Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजशाहीन बाग ने ली इंजीनियर की नौकरी, रास्ता खुलवाने को कैंडल मार्च निकालेंगी महिलाएँ

शाहीन बाग ने ली इंजीनियर की नौकरी, रास्ता खुलवाने को कैंडल मार्च निकालेंगी महिलाएँ

सॉफ्टवेयर इंजीनियर प्रशांत के अनुसार पहले वे 40-45 मिनट में ऑफिस पहुॅंच जाते थे। अब 3 घंटे से ज्यादा लग रहा था। बावजूद वे इसके टाइम पर नहीं पहुॅंच पाते थे और 37 दिन से हाफ डे की अटेंडेंस लग रही थी। सैलरी आधी हो गई और सफर का खर्च दोगुना।

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में शाहीन बाग में समुदाय विशेष की औरतों ने डेरा डाल रखा है। इसके कारण कालिंदी कुंज-नोएडा रोड बंद है। इसकी वजह से आसपास के लोगों को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार रोड बंद होने से परेशान होकर एक इंजीनियर को नौकरी छोड़नी पड़ी है। अब रास्ता खुलवाने के लिए आसापास की मुहल्लों की महिलाएँ कैंडल मार्च निकालने की योजना बना रही हैं।

खबर के मुताबिक नॉलेज पार्क की एक आईटी कंपनी के सॉफ्टवेयर इंजीनियर का कहना है कि कालिंदी कुंज मार्ग बंद होने की वजह से उनके घर से ऑफिस तक का सफर काफी लंबा हो गया था। इस वजह से उन्हें आर्थिक और शारीरिक दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इसको लेकर वो पिछले 37 दिन से परेशान थे और इस समस्या की वजह से आखिरकार नौकरी छोड़ने का फैसला लेना पड़ा।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक सॉफ्टवेयर इंजीनियर प्रशांत ग्रेटर नोएडा में रहते हैं। ऑफिस जाने में उन्हें 40-45 मिनट लगता था। सब कुछ बड़े ही आराम से चल रहा था। लेकिन कालिंदी कुंज रोड बंद होने के बाद उनकी परेशानी बढ़ गई। प्रशांत को ऑफिस पहुँचने में 3 से साढ़े 3 घंटे लगने लगे। उन्होंने समय से ऑफिस पहुँचने की काफी कोशिश की, लेकिन जाम इतना ज्यादा होता था कि रोज लेट पहुँचते थे। 37 दिन से हाफ डे की अटेंडेंस लग रही थी। सैलरी आधी हो गई और सफर का खर्च दोगुना। 6-7 घंटे रोड पर बीतने लगा, उसके बाद 9 घंटे की नौकरी। इतनी मेहनत के बाद भी सैलरी आधी मिल रही थी। ऐसे में जॉब कर पाना उनके लिए संभव नहीं हो पा रहा था।

प्रशांत का कहना है कि उन्होंने इस परेशानी के बारे में ऑफिस में भी बताया लेकिन उन्होंने उनकी परेशानी नहीं सुनी और हाफ डे अटेंडेंस लगने लगी। प्रशांत ने कुछ दिन तक इंतजार किया कि शायद लोगों की परेशानी समझते हुए रास्ता खोलने का फैसला ले लिया जाए। लेकिन, ऐसा नहीं होने पर सोमवार (जनवरी 20, 2020) को उन्होंने नौकरी से इस्तीफा दे दिया।

नवभारत टाइम्स में छपी खबर

वहीं अब इस बंद के खिलाफ स्थानीय निवासी कैंडल मार्च निकालने की तैयारी में हैं। इसकी जिम्मेदारी महिलाओं को सौंपी गई है। स्थानीय लोगों का कहना है कि नोएडा स्थित अपने स्कूल और कॉलेजों में उत्तरी-बाहरी दिल्ली के स्टूडेंट्स समय पर नहीं पहुँच पा रहे हैं। इसके अलावा नौकरीपेशा लोग भी बुरी तरह से प्रभावित हैं। रोड बंदी के कारण समय की बर्बादी हो रही है।

‘…अब तो मैं जिंदा घर नहीं जा पाऊँगी’ – शाहीन बाग से जान बचाकर भागी लड़की की आपबीती

क़ानून व्यवस्था बहाल करे पुलिस: शाहीन बाग़ में पिकनिक मना रहे लोगों पर हाई कोर्ट हुआ सख़्त

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

योनि, मूत्रमार्ग, गुदा, मुँह में लिंग प्रवेश से ही रेप नहीं… जाँघों के बीच रगड़ भी बलात्कार ही: केरल हाई कोर्ट

केरल हाई कोर्ट ने कहा कि महिला के शरीर का कोई भी हिस्सा, चाहे वह जाँघों के बीच की गई यौन क्रिया हो, बलात्कार की तरह है।

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसे बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,048FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe