Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाजगाय के साथ शोएब ने किया रेप, चारा लेकर आया था: UP पुलिस ने...

गाय के साथ शोएब ने किया रेप, चारा लेकर आया था: UP पुलिस ने पशु क्रूरता कानून में भेजा जेल

गाय के मालिक ने शोएब को गाय के साथ गंदा काम करते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया, मगर वह किसी तरह से वहाँ से भागने में कामयाब हो गया। इसके बाद सुमित ने शोएब के खिलाफ पशु क्रूरता निवारण अधिनियम की धारा-11 में केस दर्ज कराया।

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में गाय के साथ घिनौनी हरकत करने का एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। दैनिक भास्कर की खबर के मुताबिक, ई-रिक्शा चालक शोएब को एक गाय के साथ गंदा काम करते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया। हालाँकि, वह उस समय वहाँ से भागने में सफल रहा, लेकिन पुलिस ने उसे गुरुवार (अगस्त 26, 2021) को गिरफ्तार कर लिया और जेल भेज दिया।

यह मामला गाजियाबाद के मसूरी थाना क्षेत्र की है। इस घटना को उस समय अंजाम दिया गया, जब 22 अगस्त को रक्षाबंधन के अवसर पर गाय का मालिक सुमित अपने ससुराल गया था। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सुमित मसूरी थाना क्षेत्र के पूठी का रहने वाला है। उसका कहना है कि जब वो रक्षाबंधन पर अपने ससुराल गया था, उसी समय शोएब नाम का लड़का ई-रिक्शे में चारा लेकर उसके घर पहुँचा। सुमित का आरोप है कि शोएब ने गाय को अकेला देखकर उसके साथ गंदा काम किया।

सुमित के छोटे भाई ने शोएब को गाय के साथ गंदा काम करते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया, मगर वह किसी तरह से वहाँ से भागने में कामयाब हो गया। इसके बाद सुमित ने शोएब के खिलाफ पशु क्रूरता निवारण अधिनियम की धारा-11 में केस दर्ज कराया। बताया जा रहा है कि डासना निवासी शोएब को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। इस मामले में अधिक जानकारी के लिए ऑपइंडिया ने मसूरी थाना क्षेत्र में संपर्क करने की कोशिश की, मगर लाइन लगातार व्यस्त आने की वजह से बात नहीं हो पाई।

गौरतलब है कि किसी गाय के साथ गंदा काम करने का ये पहला मामला नहीं है। आए दिन पशुओं पर की जाने वाली ऐसी बर्बरता की खबरें हमें सुनने को मिलती रहती हैं। हाल ही में उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के टप्पल थाने के अंतर्गत स्थित नूरपुर गाँव में एक आवारा गाय को पीटने की खबर आई। इतना ही नहीं, जब एक युवक ने गाय के साथ क्रूरता का विरोध किया तो उसे भी पीट-पीट कर घायल कर दिया गया। शनिवार (जुलाई 3, 2021) को हुई इस घटना के दौरान गाय और उक्त युवक घायल हो गए।

इस पूरी घटना के मामले में इरफान व इरशाद पुत्र बल्लू और दिलशाद पुत्र उन मुहम्मद के अलावा 3 अज्ञात FIR दर्ज करवाई गई। रिंकू सिंह ने अपनी तहरीर में बताया था कि दोपहर को वह अपने ट्रैक्टर पर ईंट लाद कर टप्पल से लौट रहे थे, तभी उन्होंने देखा कि कुछ युवक एक छुट्टा गाय को परेशान कर रहे हैं। इस पर उन्होंने उन लड़कों को टोका और पास बैठे बुजुर्गों से उन्हें मना करने का निवेदन किया।

इस पर आरोपित भड़क गए और उन्होंने लाठी-डंडों और सरिये से रिंकू सिंह की पिटाई शुरू कर दी। उन्होंने अपनी शिकायत में बताया कि उनके हाथ और पसलियों में चोटें आई। इस घटना के सामने आते ही ‘अखंड भारत हिंदू सेना’ के सह जिला संयोजक गणेश हिंदू, हिंदू वाहिनी मंच के जिलाध्यक्ष अजय शर्मा, युवा सोच आर्मी के फाउंडर रोहित गोस्वामी और सचिन पंडित ने प्रशासन से माँग की थी कि आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,823FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe