Friday, July 1, 2022
Homeदेश-समाज'पत्रकार सिद्दीकी कप्पन ने मुस्लिमों को भड़काया, उन्हें पीड़ित दिखाया': UP STF की चार्जशीट

‘पत्रकार सिद्दीकी कप्पन ने मुस्लिमों को भड़काया, उन्हें पीड़ित दिखाया’: UP STF की चार्जशीट

हलफनामे में बताया गया है कि कप्पन जिम्मेदार पत्रकार की तरह नहीं लिखता था। उसका काम सिर्फ मुस्लिमों को भड़काने का था। उसकी संवेदनाएँ माओवादी और कम्युनिस्टों के साथ थीं।

उत्तर प्रदेश के हाथरस केस के दौरान सिद्दीकी कप्पन नामक एक पत्रकार गिरफ्तार हुआ था जिसके ख़िलाफ यूपी की स्पेशल टास्क फोर्स ने 5000 पेज की चार्जशीट दाखिल की थी। अब मीडिया में इसी चार्जशीट की कुछ महत्वपूर्ण बातें प्रकाशित हुई हैं। 

रिपोर्ट्स के मुताबिक, हलफनामे में एक जाँच अधिकारी का डायरी नोट है। इसमें उन्होंने कप्पन के उन 36 आर्टिकल्स को हाईलाइट किया है जो उसके लैपटॉप से बरामद हुए थे। इन लेखों में निजामुद्दीन मरकज, एंटी सीएए प्रोटेस्ट, दिल्ली दंगे, राम मंदिर, शरजील इमाम जैसे मुद्दों पर बात है।

हलफनामे में बताया गया है कि कप्पन जिम्मेदार पत्रकार की तरह नहीं लिखता था। उसका काम सिर्फ मुस्लिमों को भड़काने का था। उसकी संवेदनाएँ माओवादी और कम्युनिस्टों के साथ थीं। एएमयू में हुए सीएए प्रोटेस्ट पर लिखे लेख में उसने ऐसे दिखाया था जैसे पीटे गए मुस्लिम पीड़ित हों और पुलिस ने उन्हें पाकिस्तान जाने को कहा हो।

एसटीएफ ने इस प्रकार की लेखनी को सांप्रदायिक बताया और इसका उल्लेख किया है कि जिम्मेदार पत्रकार सांप्रदायिक रिपोर्टिंग नहीं करते। कप्पन सिर्फ और सिर्फ मुस्लिमों को भड़काता था, जो कि पीएफआई का छिपा एजेंडा है।

बता दें कि कप्पन को पिछले साल अक्टूबर में पीएफआई सदस्य अतिकुर रहमान, मसूद अहमद और उनके ड्राइवर के साथ मथुरा में गिरफ्तार किया गया था। इन्हें देशद्रोह और यूएपीए के तहत हिरासत में लिया गया था। चार्जशीट में लगाए गए नोट का दावा है की कप्पन पीएफआई के थिंकटैंक की तरह काम कर रहा था। वह हिंदू विरोधी खबरें मलयायम में पब्लिश कराने की और दिल्ली दंगों को भड़काने की कोशिश कर रहा था।

पुलिस ने उस पर इंटेलिजेंस ब्यूरो के अधिकारी अंकित शर्मा और हेड कांस्टेबल रतन लाल की मौत को छिपाने की कोशिश करने और दिल्ली दंगों में निलंबित AAP पार्षद ताहिर हुसैन की भूमिका को कम दिखाने का भी आरोप लगाया। जाँच एजेंसी ने कहा कि कप्पन अपनी लेखनी में प्रतिबंधित संगठन सिमी के आतंक को नकारता रहा था। 

पुलिस ने ऐसे लोगों के बयान भी चार्जशीट में डाले हैं जो बताते हैं कि कप्पन और रहमान भीड़ को प्रशासन के विरुद्ध भड़काने में लगे थे। इस चार्जशीट में एसटीएफ ने मलयालम में लिखे उसके आर्टिकल और उनके अनुवाद के सैंकड़ों पन्ने जमा किए हैं। इसके साथ कॉल रिकॉर्ड, पीएफआई पदाधिकारियों के खातों में लेनदेन का विवरण भी प्रस्तुत किया गया है।

इसमें मंट टोल प्लाजा के इन्चार्ज  ज्ञानेंद्र सिंह सोलंकी का भी बयान है जहाँ उन्होंने कप्पन और रहमान के पीएफआई से जुड़े होने की बात, हाथरस जाते समय उनके पास से मिले 1,717 भड़काऊ पैम्पलेट बरामद होने की बात कही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री बनेंगे, नहीं थी किसी को कल्पना’: राजनीति के धुरंधर एनसीपी चीफ शरद पवार भी खा गए गच्चा, कहा- उम्मीद थी वो...

शरद पवार ने कहा कि किसी को भी इस बात की कल्पना नहीं थी कि एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का सीएम बना दिया जाएगा।

आँखों के सामने बच्चों को खोने के बाद राजनीति से मोहभंग, RSS से लगाव: ऑटो चलाने से महाराष्ट्र के CM बनने तक शिंदे का...

साल में 2000 में दो बच्चों की मौत के बाद एकनाथ शिंदे का राजनीति से मोहभंग हुआ। बाद में आनंद दिघे उन्हें वापस राजनीति में लाए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
201,261FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe