Wednesday, September 29, 2021
Homeदेश-समाजअगरबत्ती बेच कर पैसा कमाते तेज प्रताप यादव, कर्मचारी ने ही ठग लिए 71000...

अगरबत्ती बेच कर पैसा कमाते तेज प्रताप यादव, कर्मचारी ने ही ठग लिए 71000 रुपए

तेज प्रताप यादव ने अगरबत्ती का शोरूम भी पटना में रखा है। विधायक होने का घमंड जरा भी नहीं है। इस शोरूम में वो सेल्समैन की तरह अगरबत्ती के फायदे बताते देखे जा सकते हैं।

तेज प्रताप यादव बिहार विधान सभा के सदस्य हैं। महत्वाकांक्षी हैं। मेहनती हैं। विधायक की सैलरी के साथ-साथ अगरबत्ती भी बेचने का सोचे थे। कुछ एक्स्ट्रा कमा लेते। लेकिन इनके साथ भ्रष्टाचार (कभी इनके पिता और सजायाफ्ता कैदी लालू यादव ने भी भ्रष्टाचार किया था) हो गया। तेज प्रताप यादव की अगरबत्ती कंपनी के ही एक कर्मचारी ने इनसे 71000 रुपए ठग लिए, ऐसा आरोप लगाया गया है।

जिस कर्मचारी पर तेज प्रताप यादव ने 71000 रुपए की धोखाधड़ी का आरोप लगाया है, उनका नाम आशीष रंजन है। विधायक तेज प्रताप यादव ने पटना के एसके पुरी थाना को पत्र लिख कर इस बारे में शिकायत की है। तेज प्रताप के अनुसार आशीष रंजन उनकी अगरबत्ती कंपनी में मार्केटिंग का काम देखता है और बिना अनुमति के 71000 रुपए अपने अकाउंट में मँगवा लिए।

साभार: News18

LR Radha Krishna Agarbatti – तेज प्रताप यादव की अगरबत्ती कंपनी का नाम यही है। इस कंपनी में 71000 रुपए का हेरफेर करने का आरोप लगा कर विधायक तेज प्रताप यादव ने आशीष रंजन के खिलाफ तत्काल कानूनी कार्रवाई का अनुरोध किया है।

कपड़े-गाड़ियों के शोरूम आपने बहुत देखे होंगे। अगरबत्ती का शोरूम शायद न के बराबर। पटना में आप इसे भी देख सकते हैं। विधायक होने का घमंड तेज प्रताप यादव में जरा भी नहीं है। इस शोरूम में सेल्समैन की तरह अगरबत्ती के फायदे बताते देखे जा सकते हैं। इस वीडियो को आप यहाँ क्लिक कर देख सकते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,039FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe