Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजसूरत नगर निगम ने बनाया शेल्टर होम, शाहिद मसीद सोसायटी को दिया चलाने: हिंदू...

सूरत नगर निगम ने बनाया शेल्टर होम, शाहिद मसीद सोसायटी को दिया चलाने: हिंदू को प्रताड़ना-मुस्लिमों पर कृपा, जाँच के बाद ब्लैक लिस्टेड

पार्षद केयूर चपटवाला द्वारा की गई शिकायत के अनुसार शेल्टर होम में हिंदुओं को न सिर्फ प्रताड़ित किया जा रहा है, बल्कि उनको शेल्टर होम छोड़कर जाने के लिए बाध्य भी किया जाता है।

गुजरात के सूरत में शेल्टर होम का प्रबंध करने वाली ट्रस्ट पर धर्म के आधार पर भेदभाव करने का आरोप लगा है। स्थानीय पार्षद ने इस मामले में शिकायत दर्ज कराई है। आरोपों के अनुसार शहर के रांदेर के गोराट इलाके में संचालित शेल्टर होम में रहने वाले हिंदू आश्रितों को परेशान किया जा रहा है, जबकि मुस्लिमों को खास सुविधाएँ दी जा रही हैं। आश्रय गृह सूरत नगर निगम (SMC) के दायरे में आता है। लेकिन इसे चलाने की जिम्मेदारी शाहिद मसीद मेडिकल सर्वेंट सोसायटी नाम के ट्रस्ट को दी गई थी। भेदभाव समेत कई अनियमितताओं की वजह से ट्रस्ट को ब्लैक लिस्टेड कर दिया गया है।

बीजेपी के पार्षद केयूर चपटवाला ने सूरत के मेयर हेमाली बोघावाला से ट्रस्ट की शिकायत की थी। शिकायत मिलने के बाद मेयर खुद शेल्टर होम का दौरा करने पहुँचीं। शेल्टर होम में मेयर के अचानक दौरे से हड़कंप मच गया। मेयर द्वारा किए गए निरीक्षण में शेल्टर होम में कई अनियमितताएँ पाई गईं। मेयर ने जाँच के दौरान पाया कि आश्रय गृह परिसर का ठीक से रखरखाव नहीं किया जा रहा है। इतना ही नहीं शेल्टर होम चलाने वाले ट्रस्ट द्वारा बिजली बिलों का भी भुगतान नहीं किया गया था।

औचक निरीक्षण के दौरान जब मेयर हेमाली बोघावाला ने शेल्टर होम में रहने वाले आश्रितों की सूची माँगी तो कर्मचारियों के हाथ-पैर फूलने लगे। ट्रस्ट ने दावा किया कि यहाँ 300 लोग रहते हैं, जबकि जाँच में सिर्फ 100 लोग ही मिले। हेमाली बोघावाला ने पार्षद की शिकायत पर की गई जाँच में आरोपों को सही पाए जाने के बाद शाहिद मसीद मेडिकल सर्वेंट सोसाइटी को ब्लैकलिस्ट करने के आदेश दिए।

शाहिद मसीद मेडिकल सर्वेंट सोसायटी पिछले दो वर्षों से इस शेल्टर होम के प्रबंधन की जिम्मेदारी सँभाल रहा था। इस दौरान अनियमितताओं को लेकर कई बार संगठन को नोटिस भी भेजे जा चुके थे। कुछ दिन पहले ही शिकायत आई थी कि परिसर में एक व्यक्ति को बुरी तरह पीटा गया। पिटाई से जख्मी शख्स को इलाज के लिए सूरत के सिविल अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था। पार्षद केयूर चपटवाला द्वारा की गई शिकायत के अनुसार शेल्टर होम में हिंदुओं को न सिर्फ प्रताड़ित किया जा रहा है, बल्कि उनको शेल्टर होम छोड़कर जाने के लिए बाध्य भी किया जाता है।

बता दें कि सूरत महानगर पालिका की ओर से शहर के अलग-अलग हिस्सों में गरीब और निराश्रित लोगों के लिए शेल्टर होम का निर्माण कराया गया है। इसे चलाने की जिम्मेदारी अलग-अलग संस्था व ट्रस्ट के लोगों को दी जाती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -