Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजहाथी पर जलता कपड़ा फेंका, दर्द से छटपटाया फिर तोड़ दिया दम: Video वायरल

हाथी पर जलता कपड़ा फेंका, दर्द से छटपटाया फिर तोड़ दिया दम: Video वायरल

जून 2020 में केरल में भी ऐसा ही मामला सामने आया था, जब कुछ लोगों ने एक गर्भवती हथिनी को बारूद से भरा अनानास खिला दिया था। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर तब लोगों ने एक ऑनलाइन पिटिशन भी साइन किया था।

तमिलनाडु के नीलगिरी में एक हाथी की मौत ने सभी को झकझोर कर रख दिया है। बताया जा रहा है कि किसी शख्स ने जलते कपड़े को हाथी के ऊपर फेंक दिया था, जिसकी वजह से हाथी बुरी तरह घायल हो गया और कुछ दिन बाद मंगलवार (जनवरी 19, 2021) को इलाज के लिए ले जाने के दौरान उसकी मौत हो गई। 

क्या है मामला 

पूरा मामला नीलगिरी के मसिनागुड़ी क्षेत्र का है। कथित तौर पर यहाँ किसी ने कपड़े में आग लगाकर उसे 40 वर्षीय एक हाथी के ऊपर फेंक दिया। जिसके चलते हाथी दर्द से इधर-उधर भागने लगा। इस दौरान उसके कान के आसपास का हिस्सा बुरी तरह झुलस गया। 

इलाज के दौरान तोड़ा दम 

घायल हालत में इस हाथी को देखकर वन रेंजर्स उपचार के लिए ले गए। हालाँकि, वन विभाग के स्टाफ द्वारा किए जा रहे तमाम प्रयासों के बावजूद भी हाथी को बचाया नहीं जा सका। इसके बाद हाथी को क्रेन के जरिए ट्रक पर लादकर अंतिम क्रिया के लिए ले जाया गया।

अधिकारियों को घटना का वीडियो भी मिला है। एमटीआर के उप निदेशक ने एक बयान में कहा, “मसिनागुड़ी क्षेत्र में घायल नर हाथी की बचाव और उपचार प्रक्रिया के दौरान 19.01.21 को मौत हो गई थी। हमने खुफिया जानकारी जुटाई और जाँच की और हाथी को आग से चोट पहुँचाने के बारे में एक प्रूफ वीडियो हासिल किया।”

वीडियो के आधार पर दो व्यक्तियों को हिरासत में लिया गया है। इनकी पहचान प्रसाथ और रेमंड डीन के तौर पर हुई है। दोनों मावनाला के रहने वाले हैं। इसके अलावा रिकी रेयान नाम के एक और शख्स के इसमें शामिल होने की बात बताई जा रही है। 

अधिकारी ने बताया, “हिरासत में लिए गए दो लोगों को आज गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें रिमांड पर भेजा जाएगा। आगे की जाँच की जा रही है।”

एमटीआर के उपनिदेशक ने उन रिपोर्टों का भी खंडन किया कि हाथी पर जलते हुए टायर फेंके जाने के बात कही गई थी। उन्होंने कहा, “वास्तव में यह वह कपड़ा है जिसे हाथी का पीछा करने के लिए जलाया गया था और अंत में उस पर फेंक दिया गया था। यह आरोपित व्यक्तियों द्वारा भी स्वीकार किया गया।” बता दें कि कुछ मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हाथी के ऊपर जलता हुए टायर फेंका गया था।

वायरल वीडियो में उसी हाथी के होने की भी आशंका जताई जा रही है जिसमें एक रेंजर को रोते हुए देखा जा सकता है। सोशल मीडिया पर इस हाथी का जो वीडियो सामने आया है, उसमें एक वन रेंजर को ट्रक में मृत पड़े हाथी की सूँड़ पकड़कर रोते देखा जा सकता है। इस वीडियो ने सोशल मीडिया पर कई लोगों को भावुक कर दिया और लोग हाथी के साथ इस बर्बर वारदात को अंजाम देने वालों के खिलाफ कार्रवाई की माँग कर रहे हैं। वायरल वीडियो में अधिकारी को कहते हुए सुना जा सकता है, “मैं किससे बात करूँगा? मैं किसका ध्यान रखूँगा? हे भगवान, आइ एम सॉरी।”

तमिलनाडु में करंट लगने से हाथी की मौत

गौरतलब है कि इससे पहले तमिलनाडु में कोयंबटूर के बाहरी इलाके में स्थित एक गाँव के धान के खेत के आसपास लगाई बाड़ में बिजली का तार अवैध तरीके से जोड़ दिया गया था, जिसके संपर्क में आने के कारण 15 वर्षीय नर हाथी की मौत हो गई थी। वन अधिकारियों ने बताया था कि सेम्मेदु गाँव के निवासियों ने इलाके में हाथी की मौजूदगी के बारे में वन विभाग के अफसरों को सूचना दी थी। वन विभाग के पशु चिकित्सक ने हाथी की जाँच की और बताया कि उसकी मौत करंट लगने से हुई।

केरल में भी हो चुकी है ऐसी घटना

उल्‍लेखनीय है कि जून 2020 में केरल में भी ऐसा ही मामला सामने आया था, जब कुछ लोगों ने एक गर्भवती हथिनी को बारूद से भरा अनानास खिला दिया था। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर तब लोगों ने एक ऑनलाइन पिटिशन भी साइन किया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe