Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाजजंगल से मिली हड्डियाँ श्रद्धा की निकलीं: रिपोर्ट में 'DNA मैच' होने का दावा,...

जंगल से मिली हड्डियाँ श्रद्धा की निकलीं: रिपोर्ट में ‘DNA मैच’ होने का दावा, पिता ने उठाई CBI जाँच की माँग

फॉरेंसिक लैब के सूत्रों के हवाले से मीडिया में कहा गया है कि जंगल से मिली हड्डियाँ और श्रद्धा के पिता के ब्लड सैंपल का डीएनए मैच हो गया है। हालाँकि, पुलिस की ओर से आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है।

दिल्ली पुलिस को श्रद्धा मर्डर केस के आरोपित आफताब के खिलाफ बड़ा सबूत मिला है। दावा किया जा रहा है कि जंगल से मिली हड्डियाँ श्रद्धा वालकर की ही हैं। मीडिया रिपोर्ट्स में फॉरेंसिक लैब के सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि जंगल से मिली हड्डियाँ और श्रद्धा के पिता के ब्लड सैंपल का डीएनए मैच हो गया है। हालाँकि, पुलिस की ओर से आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है।

रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली पुलिस ने फॉरेंसिक लैब को जंगल से मिली हड्डियाँ सौंपी थीं। इन हड्डियों का डीएनए और श्रद्धा के पिता के ब्लड सैंपल का डीएनए मिलान हो गया है। दिल्ली पुलिस को अब इसकी रिपोर्ट का इंतजार है। वहीं, इस मामले में स्पेशल CP (लॉ एंड ऑर्डर) सागर प्रीत हुड्डा का कहना है कि उन्हें अब तक DNA टेस्ट रिपोर्ट (पीड़िता के पार्ट्स की) नहीं मिली है।

गौरतलब है कि श्रद्धा के पिता विकास वालकर ने इस हत्याकांड की CBI जाँच की माँग की है। एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा है, आफताब अब भी पुलिस को गुमराह कर रहा है, इसलिए मामले की सीबीआई जाँच होनी चाहिए। आफताब श्रद्धा को लगातार ब्लैकमेल करता था और उसे डरा- धमका कर रखता था। वह श्रद्धा को जान से मारने की धमकी दे चुका था।

विकास वालकर ने यह भी कहा था, “श्रद्धा की हत्या में आफताब का परिवार भी शामिल है। आफताब के माता-पिता उसकी हरकतों के बारे में जानते थे। उन्हें पता था कि श्रद्धा के साथ क्या हो रहा है, वह चाहते तो मुझे इस बारे में बता सकते थे लेकिन मुझे कुछ भी नहीं बताया गया।”

पुलिस की पूछताछ में यह सामने आया है कि श्रद्धा हत्याकांड का आरोपित आफताब किसी शातिर हत्यारे की तरह सोच रहा था। आफताब जानता था कि हत्या के बाद जाँच होने पर पुलिस उसके मोबाइल के जीपीएस की जाँच कर सकती है। इसलिए वह जब श्रद्धा के शरीर के टुकड़ों को फेंकने जाता था तो वह फोन का जीपीएस बंद कर देता था। साथ ही, कई बार वह अपना फोन घर में भी छोड़कर चला जाता था।

यही नहीं, श्रद्धा की हत्या के बाद किसी को उस पर शक न हो इसलिए वह लगातार ऑफिस जाता रहा। यही नहीं, हत्या के बाद श्रद्धा के परिवार वालों और फ्रेंड्स की नजरों में श्रद्धा को जिंदा दिखाने के लिए आफताब उसके इंस्टाग्राम अकाउंट को यूज करता रहा। यहाँ तक कि उसने उसके इंस्टाग्राम से कुछ पोस्ट्स भी किए थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पातिलाना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

US में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगी गोली, हमलावर सहित 2 की मौत: PM मोदी ने जताया दुख, कहा- ‘राजनीति में हिंसा की...

गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने हमलावर को मार गिराया। इस हमले में डोनाल्ड ट्रंप घायल हो गए और उनके कान से निकला खून उनके चेहरे पर दिखा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -