Monday, May 16, 2022
Homeदेश-समाजहाथरस कांड: सिद्दीक कप्पन को 5 दिन की बेल, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- मीडिया...

हाथरस कांड: सिद्दीक कप्पन को 5 दिन की बेल, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- मीडिया से दूर रहना

5 अक्टूबर को मथुरा में गिरफ्तार हुए सिद्दीक कप्पन की जमानत का उत्तर प्रदेश सरकार ने विरोध किया, लेकिन अदालत ने कहा कि अपनी माँ की मृत्यु को लेकर कोई झूठ नहीं बोलता।

उत्तर प्रदेश के बहुचर्चित हाथरस मामले में कथित तौर पर हिंसा भड़काने की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार सिद्दीक कप्पन को सुप्रीम कोर्ट ने पाँच दिन की अंतरिम जमानत दे दी है। सुप्रीम कोर्ट ने सिद्दीक कप्पन को केरल में अपनी बीमार माँ से मिलने के लिए जमानत दी है।

सिद्दीक कप्पन ने अपनी जमानत याचिका में कहा था कि उनकी माँ की हालत ठीक नहीं है और वो मौत के कगार पर है। अदालत ने कप्पन को कुछ शर्तों के साथ ही सिद्दीक कप्पन की जमानत मंजूर की है।

5 अक्टूबर को मथुरा में गिरफ्तार हुए सिद्दीक कप्पन की जमानत का उत्तर प्रदेश सरकार ने विरोध किया, लेकिन अदालत ने कहा कि अपनी माँ की मृत्यु को लेकर कोई झूठ नहीं बोलता।

रिपोर्ट्स के अनुसार, चीफ जस्टिस एसए बोबडे ने कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस सिद्दीक कप्पन को उसके घर केरल लेकर जाएगी और घर की रखवाली करेगी। कोर्ट ने यह भी कहा कि जब सिद्दीक कप्पन अपनी बीमार माँ से मुलाकात करेगा, उस समय पुलिस वहाँ पर मौजूद नहीं रहेगी। 

साथ ही, अदालत ने उन्हें मीडिया से बात ना करने और अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर भी कुछ ना कहने/लिखने के निर्देश दिए हैं। कोर्ट ने कहा है कि सिद्दीक कप्पन अपनी माँ, रिश्तेदार, डॉक्टर और करीबी दोस्तों के अलावा किसी और से नहीं मिलेगा।

हाथरस कांड में उत्तर प्रदेश पुलिस ने मथुरा से पीएफआई और उसके सहयोगी संगठन सीएफआई के 5 सदस्यों को गिरफ्तार किया था। सिद्दीक कप्पन जो कि कथित तौर पर पत्रकार भी है, इन्हीं में शामिल था। इन लोगों पर पीएफआई के इशारे पर हाथरस में दंगा फैलाने की साजिश रचने का आरोप था।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में सितंबर 14, 2020 को एक मामला सामने आया था, जिसमें दावा किया गया कि आरोपितों ने कथित तौर पर युवती की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी और उसकी जीभ काट दी, जिसके बाद पीड़िता की 29 सितंबर को दिल्ली में इलाज के बाद मौत हो गई। इस घटना को लेकर जमकर बवाल हुआ और विपक्षी राजनीतिक दलों ने इस पर जमकर राजनीति की थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योगी सरकार के कारण टूटा संगठन: BKU से निकलने के बाद टिकैत भाइयों के बयानों में फूट, एक ने मढ़ा BJP पर इल्जाम, दूसरा...

भारतीय किसान यूनियन में हुई फूट के मुद्दे पर राकेश टिकैत ने सरकार को दिया दोष, तो नरेश टिकैत ने किसी भी प्रकार की राजनीति होने से इंकार किया।

बॉलीवुड फिल्मों के फेल होने के पीछे कंगना ने स्टार किड्स को बताया जिम्मेदार, बोलीं- उबले अंडे जैसी शक्ल होती है इनकी, कौन देखेगा

कंगना रनौत ने एक बार फिर से स्टार किड्स को लेकर टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि स्टार किड्स दर्शकों से कनेक्ट नहीं कर पाते। उनके चेहरे उबले अंडे जैसे लगते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
185,988FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe