Tuesday, April 16, 2024
Homeदेश-समाजड्रग्स मामले में दीपेश गिरफ्तार, NCB कर रही 'बड़ी मछली' की तलाश: मौत से...

ड्रग्स मामले में दीपेश गिरफ्तार, NCB कर रही ‘बड़ी मछली’ की तलाश: मौत से पहले अपने पैसों को लेकर चिंतित थे सुशांत

"कस्टडी में लेने का मुख्य मकसद उनके रोल के बारे में जानना है। हमें मीडिया से काफी सबूत मिले हैं। एनसीबी कंप्लेंट केस दर्ज करती है पुलिस की तरह FIR नहीं होती है। कंप्लेंट केस में हमारे पास 60 दिन का समय होता है लेकिन बड़े केस में हमें 6 महीने मिलते हैं। पूछताछ के लिए जो लोग रिलेवेंट हैं हम उसे बुलाएँगे। जिसमें रिया भी शामिल है। हमें बड़ी मछली की तलाश है।"

बॉलीवुड एक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सामने आए ड्रग कनेक्‍शन के बाद नारकोटिक्स नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) को अब ‘एक बड़ी मछली’ की तलाश है। NCB ने अब सुशांत के घर के हेल्पर दीपेश सावंत को भी गिरफ्तार कर लिया है। वहीं एक चैट के जरिए इस बात का खुलासा हुआ है कि मौत से पहले सुशांत अपने पैसों को लेकर काफी चिंतित थे।

एनसीबी के डिप्टी डायरेक्टर केपीएस मल्होत्रा ने कहा, “एनसीबी ने सुशांत सिंह मौत केस को लेकर उनके हाउस हेल्पर दीपेश सावंत को गिरफ्तार किया है। मल्होत्रा ने कहा, “ड्रग्स की खरीद और उसके रख-रखाव में सावंत के खिलाफ डिजिटल साक्ष्य और बयानों के आधार पर यह गिरफ्तारी हुई है। उसे रविवार की सुबह 11 बजे कोर्ट में पेश किया जाएगा। गिरफ्तार किए गए लोगों की आमने-सामने बिठाकर पूछताछ की जा रही है।”

बता दें ड्रग्स मामले में एनसीबी ने अबतक 4 लोगों को हिरासत में लिया है। जिनमें शोविक चक्रवर्ती, सैमुअल मिरांडा, जैद विलात्रा (21) और आब्देल बासित परिहार (23) शामिल है। रिया का भाई शोविक और सुशांत के हाउस मैनेजर रहे सैमुअल 9 सितंबर तक एनसीबी की रिमांड पर रहेंगे। ड्रग्स की खरीदारी की बात कबूलने पर एनसीबी उनके खिलाफ IPC सेक्शन 20 (B) के तहत केस दर्ज किया है।

NCB के अधिकारी ने कहा, “कस्टडी में लेने का मुख्य मकसद उनके रोल के बारे में जानना है। हमें मीडिया से काफी सबूत मिले हैं। एनसीबी कंप्लेंट केस दर्ज करती है पुलिस की तरह FIR नहीं होती है। कंप्लेंट केस में हमारे पास 60 दिन का समय होता है लेकिन बड़े केस में हमें 6 महीने मिलते हैं। पूछताछ के लिए जो लोग रिलेवेंट हैं हम उसे बुलाएँगे। जिसमें रिया भी शामिल है। हमें बड़ी मछली की तलाश है।”

अधिकारी ने कहा, ‘हम इस जाँच को रेशनल रिजल्ट तक ले जाएँगे। अगर इस मामले में कंगना रनौत कुछ शेयर करेंगी तो उसकी भी तहकीकात की जाएगी। साथ ही ड्रग्स केस में कोई इंटरनेशनल और इंटरस्टेट कड़ी होने की स्थिति में उसकी भी जाँच की जाएगी।

चैट से हुआ खुलासा, पैसों को लेकर चिंतित थे सुशांत

एबीपी की एक्सक्लूसिव जानकारी के अनुसार, सुशांत सिंह राजपूत और महिंद्रा बैंक के रिलेशनशिप मैनेजर हरीश के बीच हुए व्हाट्सएप चैट के जरिए यह बात सामने आई है कि सुशांत अपनी मेहनत की कमाई के पैसों को लेकर काफी टेंशन में थे। वो किसी से अपने पैसों को बचाना चाहते थे। एक तरफ जहाँ सुशांत अपने फिज़ूल खर्चे को रोकना चाहते थे वहीं वे बैंक अकाउंट का ऐक्सेस भी अपने कंट्रोल में करना चाहते थे।

वहीं सुशांत के फ्लैटमेट सिद्धार्थ ने भी जाँच एजेंसी को दिए अपने बयान में कहा था, “सुशांत ने मुझे बताया कि उनकी हालात फ़िलहाल ठीक नहीं उन्हें मेरे साथ की जरुरत है। मैं फ़ौरन अहमदाबाद से मुंबई सुशांत के घर पहुँचा जब मैं सुशांत के बेडरूम में पहुँचा तो सुशांत मुझ से गले लगकर रोने लगा। रोते रोते उसने मुझे बताया कि वो एक्टिंग छोड़कर घर का सब कुछ बेचकर पावना के फार्म पर रहने जाने वाले है। साथ सुशांत ने बताया कि अब महिने के घर का खर्च का बजट केवल 30000 में पूरा करना है। सुशांत ने आगे कहा कि वो पावना के फार्म हाउस में खेती करने वाले है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी की गारंटी’ भी होगी पूरी: 2014 और 2019 में किए इन 10 बड़े वादों को मोदी सरकार ने किया पूरा, पढ़ें- क्यों जनता...

राम मंदिर के निर्माण और अनुच्छेद 370 को निरस्त करने से लेकर नागरिकता संशोधन अधिनियम को अधिसूचित करने तक, भाजपा सरकार को विपक्ष के लगातार कीचड़ उछालने के कारण पथरीली राह पर चलना पड़ा।

‘वित्त मंत्री रहते RBI पर दबाव बनाते थे P चिदंबरम, सरकार के लिए माहौल बनाने को कहते थे’: बैंक के पूर्व गवर्नर ने खोली...

आरबीआई के पूर्व गवर्नर पी सुब्बाराव का दावा है कि यूपीए सरकारों में वित्त मंत्री रहे प्रणब मुखर्जी और पी चिदंबरम रिजर्व बैंक पर दबाव डालते थे कि वो सरकार के पक्ष में माहौल बनाने वाले आँकड़ें जारी करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe