Wednesday, April 17, 2024
Homeदेश-समाजटैगोर इंटरनेशनल स्कूल ने हिंदू छात्राओं को हिजाब पहनाकर दिलवाया इस्लाम का संदेश, पहले...

टैगोर इंटरनेशनल स्कूल ने हिंदू छात्राओं को हिजाब पहनाकर दिलवाया इस्लाम का संदेश, पहले भी रह चुका है विवादों में

एक और हिन्दू छात्रा दीक्षा पंडित स्क्रीन पर इस्लामी आस्था के पाँच स्तंभों के बारे में दर्शकों को सूचित करती है। उसने भी हिजाब पहना हुआ था। यह स्पष्ट नहीं है कि इस प्रक्रिया में हिंदू लड़कियों को शामिल करने की क्या जरूरत थी?

टैगोर इंटरनेशनल स्कूल एक बार फिर से विवादों में है। दरअसल इस बार इस स्कूल ने अपनी हिंदू छात्राओं से इस्लामिक त्योहार ईद पर लोगों का अभिवादन करते समय हिजाब पहनने के लिए कहा। इसका एक वीडियो स्कूल के YouTube चैनल पर अगस्त 04, 2020 को अपलोड किया गया जिसे कैप्शन दिया गया, “ईद-उल-अजहा के शुभ अवसर पर बधाई।”

वीडियो में, इशिता वर्मा नाम की एक छात्रा ने इस्लामिक त्योहार के बारे में जानकारी दी। जिसे सुनकर ऐसा लगता है कि उसने इसे पहले से याद किया हो। हालाँकि, वीडियो से यह पता नहीं चल पा रहा है कि इशिता वर्मा किस कक्षा की छात्रा है। वीडियो में इशिता बताती है कि किस तरह से इब्राहीम (इस्लामी ग्रंथों में इब्राहिम) अल्लाह की आज्ञा से अपने 13 साल के बेटे इस्माइल का बलिदान करने के लिए तैयार था मगर देवदूत गेब्रियल ने इसे रोक दिया।

YouTube screengrab

इसके तुरंत बाद, एक और हिंदू लड़की, दीक्षा पंडित स्क्रीन पर इस्लामी आस्था के पाँच स्तंभों के बारे में दर्शकों को सूचित करती है। उसने भी हिजाब पहना हुआ था। ईद मुबारक की कामना करने के लिए वीडियो में भाग लेने वालों में मुस्लिम छात्र भी थे। हालाँकि, यह स्पष्ट नहीं है कि इस प्रक्रिया में हिंदू लड़कियों को शामिल करने की क्या जरूरत थी।

यह सेक्युलरिज्म के उसी ब्रांड की तरह प्रतीत होता है जिसकी माँग होती है कि सांप्रदायिक सौहार्द और बेहतर पारस्परिक संबंधों की खातिर हिंदू घुटनों पर झुकें। इसके अलावा, हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनाने का कोई औचित्य नहीं है, विशेष रूप से एक ऐसी उम्र में, जिसमें वे खुद के लिए खुल कर नहीं सोच सकती हैं।

वीडियो में जो दिखाया जा रहा है, उससे साफ पता चल रहा है कि ब्रेनवॉश किए गए बच्चों का इस्तेमाल करके दूसरे बच्चों के ब्रेनवॉश की भी कोशिश की जा रही है। टैगोर इंटरनेशनल स्कूल वही है, जो हाल ही में एक एलजीबीटी की पैरवी करने वाले समूह ‘नजरिया क्यूएफआरजी’ की एक एक्टिविटी के कारण विवादों में था। इस एक्टिविटी में बच्चों के लिए ऐसी कलरिंग बुक दी गईं थीं, जिनमें हस्तमैथुन करने वाली नग्न महिलाओं वाली कलर बुक शामिल थीं।

उन्होंने हादिया के मुद्दे पर भी बच्चों का ब्रेनवॉश किया। हादिया वही लड़की है जिसने अपने पति से शादी करने के लिए इस्लाम धर्म कबूला था। एएनआई इसकी जाँच कर रही है। कट्टरपंथी इस्लामी संगठन पीएफआई ने इसके ऊपर अदालती मामलों में 1 करोड़ रुपए खर्च किए।

इस तरह से हादिया के लव जिहाद मामले के बारे में बच्चों का ब्रेनवॉश करने के बाद, अब यह हिंदू लड़कियों को हिजाब पहनकर वीडियो पर दिखा रहा है। यह एक अत्यंत घातक परम्परा है, जिसके विनाशकारी परिणाम हो सकते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नॉर्थ-ईस्ट को कॉन्ग्रेस ने सिर्फ समस्याएँ दी, BJP ने सम्भावनाओं का स्रोत बनाया: असम में बोले PM मोदी, CM हिमंता की थपथपाई पीठ

PM मोदी ने कहा कि प्रभु राम का जन्मदिन मनाने के लिए भगवान सूर्य किरण के रूप में उतर रहे हैं, 500 साल बाद अपने घर में श्रीराम बर्थडे मना रहे।

शंख का नाद, घड़ियाल की ध्वनि, मंत्रोच्चार का वातावरण, प्रज्जवलित आरती… भगवान भास्कर ने अपने कुलभूषण का किया तिलक, रामनवमी पर अध्यात्म में एकाकार...

ऑप्टिक्स और मेकेनिक्स के माध्यम से भारत के वैज्ञानिकों ने ये कमाल किया। सूर्य की किरणों को लेंस और दर्पण के माध्यम से सीधे राम मंदिर के गर्भगृह में रामलला के मस्तक तक पहुँचाया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe