Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजशिवसेना सांसद के बेटे ने ट्रैफिक पुलिस के साथ की बदसलूकी, दी नौकरी से...

शिवसेना सांसद के बेटे ने ट्रैफिक पुलिस के साथ की बदसलूकी, दी नौकरी से निकलवाने की धमकी: वीडियो वायरल

भारी बरसात में ड्यूटी कर रहे ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने बताया कि, विधायक के बेटे योगेश राउत ने मुझसे गालीगलौज किया। इसके साथ ही उन्होंने मुझे नौकरी से निकलवाने की धमकी दी। विनायक राउत वर्तमान में कोंकण के रत्नागिरी-सिंधूदुर्ग लोकसभा सीट से शिवसेना सांसद है।

सोशल मीडिया पर इस समय शिवसेना सांसद के बेटे की गुंडागर्दी का एक वीडियो वायरल हो रहा है। वायरल हुए वीडियो में शिवसेना सांसद विनायक राउत के बेटे योगेश राउत को एक ट्रैफिक पुलिस अधिकारी के साथ बत्तमीजी करते देखा जा रहा है। घटना कोंकण के कणकवली इलाके की है। जहाँ कथित रूप से नशे में धुत एमपी के बेटे योगेश को ट्रैफिक नियमों की धज्जियाँ उड़ाते हुए देखा गया। इसके साथ उसने पुलिसकर्मी को नौकरी से निकालने की धमकी भी दी।

भारी बरसात में ड्यूटी कर रहे ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने बताया कि, विधायक के बेटे योगेश राउत ने मुझसे गालीगलौज किया। इसके साथ ही उन्होंने मुझे नौकरी से निकलवाने की धमकी दी। विनायक राउत वर्तमान में कोंकण के रत्नागिरी-सिंधूदुर्ग लोकसभा सीट से शिवसेना सांसद है।

बता दें शिवसेना सांसद विनायक राउत के बेटा योगेश ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन कर रहा था। ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने विनायक राउत के बेटे योगेश को गाड़ी पीछे लेने के लिए कहा तो योगेश आगबबूला हो गया और ट्रैफिक हवलदार परब से ऊँची आवाज में बात करने लगा। जब पुलिसकर्मी ने पलटकर योगेश को जवाब दिया तब सांसद का बेटा पुलिस हवालदार को धमकी देने लगा।

शिवसेना सदस्य ने इससे पहले नकली नेपाली व्यक्ति को किया था टॉर्चर

गौरतलब है कि नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने नेपाल में भगवान राम के जन्म का दावा करने के बाद बीते शुक्रवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया। इसमें एक नेपाली युवक का सिर मुँडवाकर उसकी खोपड़ी पर जय श्री राम लिखते देखा गया। बाद में पता चला कि उक्त शिवसैनिक ने 1000 रुपए देकर यह नाटक रचा था।

वीडियो वायरल होने के बाद वाराणसी की भेलूपुर पुलिस ने मामले को संज्ञान में लेते हुए मुकदमा दायर किया। जाँच से पता चला कि इस हरकत को अंजाम देने वाले शख्स का नाम अरुण पाठक है। हमने अरुण पाठक की फेसबुक प्रोफाइल खँगाली। और अरुण की प्रोफाइल खोलते ही हमें उसके शिवसेना से जुड़े होने के प्रमाण मिले। जिसने यह पूरा नाटक रचा था।

उसने अपने फेसबुक प्रोफाइल के बॉयो में लिखा है, “बाला साहेब का शिष्य एवं एक सनातन।” इसके अलावा अन्य जानकारियों में भी इस बात का उल्लेख है कि वो साल 2000 से 2003 तक शिवसेना का जिलाध्यक्ष रह चुका है। उसकी फेसबुक पर अपलोड तस्वीर देखने पर भी मालूम चलता है कि शिवसेना के बड़े नेताओं के साथ भी उसका उठना-बैठना रहा है। उसकी टाइमलाइन पर कई पोस्टर भी हैं। इनमें बाला साहेब की तस्वीर साफ देखी जा सकती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,361FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe