Wednesday, August 4, 2021
Homeदेश-समाज'...मक्खी को भी नुकसान नहीं पहुँचा सकते': सुनंदा पुष्कर के बेटे के बयान से...

‘…मक्खी को भी नुकसान नहीं पहुँचा सकते’: सुनंदा पुष्कर के बेटे के बयान से वकील कर रहे शशि थरूर का बचाव

"मैंने पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर से मृत्यु के कारण के बारे में पूछा। उन्होंने मुझे बताया कि कोई विषाक्तता नहीं है... लेकिन 15-20 मिनट के बाद ही डॉक्टर मीडिया में गए और बताया कि मौत का कारण जहर या अप्राकृतिक है।"

दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार (मार्च 23, 2021) को सुनंदा पुष्कर मौत/हत्या मामले के आरोपित कॉन्ग्रेस सांसद डॉ. शशि थरूर की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता विकास पाहवा द्वारा विशेष न्यायाधीश गीतांजलि गोयल के समक्ष पेश की गई याचिकाओं पर सुनवाई की

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इस सुनवाई में पाहवा ने सुनंदा पुष्कर के बेटे, शिव मेनन के पुलिस को दिए बयान को पढ़ा। इसमें उन्होंने कहा था कि उनका मानना है कि थरूर एक मक्खी को भी चोट नहीं पहुँचा सकते हैं। उनके बेटे के बयान से थरूर के साथ सुनंदा के रिश्ते, उनकी मेडिकल कंडीशन और पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर द्वारा बयान में बदलाव का पता चला। शिव मेनन के बयान का हवाला देते हुए, विकास पाहवा ने पढ़ा:

“मुर्दाघर में मैंने पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर से मृत्यु के कारण के बारे में पूछा। उन्होंने मुझे बताया कि कोई विषाक्तता नहीं है… कोई धोखेबाजी नहीं है। यह शायद नींद न आना, भूख, अत्यधिक धूम्रपान और तनाव के कारण हो सकता है। लेकिन 15-20 मिनट के बाद ही डॉक्टर मीडिया में गए और बताया कि मौत का कारण जहर या अप्राकृतिक है। मेरा मानना है कि शशि एक मक्खी को भी नुकसान नहीं पहुँचा सकते। वह उन्हें नुकसान पहुँचाने के बारे में सोच भी नहीं सकते थे… दुर्भाग्य से अपने जीवन के अंत में, वह अपनी मानसिक स्थिति के कारण थोड़ी अस्थिर थी लेकिन शशि उसकी हत्या नहीं कर सकते।”

सुनंदा पुष्कर की दवाओं की एक सूची पढ़ने के बाद, वरिष्ठ वकील ने उनके बेटे के बयान का उल्लेख किया, जो उनके द्वारा पुलिस को दिया गया था, “मैंने उन्हें सूचित किया कि यह एक अवसादरोधी है, नींद की गोली नहीं… वह इसे ले रही हैं। कई वर्षों तक… जब वह भारत के लिए रवाना हुईं तो उन्होंने मुझे गले लगाया… उन्होंने बताया कि मुझे बुरा लग रहा है कि मैं आपको दोबारा नहीं देख पाऊँगी। वह हमेशा बोलती थीं कि वह बीमार हैं और बहुत जल्द मर जाएँगी। मेरी माँ बहुत भावुक थीं। हर बार जब वह भारत आईं, तो वह आक्रामक मूड में थीं। वह छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा हो जाती थीं। मैंने उन्हें शांत करने की कोशिश की, शशि एक व्यस्त आदमी हैं और उनसे बहुत प्यार करते हैं… उनके बीच संवाद की कमी थी।”

अपने तर्क को पुष्ट करने के लिए, विकास पाहवा ने खुलासा किया कि परिवार के कुछ सदस्यों के अनुसार, थरूर सुनंदा पुष्कर को भारत में डॉक्टरों के पास ले गए थे और साथ ही साथ वे फ्रांस भी ले कर गए थे, जहाँ उनकी मेडिकल कंडीशन पर विचार किया गया।

शिव मेनन के बयान के आधार पर, पाहवा ने तर्क दिया कि “मृतक के इकलौते बेटे ने स्पष्ट रूप से कहा कि थरूर का मौत से कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन मेरा दोस्त (अभियोजक) उन पर आरोप लगाना चाहता है।” तर्कों को लम्बे समय तक सुनने के बाद, इस मामले को आगे की दलीलों के लिए 26 मार्च 2021 को दोपहर 2 बजे के लिए सूचीबद्ध किया गया है।

सुनंदा पुष्कर मौत का मामला

कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर 17 जनवरी 2014 को दिल्ली के लीला होटल में अपने सुइट में रहस्यमय परिस्थितियों में मृत पाई गई थीं। 16 जनवरी 2014 को, सुनंदा पुष्कर ने पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार के साथ ट्विटर पर बहस की थी।

सुनंदा ने भी मेहर पर आईएसआई एजेंट होने और उसे घूरने का आरोप लगाया, हालाँकि, मेहर ने इन आरोपों का खंडन किया, उन्हें ‘बेतुका’ कहा। इन ट्वीट्स को सुनंदा पुष्कर की टाइमलाइन से हटा दिया गया। अगले दिन, पुष्कर को दिल्ली के लीला होटल के सुइट नंबर 345 में मृत पाया गया।

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट्स के बाद पता चला कि सुनंदा के शरीर पर 12 चोट के निशान थे और एंटी-डिप्रेशन ड्रग अल्प्राजोलम के पेट में नाममात्र के निशान पाए जाने के बाद मामला दिल्ली पुलिस को सौंप दिया गया था। 15 मई, 2018 को, दिल्ली पुलिस ने कॉन्ग्रेस सांसद शशि थरूर पर उनकी पत्नी की आत्महत्या का आरोप लगाते हुए थरूर पर 3000 पृष्ठ की चार्जशीट में पुष्कर को क्रूरता से पेश करने का आरोप लगाया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

5 करोड़ कोविड टीके लगाने वाला पहला राज्य बना उत्तर प्रदेश, 1 दिन में लगे 25 लाख डोज: CM योगी ने लोगों को दी...

उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य बन गया है, जिसने पाँच करोड़ कोरोना वैक्सीनेशन का आँकड़ा पार कर लिया है। सीएम योगी ने बधाई दी।

अ शिगूफा अ डे, मेक्स द सीएम हैप्पी एंड गे: केजरीवाल सरकार का घोषणा प्रधान राजनीतिक दर्शन

अ शिगूफा अ डे, मेक्स द CM हैप्पी एंड गे, एक अंग्रेजी कहावत की इस पैरोडी में केजरीवाल के राजनीतिक दर्शन को एक वाक्य में समेट देने की क्षमता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,864FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe