Tuesday, May 17, 2022
Homeदेश-समाजउज्जैन की मस्जिद के नीचे शिव मंदिर और गणेश प्रतिमा? संत ने कहा -...

उज्जैन की मस्जिद के नीचे शिव मंदिर और गणेश प्रतिमा? संत ने कहा – राजा भोज की थी राजधानी, प्रशासन एक्शन ले वरना कोर्ट जाएँगे

उन्होंने इतिहास बताया कि क्षिप्रा नदी के किनारे स्थित उज्जैन राजा भोज की राजधानी रही है, जहाँ 1600 ईस्वी में मुगलों ने तोड़फोड़ मचा कर कब्ज़ा किया था।

मध्य प्रदेश के उज्जैन में स्थित बिना नींव वाली मस्जिद को लेकर बड़ा दावा किया गया है। महामंडलेश्वर अतुलेशानंद जी महाराजने कहा है कि उज्जैन की मस्जिद के नीचे भगवान शिव का मंदिर और गणेश की प्रतिमाएँ हैं। महामंडलेश्वर अतुलेशानंद जी महाराज ‘अखंड हिन्दू सेना’ के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी हैं। उन्होंने कहा कि मस्जिद के नीच अति प्राचीन हिन्दू प्रतिमाएँ हैं। उन्होंने पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों से इस पर कार्यवाही करने की माँग की है।

उनका कहना है कि मस्जिद में सर्वे, फोटोग्राफी और वीडियोग्राफ़ी कराई जाए, ताकि सब कुछ साफ़ हो जाए। उन्होंने चेताया कि अगर पुलिस-प्रशासन हरकत में नहीं आता है तो वो अदालत का दरवाजा खटखटाएँगे। ‘आवाहन अखाड़े’ के महामंडलेश्वर ने कहा कि उन्होंने खुद 2007 में मस्जिद के भीतर जाकर ये चीजें देखी थीं। उन्होंने बताया कि परमार कालीन राजा रोज के चित्र के अलावा शिव और गणेश की प्रतिमाएँ अंदर हैं।

उन्होंने कहा कि सर्वे, फोटोग्राफी और वीडियोग्राफ़ी होने तक उन चीजों से कोई भी छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए। साथ ही उन्होंने मस्जिद के अंदर हाथी, घोड़े और पत्थरों पर विशाल पहरेदार सैनिकों की मूर्तियाँ होने का भी दावा किया। संत ने कहा कि ग्वालियर से इस मस्जिद से जुड़े दस्तावेज मँगवाए जाएँगे, जिसके बाद सब साफ़ हो जाएगा। उन्होंने हिन्दुओं की संपत्ति हिन्दुओं को ही सौंपने की माँग की। उन्होंने इतिहास बताया कि क्षिप्रा नदी के किनारे स्थित उज्जैन राजा भोज की राजधानी रही है, जहाँ 1600 ईस्वी में मुगलों ने तोड़फोड़ मचा कर कब्ज़ा किया था।

वाराणसी के काशी विश्वनाथ परिसर में स्थित ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे-वीडियोग्राफ़ी के लिए अदालत ने एडवोकेट कमिश्नर की नियुक्ति की है और ये प्रक्रिया चालू भी है। शुरू में मुस्लिमों ने जाम लगा कर कार्य को रोक दिया था। इसी तर्ज पर मथुरा के शाही ईदगाह मस्जिद में भी सर्वे-वीडियोग्राफ़ी की माँग की गई है। उधर दिल्ली में क़ुतुब मीनार का नाम ‘विष्णु स्तंभ’ रखने की माँग की गई है। आगरा में ताजमहल के 22 बंद कमरों को खोलने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका गई है, क्योंकि वहाँ हिन्दू प्रतीक चिह्न और साहित्य होने के दावे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अभिनेत्री के घर पहुँची महाराष्ट्र पुलिस, लैपटॉप-फोन सहित कई उपकरण जब्त किए: पवार पर फेसबुक पोस्ट, एपिलेप्सी से रही हैं पीड़ित

अभिनेत्री ने फेसबुक पर 'ब्राह्मणों से नफरत' का आरोप लगाते हुए 'नर्क तुम्हारा इंतजार कर रहा है' - ऐसा लिखा था। हो चुकी हैं गिरफ्तार। अब घर की पुलिस ने ली तलाशी।

जिसे पढ़ाया महिला सशक्तिकरण की मिसाल, उस रजिया सुल्ताना ने काशी में विश्वेश्वर मंदिर तोड़ बना दी मस्जिद: लोदी, तुगलक, खिलजी – सबने मचाई...

तुगलक ने आसपास के छोटे-बड़े मंदिरों को भी ध्वस्त कर दिया और रजिया मस्जिद का और विस्तार किया। काशी में सिकंदर लोदी और खिलजी ने भी तबाही मचाई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
186,268FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe