोग अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहाँ उसके साथ यौन उत्पीड़न किया गया। नन ने इस संबंध में एक वीडियो साझा किया, जिसमें मर्सी कॉन्वेंट में कथित तौर पर हुई अनियमितताओं, यौन उत्पीड़न और भ्रष्टाचार आदि के बारे में बात की।

जानकारी के मुताबिक नन सिस्टर एल्सीना ने कर्नाटक महिला आयोग में कॉन्वेंट में हो रही भ्रष्टाचार और अनियमितता की शिकायत की थी। कॉन्वेंट ने उसे शिकायत वापस लेने के लिए कहा, लेकिन उसने इनकार कर दिया। जिसके बाद उसे कथित तौर पर प्रताड़ित किया गया और जबरन अस्पताल में भर्ती कराया गया। नन के रिश्तेदारों और पुलिस के हस्तक्षेप के बाद अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद उसे कॉन्वेंट से निकाल दिया गया। 

सिस्टर एल्सीना एक 45 वर्षीय नन हैं, जिसका जन्म और पालन-पोषण मेंगलुरु में हुआ था। उसके पिता कोझीकोड से हैं और माँ अलाप्पुझा से हैं। वह कोडागु में एक अन्य कलीसिया द्वारा संचालित एक स्कूल में एक शिक्षिका और बाद में प्रधानाध्यापिका के रूप में काम करती थी।

एल्सीने ने TNM को बताया, “मुझे Daughters of Our Lady of Mercy के कॉन्वेंट में आए अभी अभी तीन महीने हुए थे। मैं पिछले 25 सालों से नन हूँ। काफी समय से, मैंने कॉन्वेंट में कुछ अनियमितताएँ देखी और मैंने इसके बारे में कर्नाटक महिला आयोग को लिखा था। कॉन्वेंट में नन ने मुझे महिला आयोग से शिकायत वापस लेने के लिए मजबूर किया और जब मैंने मना कर दिया, तो मुझे लगा कि मेरे खिलाफ कुछ चाल चल रही है। इसके बाद मैंने वीडियो बनाया। जिसमें मैंने अपने जीवन के लिए खतरे के बारे में बताया। इसे मैंने अपने भतीजे के साथ शेयर किया।”

नन ने आरोप लगाया कि 31 मई को शाम 7 बजे कॉन्वेंट में उसे काफी टॉर्चर किया गया। नन ने कहा, “31 मई को एक नन ने मुझे बताया कि कुछ मेहमान आए हैं। वहाँ दो या तीन आदमी थे और दो नन थीं, जो सब मेरे लिए अजनबी थीं। वे आपस में बातें कर रहे थे। बाद में मुझे लगा कि यह कुछ गुंडों और मेरी मंडली के लोगों के बीच मुझ पर हमला करने की साजिश है। उनमें से एक ने ही मुझे पीटा और मैं गिर पड़ी। उन्होंने मेरा मोबाइल फोन छीन लिया और मेरे हाथ बाँध दिए। पुरुषों में से एक ने मुझे कुछ इंजेक्शन लगाया और मैं गिर गई। वे मुझे एक जानवर की तरह घसीटते हुए गाड़ी में ले गए, इसमें नन भी उनकी मदद कर रही थीं। एक आदमी ने मेरे पैरों पर मुहर लगा दी। मेरे चिल्लाने के बावजूद किसी ने मेरी मदद करने की कोशिश नहीं की। मैं अभी भी होश में थी और मैंने देखा कि एक नन एक आदमी से कुछ ले रही है।” 

नन ने आगे कहा, “वे मुझे पास के एक मेंटल केयर अस्पताल में ले गए, जो ननों द्वारा संचालित है। मेरे साथ बेहद बुरा व्यवहार किया गया, वे मुझे घसीटकर ऊपरी मंजिल पर ले गए। उस रात, मुझे एक आदमी से बहुत बुरे अनुभव हुए। अस्पताल का स्टाफ नर्स होने का दावा करने वाले एक अन्य व्यक्ति ने भी मुझे पीटा। उन्होंने मुझे कुछ दवा का इंजेक्शन लगाया। अगले दिन मैंने वहाँ एक नर्स से पूछा कि मुझे वहाँ क्यों भर्ती कराया गया तो उसने मुझे बताया कि ऐसा इसलिए है क्योंकि मैं मानसिक रूप से अस्वस्थ हूँ। तब तक मैं बहुत थक चुकी थी और मेरे मुँह से झाग निकलने लगा था।”

कॉन्वेंट के इस कारनामे का खलासा तब हुआ, जब उसके भतीजे ने फोन पर संपर्क न होनं पर पुलिस स्टेशन का रुख किया। इस दौरान उसने नन द्वारा शेयर किया गया वीडियो भी दिखाया। जिसके बाद पुलिस ने तहकीकात करते हुए उसे खोज निकाला।

नन ने कहा, “उन्होंने मेरे पिता को पहले दिन मुझे देखने नहीं दिया। मुझे देखने के लिए उन्हें अस्पताल के बाहर चार दिन इंतजार करना पड़ा। तब तक मीडिया को सूचना दी गई। एक दिन जब मुझे काउंसलिंग रूम से बाहर निकाला गया तो मैंने अपने पिता की आवाज सुनी। मैंने नन से विनती की। मुझे मेरे पिता को देखने की अनुमति दी और उनके पास चली गई। जिस दिन मुझे छुट्टी मिली, उन्होंने मुझसे लिखाया कि मुझे मेरी मर्जी से भर्ती कराया गया था और मेरे पिता ने मुझे डिस्चार्ज करवाया था। लेकिन मैंने उस पत्र पर हस्ताक्षर नहीं किए। अस्पताल ने यह भी माँग की कि मैं एक पत्र लिखकर कहूँ कि मैं अस्पताल छोड़कर अपने पिता के साथ जा रही हूँ। मैंने नाटक किया कि मैं पत्र लिख रही थी और भागकर अपने पिता के पास चली गई।”

इसके बाद वह और उसके पिता एक पुलिस की गाड़ी से थाने पहुँचे। सिस्टर एल्सीना 6 जून को पुलिस के साथ अपने कपड़े लेने कॉन्वेंट गई थी। “लेकिन उन्होंने उसे न तो उसके नन के कपड़े दिए और न ही फोन दिया।”

इस बीच चर्च ने बायन जारी कर दावा किया कि नन का कार्य अनुचित है और वह कॉन्वेंट को बदनाम करने के लिए किया गया था। बुधवार (8 जून 2022) को जारी अपने प्रेस बयान में चर्च ने कहा कि नन सुधा केवी उर्फ ​​एल्सीना पिछले 24 वर्षों से धार्मिक मण्डली की सदस्य हैं, लेकिन पिछले कुछ महीनों से वह आक्रामक व्यवहार कर रही है और अन्य ननों के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर रही है, आत्महत्या करने की धमकी दे रही है।

चर्च ने कहा, “सुधा को उसके व्यवहार के कारण सेंट मैरी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। लेकिन सुधा ने एक बाहरी व्यक्ति के कहने पर मण्डली के सदस्यों के खिलाफ झूठे आरोपों के साथ एक वीडियो क्लिप बनाई और इसे सोशल मीडिया के माध्यम से फैला दिया। डॉक्टरों की सलाह के खिलाफ, उसे छुट्टी मिल गई और वह पुलिस से अनुमति लेकर अपने पिता के साथ चली गई। 6 जून को वह कॉन्वेंट लौट आई और ननों को धमकी दी कि वह उन्हें अदालत में घसीटेगी। मामले में पुलिस ने नन पर मारपीट का केस दर्ज कर जाँच कर रही है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिर कलम करने में जिस डॉ युसूफ का हाथ, वो 16 साल से था दोस्त: अमरावती हत्याकांड में कश्मीर नरसंहार वाला पैटर्न, उदयपुर में...

अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या में उनका 16 साल पुराना वेटेनरी डॉक्टर दोस्त यूसुफ खान भी शामिल था। उसी ने कोल्हे की पोस्ट को वायरल किया था।

‘1 बार दलित को और 1 बार महिला आदिवासी को चुना राष्ट्रपति’: BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भारत को पुनः विश्वगुरु बनाने की बात

"सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक, अनुच्छेद 370 खत्म करने, GST, आयुष्मान भारत, कोरोना टीकाकरण, CAA, राम मंदिर - कॉन्ग्रेस ने सबका विरोध किया।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,752FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe