Thursday, April 15, 2021
Home देश-समाज मुस्लिम युवाओं को कट्टरपंथी बना रहे PFI और SDPI: तीस्ता सीतलवाड़ और नोमानी ने...

मुस्लिम युवाओं को कट्टरपंथी बना रहे PFI और SDPI: तीस्ता सीतलवाड़ और नोमानी ने निजी बातचीत में कबूली

समाचार चैनल टाइम्स नाउ द्वारा एक्सेस किए गए एक टेप में, स्वराज अभियान से जुड़े कार्यकर्ता जिया नोमानी को कट्टरपंथी इस्लामिक संगठनों द्वारा उत्पन्न खतरे को लेकर चिंता जताते हुए सुना जा सकता है।

तीस्ता सीतलवाड़ और स्वराज अभियान से जुड़े वामपंथी कार्यकर्ता जिया नोमानी निजी तौर पर स्वीकार करते हैं कि पीएफआई और एसडीपीआई जैसे संगठन देश के मुस्लिम युवाओं को कट्टरपंथी बनाते हैं।

समाचार चैनल टाइम्स नाउ द्वारा एक्सेस किए गए एक टेप में, स्वराज अभियान से जुड़े कार्यकर्ता जिया नोमानी को कट्टरपंथी इस्लामिक संगठनों द्वारा उत्पन्न खतरे को लेकर चिंता जताते हुए सुना जा सकता है।

टाइम्स नाउ द्वारा एक्सेस किए गए टेप में, ज़िया नोमानी तीस्ता सीतलवाड़ से कहते हैं, “मुझे पूरा यकीन है कि आप सभी को बेंगलुरु में होने वाली दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं को लेकर देश में सेट हो रहे नैरेटिव से काफी चिंता होगी। हम आरएसएस से लड़ने की बात करते हैं और अगर हम मुस्लिम समुदाय से आने वाले दक्षिणपंथियों से नहीं लड़ते हैं, तो हमें उनसे लड़ने का नैतिक अधिकार नहीं है। क्योंकि यह ढोंग है।”

जिया नोमानी ने आगे कहा, “अगर हम SDPI और PFI जैसे संगठनों से नहीं लड़ते हैं। अब हमारे बीच मतभेद हो सकते हैं और हम इस पर बहस कर सकते हैं कि इस तरह के संगठनों पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए या नहीं, लेकिन युवाओं के कट्टरता के लिए उन पर मुकदमा जरूर चलाया जाना चाहिए।” जिया नोमानी का यह भी कहना है कि एसडीपीआई और पीएफआई अपने वैचारिक उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए हिंसा का उपयोग करने के लिए तैयार रहते हैं।

नोमानी ने यह भी कहा, “उन्हें (मुस्लिमों) गलत बताया जाता है। उन्हें सिर्फ इतना बताया जाता है कि बाबरी मस्जिद टूट गया। अब हमें बदला लेना है, क्योंकि न्यायिक व्यवस्था हमारे समर्थन में नहीं है।”

तीस्ता सीतलवाड़ ने जवाब दिया, “जहाँ कहीं भी मुस्लिम समुदाय में इस तरह की प्रवृत्ति विकसित हो रही है, इसके खिलाफ कड़े बयान नहीं दिए जाते हैं और यह गलत है … मैं केवल इतना कहूँगी कि एसडीपीआई और पीएफआई हमारे जैसे लोगों और हमारे संगठनों के लिए के समस्यात्मक है। हमने उनके साथ सार्वजनिक मंच साझा नहीं करने के लिए एक सार्वजनिक स्टैंड लिया है।” इस बातचीत में वे दोनों निजी तौर पर इस बात से सहमत दिखाई देते हैं कि एसडीपीआई और पीएफआई वाकई खतरनाक हैं।

कट्टरपंथी इस्लामी संगठन पीएफआई का हिंसा का इतिहास है। उनके सदस्य हिंसा के कई मामलों में जाँच के घेरे में हैं। दिल्ली दंगों की जाँच और नागरिकता संशोधन कानून के मद्देनजर देश भर में हुई हिंसा के दौरान पीएफआई की भूमिका संदिग्ध रही है और पीएफआई के कई सदस्यों को दंगों में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार भी किया गया है। हालाँकि, वामपंथी संगठन सार्वजनिक रूप से उनका विरोध करने में बहुत हिचकिचा रहे हैं, हालाँकि वे निजी तौर पर मानते हैं कि ये खतरनाक संगठन हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वीडियो और तस्वीरों ने कोर्ट की अंतरात्मा को हिला दिया है…’: दिल्ली दंगों में पिस्टल लहराने वाले शाहरुख को जमानत नहीं

दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली दंगों के आरोपित शाहरुख पठान को जमानत देने से इनकार कर दिया है।

ESPN की क्रांति, धार्मिक-जातिगत पहचान खत्म: दिल्ली कैपिटल्स और राजस्थान रॉयल्स के मैच की कॉमेंट्री में रिकॉर्ड

ESPN के द्वारा ‘बैट्समैन’ के स्थान पर ‘बैटर’ और ‘मैन ऑफ द मैच’ के स्थान पर ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ जैसे शब्दों का उपयोग होगा।

‘बेड दीजिए, नहीं तो इंजेक्शन देकर उन्हें मार डालिए’: महाराष्ट्र में कोरोना+ पिता को लेकर 3 दिन से भटक रहा बेटा

किशोर 13 अप्रैल की दोपहर से ही अपने कोरोना पॉजिटिव पिता का इलाज कराने के लिए भटक रहे हैं।

बाबा बैद्यनाथ मंदिर में ‘गौमांस’ वाले कॉन्ग्रेसी MLA इरफान अंसारी ने की पूजा, BJP सांसद ने उठाई गिरफ्तारी की माँग

"जिस तरह काबा में गैर मुस्लिम नहीं जा सकते, उसी तरह द्वादश ज्योतिर्लिंग बाबा बैद्यनाथ मंदिर में गैर हिंदू का प्रवेश नहीं। इरफान अंसारी ने..."

‘मुहर्रम के कारण दुर्गा विसर्जन को रोका’ – कॉन्ग्रेस के साथी मौलाना सिद्दीकी का ममता पर आरोप

भाईचारे का राग अलाप रहे मौलाना फुरफुरा शरीफ के वही पीरजादा हैं, जिन्होंने अप्रैल 2020 में वायरस से 50 करोड़ हिंदुओं के मरने की दुआ माँगी थी।

‘जब गैर मजहबी मरते हैं तो खुशी…’ – नाइजीरिया का मंत्री, जिसके अलकायदा-तालिबान समर्थन को लेकर विदेशी मीडिया में बवाल

“यह जिहाद हर एक आस्तिक के लिए एक दायित्व है, विशेष रूप से नाइजीरिया में... या अल्लाह, तालिबान और अलकायदा को जीत दिलाओ।”

प्रचलित ख़बरें

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

छबड़ा में कर्फ्यू जारी, इंटरनेट पर पाबंदी बढ़ी: व्यापारियों का ऐलान- दोषियों की गिरफ्तारी तक नहीं खुलेंगी दुकानें

राजस्थान के बाराँ स्थित छबड़ा में आबिद, फरीद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन भड़की हिंसा में मुस्लिम भीड़ ने 6 दर्जन के करीब दुकानें जला डाली थी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,215FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe