Wednesday, May 22, 2024
Homeदेश-समाजमुंबई की आरे कॉलोनी में कलश यात्रा के दौरान पथराव, मंदिर को ढक लाउडस्पीकर...

मुंबई की आरे कॉलोनी में कलश यात्रा के दौरान पथराव, मंदिर को ढक लाउडस्पीकर पर लगाई रोक

"हमने 25 लोगों को गिरफ्तार किया है और अब स्थिति शांतिपूर्ण है। संघर्ष का कारण समूहों के बीच की गलतफहमी थी। कुछ लोगों को मामूली चोटें आई हैं। मामला दर्ज कर लिया गया है।"

मुंबई (Mumbai) की आरे कॉलोनी में कलश यात्रा के दौरान दो समूहों के बीच पथराव (Stone pelting) की घटना हुई, जिसमें 8-10 लोग घायल हो गए। एक पुलिस अधिकारी ने सोमवार (18 अप्रैल 2022) को यह जानकारी दी। घटना रविवार (17 अप्रैल 2022) रात की है। आरे कॉलोनी के गौतम नगर इलाके में शिव मंदिर से कलश यात्रा निकाले जाने के बाद यह झड़प हुई।

पुलिस ने बताया कि हंगामा रविवार रात करीब 8.00 बजे उस वक्त शुरू हुआ जब एक समूह शिव मंदिर से कलश यात्रा लेकर निकल रहा था। जैसे ही यह समूह बुद्ध नगर से गुजरने लगा तो कुछ निवासियों ने इसका विरोध किया और जुलूस को आगे नहीं जाने दिया। इसके बाद दोनों समूहों में बहस होने लगी। धीरे-धीरे बहस ने हिंसा का रूप ले लिया। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे पर पथराव शुरू कर दिया।

पुलिस ने इस मामले में अब तक 25 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक स्थिति नियंत्रण में है। एडिशनल पुलिस कमिश्नर प्रवीण पड़वाल ने कहा, “हमने 25 लोगों को गिरफ्तार किया है और अब स्थिति शांतिपूर्ण है। संघर्ष का कारण समूहों के बीच की गलतफहमी थी। कुछ लोगों को मामूली चोटें आई हैं। हमने मामला दर्ज कर लिया है।” डीसीपी सोमनाथ घारगे ने बताया कि दोनों समूहों ने एक-दूसरे के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है। मामले में और अधिक गिरफ्तारियाँ हो सकती है। वहीं इस घटना के बाद एहतियातन मंदिर को ढक दिया गया है और लाउडस्पीकर के इस्तेमाल पर भी रोक लगा दी गई है।

इससे पहले महाराष्ट्र के अमरावती जिले के अचलपुर शहर में दो समुदायों के बीच टकराव की खबर सामने आई थी। यह हिंसक झड़प धार्मिक झंडा हटाने को लेकर हुआ था। दोनों गुटों ने एक-दूसरे पर पथराव किया। उन्हें तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आँसू गैस के गोले दागे थे। हिंसा के बाद इलाके में कर्फ्यू लगा दिया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ध्वस्त कर दिया जाएगा आश्रम, सुरक्षा दीजिए’: ममता बनर्जी के बयान के बाद महंत ने हाईकोर्ट से लगाई गुहार, TMC के खिलाफ सड़क पर...

आचार्य प्रणवानंद महाराज द्वारा सन् 1917 में स्थापित BSS पिछले 107 वर्षों से जनसेवा में संलग्न है। वो बाबा गंभीरनाथ के शिष्य थे, स्वतंत्रता के आंदोलन में भी सक्रिय रहे।

‘ये दुर्घटना नहीं हत्या है’: अनीस और अश्विनी का शव घर पहुँचते ही मची चीख-पुकार, कोर्ट ने पब संचालकों को पुलिस कस्टडी में भेजा

3 लोगों को 24 मई तक के लिए हिरासत में भेज दिया गया है। इनमें Cosie रेस्टॉरेंट के मालिक प्रह्लाद भुतडा, मैनेजर सचिन काटकर और होटल Blak के मैनेजर संदीप सांगले शामिल।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -