Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजसुशांत के परिवार ने CBI को पत्र लिख मेडिकल रिपोर्ट की समीक्षा करने की...

सुशांत के परिवार ने CBI को पत्र लिख मेडिकल रिपोर्ट की समीक्षा करने की माँग की: AIIMS पैनल को बताया- अनप्रोफेशनल

"डॉ.सुधीर गुप्ता का आचरण सरकारी सेवा आचरण के नियमों और एमसीआई दिशानिर्देशों के उल्लंघन में अनैतिक और गैर-पेशेवर है। उनकी ओर से इस आपराधिक दुस्साहस ने एम्स जैसे प्रमुख संस्थान में सार्वजनिक विश्वास को कम किया है। उन्होंने लाखों लोगों के मन में जाँच की निष्पक्षता को लेकर संदेह पैदा किया है।"

सुशांत सिंह राजपूत के परिवार ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की ओर से सीबीआई को सौंपी गई फॉरेंसिंक एग्जामिनेशन रिपोर्ट पर सवाल उठाए हैं। मृतक अभिनेता के परिवार की तरफ से सीबीआई डायरेक्टर को लेटर लिख कर मुंबई अस्पताल द्वारा शव परीक्षण और विसरा रिपोर्ट की समीक्षा के लिए एक नए मेडिकल बोर्ड के गठन की माँग की गई है।

सुशांत सिंह राजपूत मामले में वकील विकास सिंह ने केंद्रीय जाँच एजेंसी सीबीआई को एक पत्र लिखा है जिसमें एम्स पैनल के प्रमुख पर ‘अनैतिक’ और ‘अनप्रोफेशनल’ होने का आरोप लगाया गया है।

केंद्रीय जाँच एजेंसी को लिखे गए अपने पत्र में राजपूत के परिवार ने पैनल और एम्स फॉरेंसिक विभाग के प्रमुख डॉ. सुधीर गुप्ता पर निशाना साधते हुए मीडिया में रिपोर्ट लीक करने का आरोप लगाया।

विकास सिंह ने अपने पत्र में लिखा, “डॉ.सुधीर गुप्ता का आचरण सरकारी सेवा आचरण के नियमों और एमसीआई दिशानिर्देशों के उल्लंघन में अनैतिक और गैर-पेशेवर है। उनकी ओर से इस आपराधिक दुस्साहस ने एम्स जैसे प्रमुख संस्थान में सार्वजनिक विश्वास को कम किया है। उन्होंने लाखों लोगों के मन में जाँच की निष्पक्षता को लेकर संदेह पैदा किया है।”

सिंह ने आगे लिखा कि उन्हें व्यक्तिगत रूप से महसूस हुआ है कि एम्स की फोरेंसिक टीम ने कूपर अस्पताल में किए गए पोस्टमार्टम की खामियों पर एक स्पष्ट राय नहीं दी है और इसके बजाय वह रिपोर्ट दी है जिसके लिए उनसे नहीं कहा गया था।

उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले को सीबीआई की ओर से गठित किसी और फॉरेंसिक टीम को रेफर किया जाए, ताकि कूपर अस्पताल की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट की सही और उचित जाँच हो सके।

बता दें सुशांत के परिवार वालों ने सुशांत के कथित आत्महत्या के मामले को मानने से मना कर दिया था और इसके पीछे गहरी साजिश बताई थी। जिसे देखते हुए मामले में सीबीआई जाँच के बाद एम्स फॉरेंसिक पैनल बोर्ड का गठन किया गया था।

इससे पहले, मीडिया रिपोर्टों में कहा गया था कि एम्स के डॉक्टर डॉ. सुधीर गुप्ता ने दावा किया था कि इस मामले की जाँच करने वाली मेडिकल टीम ने सुशांत सिंह मामले में ‘हत्या के एंगल’ को खारिज कर दिया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe