Wednesday, July 6, 2022
Homeदेश-समाजएयरपोर्ट पर सिख पायलट की पगड़ी उतरवाई, बिफरे अकाली विधायक ने कहा- दखल दे...

एयरपोर्ट पर सिख पायलट की पगड़ी उतरवाई, बिफरे अकाली विधायक ने कहा- दखल दे मोदी सरकार

इस घटना का ज़िक्र करते हुए दिल्ली के राजौरी गार्डन से अकाली दल के विधायक और सिख नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने ट्विटर पर क्षोभ प्रकट किया है। उन्होंने इसे 'सिख पगड़ी का अपमान और नस्लभेदी व्यवहार' करार दिया है।

एयर इंडिया के सिख पायलट के साथ नस्लीय भेदभाव और दुर्व्यवहार का एक मामला हाल ही में प्रकाश में आया है। एयरलाइंस के पायलट सिमरन गुजराल को स्पेन में कथित तौर पर अपनी पगड़ी उतारने के लिए मजबूर किया गया। यह घटना तब हुई जब वे एयर इंडिया की फ्लाइट संख्या AI136 को लेकर स्पेन की राजधानी मैड्रिड से दिल्ली आ रहे थेगौरतलब है कि सिख धर्म/खालसा पंथ में सार्वजनिक स्थलों पर सिखों को केश खुले रखने की मनाही है- यह उनके पंथ के अंतिम गुरु श्री गोबिंद सिंह का आदेश है।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक गुजराल जब एयरपोर्ट के मेटल डिटेक्टर से गुजर कर निकले, तो उनके गुजरने पर कोई अलार्म नहीं बजा- यानी उनके शरीर पर या पगड़ी में किसी सुरक्षा उपकरण ने कोई खतरनाक या संवेदनशील चीज़ नहीं थी। इसके बावजूद वहाँ तैनात सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें पगड़ी उतारने के लिए कहा।

गुजराल ने यह भी बताया कि मैड्रिड एयरपोर्ट पर सिखों के साथ बदतमीज़ी अकसर होती रहती है। उनका कहना है कि दुनिया के किसी भी अन्य हवाई अड्डे पर यह होते नहीं देखा है। यानी यह कोई मानक सुरक्षा जाँच नहीं है, जबकि अमेरिका और कनाडा में लाखों की संख्या में सिख रहते हैं।

इस घटना का ज़िक्र करते हुए दिल्ली के राजौरी गार्डन से शिरोमणि अकाली दल के विधायक और सिख नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने ट्विटर पर क्षोभ प्रकट किया है। उन्होंने कहा कि गुजराल ने उन्हें फ़ोन कर आपबीती सुनाई थी। गुजराल के साथ हुए वाकए को सिरसा ने “सिख पगड़ी का अपमान और नस्लभेदी व्यवहार” करार दिया है। सिरसा दिल्ली की सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के अध्यक्ष भी हैं।

साथ ही उन्होंने मोदी सरकार में  विदेश मंत्री और पूर्व राजनयिक एस जयशंकर को टैग करते हुए इस मामले का हल निकालने की गुज़ारिश की है। उन्होंने लिखा, “(आप) सुनिश्चित करें कि दुनिया भर में सिखों के साथ उनकी पगड़ी के चलते दुर्व्यवहार न हो।”

सिखों के साथ पगड़ी के कारण दुर्व्यवहार की यह पहली घटना नहीं है। 2011 में ऐसी कई घटनाएँ हुईं थीं, जिनमें मशहूर गोल्फ़र जीव मिल्खा सिंह के कोच अमृतिंदर सिंह को इटली के मिलान एयपोर्ट पर पगड़ी उतारने के लिए मजबूर किया जाना शामिल है। उस समय अकाली दल ने तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को आड़े हाथों लिया था। लेकिन इस मसले का कोई हल नहीं निकला।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उड़न परी’ PT उषा, कलम के जादूगर राजामौली के पिता, संगीत के मास्टर इलैयाराजा, जैन विद्वान हेगड़े: राज्यसभा के लिए 4 नाम, PM मोदी...

पीटी उषा, विजयेंद्र गारू, इलैयाराजा और वीरेंद्र हेगड़े को राज्यसभा के लिए मनोनीत किए जाने पर पीएम मोदी ने इन सभी को प्रेरणास्त्रोत बताया है।

‘आर्यभट्ट पर कोई फिल्म नहीं, उन्होंने मुगलों पर बनाई मूवी’: बोले फिल्म ‘रॉकेट्री’ के डायरेक्टर आर माधवन – नंबी का योगदान किसी को नहीं...

"आर्यभट्ट पर कोई फिल्म नहीं बनाना चाहता था। इसके बजाय, उन्होंने मुगल-ए-आज़म बनाया... रॉकेट्री: नांबी इफेक्ट अभी शुरुआत है।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
204,170FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe